अपना शहर चुनें

States

TMC नहीं मना पा रही शुभेंदु अधिकारी को, बागी नेता बोले-पार्टी के साथ काम करना असंभव

शुभेंदु अधिकारी ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. (फाइल फोटो)
शुभेंदु अधिकारी ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. (फाइल फोटो)

बुधवार को शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) ने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से कहा है कि सत्तारूढ़ पार्टी के साथ उनका काम करना असंभव है. अधिकारी ने टीएमसी नेता सौगत रॉय (Saugata Roy) को मैसेज के जरिए अपनी परेशानियों से अवगत कराया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 2, 2020, 6:57 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल के दिग्गज तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) नेता शुभेंदु अधिकारी ने मंत्री पद से इस्तीफा (Adhikari Resigns) दे दिया है. पार्टी में उनके बागी होने की खबरें काफी समय से आ रही थीं. हालांकि, टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने दावा किया था कि अधिकारी के साथ सभी परेशानियां सुलझा ली गई हैं, वह पार्टी छोड़कर नहीं जा रहे हैं. अब खबर है कि बागी नेता अधिकारी ने बुधवार को पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के सामने अपने नाराजगी जाहिर कर दी है.

मामले के जानकार बताते हैं कि बुधवार को अधिकारी ने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से कहा है कि सत्तारूढ़ पार्टी के साथ उनका काम करना असंभव था. अधिकारी ने टीएमसी नेता रॉय को मैसेज के जरिए अपनी परेशानियों से अवगत कराया है. रॉय ने कहा था कि अधिकारी ने बताया है कि वह पार्टी नहीं छोड़ेंगे. रॉय ने मीटिंग के बीच ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) को फोन लगाया और अधिकारी को दे दिया. रॉय के मुताबिक, 'उन्होंने अधिकारी से कहा है कि हमें साथ मिलकर काम करना होगा और उन्होंने हामी भर दी है.'

सौगत रॉय ने किया था बीजेपी में नहीं जाने का दावा
बुधवार को सौगत रॉय ने कहा, 'मैंने आपको एक दिन पहले जो भी बताया वह सच है. अगर शुभेंदु बाबू ने अपना मन बदल लिया है, तो वह ही आपको इस बारे में बता सकते हैं. हमारे पास कहने के लिए कुछ नहीं हैं.' बीते मंगलवार को रॉय ने कहा था, 'शुभेंदु अधिकारी बीजेपी में नहीं जा रहे हैं. यह एक बेवकूफी भरा अनुमान है. प्रशांत किशोर (Prashant Kishore), सुदीप बनर्जी और अभिषेक बनर्जी के साथ मेरी उनसे मुलाकात हुई थी और चीजें सुलझा ली गई हैं.' उन्होंने कहा था, 'वह टीएमसी के साथ हैं और हम एक ममता को फिर जिताने के लिए एक साथ काम करेंगे.'



टीएमसी नेताओं ने अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में कहा था कि अधिकारी खास तौर से अभिषेक बनर्जी और प्रशांत किशोर के फैसलों से खुश नहीं हैं. अधिकारी ने मांग की थी कि अगले होने वाले चुनावों में 65 विधानसभा सीटों पर उनकी पसंद के उम्मीदवारों को उतारा जाए. हालांकि, यह शीर्ष नेतृत्व को मंजूर नहीं था. पहले कयास लगाए जा रहे थे कि अधिकारी भारतीय जनता पार्टी (BJP) का दामन थाम सकते हैं. पार्टी के बंगाल महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने भी कहा था कि अगर वह बीजेपी में आना चाहते हैं, तो उनका स्वागत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज