होम /न्यूज /राष्ट्र /

अनुब्रत मंडल की गिरफ्तारी से फिर बैकफुट पर टीएमसी, बीजेपी बोली- भ्रष्टाचार में डूबा ममता बनर्जी का कुनबा

अनुब्रत मंडल की गिरफ्तारी से फिर बैकफुट पर टीएमसी, बीजेपी बोली- भ्रष्टाचार में डूबा ममता बनर्जी का कुनबा

मवेशी स्मगलिंग केस में टीएमसी नेता अनुब्रत मंडल को सीबीआई ने किया गिरफ्तार (फाइल फोटो)

मवेशी स्मगलिंग केस में टीएमसी नेता अनुब्रत मंडल को सीबीआई ने किया गिरफ्तार (फाइल फोटो)

TMC Leader Anubrata Mondal Arrest: बीरभूम जिले के तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष अनुब्रत मंडल को गुरुवार को सीबीआई ने मवेशी स्मगलिंग केस में गिरफ्तार कर लिया. इस कार्रवाई के बाद ममता बनर्जी सरकार पर फिर बैकफुट पर आ गई है. बीजेपी ने आरोप लगाया है कि मंडल की गिरफ्तारी साबित करती है कि सत्तारूढ़ दल भ्रष्टाचार में डूबा हुआ है. वहीं टीएमसी ने कहा कि कानून अपना काम करेगा. टीएमसी किसी भी तरह के भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं करेगी.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

भ्रष्टाचार पर पार्टी की जीरो टॉलरेंस पॉलिसी- टीएमसी सांसद
'टीएमसी नेताओं के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियां की कार्रवाई चिंताजनक'
अनुब्रत मंडल के पास 1,000 करोड़ रुपये की संपत्ति कैसे आई?- बीजेपी

कोलकाता: पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद टीएमसी नेता अनुब्रत मंडल की गिरफ्तारी ममता बनर्जी सरकार के लिए दूसरा बड़ा झटका है. बीरभूम जिले के तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष अनुब्रत मंडल को गुरुवार को मवेशी स्मगलिंग केस में गिरफ्तार किया गया. इससे पहले 22 जुलाई को शिक्षक भर्ती घोटाले में पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी हुई थी. जहां प्रवर्तन निदेशालय ने पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को अरेस्ट किया. वहीं अनुब्रत मंडल को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है.

इससे पहले पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी और अर्पिता मुखर्जी के घर से बरामद 50 करोड़ रुपये कैश, सोना और संपत्ति के दस्तावेजों ने टीएमसी को बैकफुट पर धकेल दिया थ. इसके बाद पार्टी ने कार्रवाई करते हुए पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से हटा दिया और पार्टी से भी निलंबित कर दिया. टीएमसी नेताओं की ये गिरफ्तारी ऐसे समय में हो रही है जब ममता बनर्जी विपक्ष का नेतृत्व करने की इच्छा जताई रही हैं.हालांकि इन गिरफ्तारियों के बाद टीएमसी अब वैट एंड वॉच की नीति अपना रही है.

बर्दाश्त नहीं करेंगे भ्रष्टाचार- टीएमसी

News18 से बातचीत में टीएमसी सांसद बिस्वजीत देब ने कहा कि, कानून अपना काम करेगा. टीएमसी किसी भी तरह के भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं करेगी , चाहे वह कोई भी हो. वहीं पार्टी सांसद शांतनु सेन ने कहा कि, पार्टी सही समय पर उचित निर्णय लेगी. लेकिन हम यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि टीएमसी भ्रष्टाचार के किसी भी मामले में समझौता नहीं करेगी. हमने भ्रष्टाचार और गलत कामों पर जीरो

टॉलरेंस पॉलिसी रखी है. हालांकि टीएमसी की सांसद माला साहा ने सीबीआई और ईडी जैसी केंद्रीय एजेंसियों पर बंगाल के नेताओं के खिलाफ कार्रवाई को लेकर चिंता जताई.

टीएमसी के सूत्रों ने News18 को बताया कि गुरुवार शाम को होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस में पार्टी अपना पक्ष रखेगी कि कानून इस मुद्दे पर अपना काम करेगा. सूत्रों ने कहा कि पार्टी केंद्रीय गृह मंत्रालय से सीमा पार मवेशी तस्करी को रोकने में बीएसएफ की विफलता पर भी सवाल उठाएगी और पूछेगी कि हावड़ा जिले में कांग्रेस के झारखंड विधायकों से नकद जब्ती में केंद्रीय एजेंसियों को रुचि क्यों नहीं थी.

अनुब्रत मंडल ममता को मोहरा- बीजेपी

वहीं सीबीआई की इस कार्रवाई के बाद बीजेपी टीएमसी पर फिर हावी हो गई है और आरोप लगाया है कि मंडल की गिरफ्तारी साबित करती है कि सत्तारूढ़ दल भ्रष्टाचार में डूबा हुआ है. भाजपा ने इस मामले पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बयान देने की मांग की है.

बंगाल बीजेपी नेता दिलीप घोष ने कहा कि, अब समय आ गया है कि मुख्यमंत्री अनुब्रत मंडल की गिरफ्तारी पर बयान दें. हम सभी जानते हैं कि वह शीर्ष टीएमसी नेतृत्व के करीबी थे. बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा, चटर्जी और अब मंडल की गिरफ्तारी बंगाल में ममता बनर्जी के विकास मॉडल का उदाहरण है. विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि, “सीबीआई ने सही काम किया है. अनुब्रत मंडल एक छोटा सा प्यादा था. उसे 1,000 करोड़ रुपये की संपत्ति कैसे मिली? वह ममता बनर्जी का मोहरा है.

Tags: CM Mamata Banerjee, TMC Leader

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर