बंगालः टीएमसी ने लोकसभा स्पीकर से उठाया दल बदलने वाले सांसदों का मसला, मिला आश्वासन

बंदोपाध्याय ने कहा, ''दोनों सांसद और मैं समिति के समक्ष उपस्थित होंगे. मैंने लोकसभा अध्यक्ष से कहा कि जब भी बुलाया जाएगा, मैं उपस्थित रहूंगा." ANI

West Bengal MPs: कांठी से सांसद अधिकारी और बर्धमान पुरबा से सांसद मंडल हाल ही में संपन्न हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले सांसद के पद से इस्तीफा दिए बिना भाजपा में शामिल हो गए थे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. तृणमूल कांग्रेस ने सोमवार को पार्टी के दो सांसदों शिशिर अधिकारी और सुनील मंडल को अयोग्य ठहराए जाने का मामला एक बार फिर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के समक्ष उठाया. दोनों सांसद भाजपा में शामिल हो गए थे. लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने इस महीने में दूसरी बार बिरला से फोन पर बात की है और लोकसभा अध्यक्ष ने इस मामले की जांच के लिए समिति गठित करने का आश्वासन दिया है.

    बंदोपाध्याय ने कहा, ''दोनों सांसद और मैं समिति के समक्ष उपस्थित होंगे. मैंने लोकसभा अध्यक्ष से कहा कि जब भी बुलाया जाएगा, मैं उपस्थित रहूंगा. अयोग्य ठहराए जाने की हमारी मांग के समर्थन में हमारे पास पर्याप्त साक्ष्य हैं. इन सांसदों ने भाजपा की चुनावी रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के साथ मंच साझा किए और तृणमूल कांग्रेस को हराने का आह्वान किया. इस बाबत हमारे पास वीडियो और ऑडियो क्लिप उपलब्ध है.''

    बंदोपाध्याय ने कहा कि दल बदल विरोधी कानून व्यक्ति के अधीन नहीं है. इसे संसद के दोनों सदनों से गुजरना होता है. बीजेपी नेता अगर नया नियम लाना चाहते हैं, तो केंद्र से कह सकते हैं. दिल्ली में उनकी सरकार है, लेकिन सबसे पहले उन्हें उन 25 नेताओं को ढूंढ़ना चाहिए जो आज गवर्नर के साथ मुलाकात के समय उपस्थित नहीं थे.

    उल्लेखनीय है कि कांठी से सांसद अधिकारी और बर्धमान पुरबा से सांसद मंडल हाल ही में संपन्न हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले सांसद के पद से इस्तीफा दिए बिना भाजपा में शामिल हो गए थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.