• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • आज का मौसम, 30 अगस्त : मध्य प्रदेश और केरल में आज होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

आज का मौसम, 30 अगस्त : मध्य प्रदेश और केरल में आज होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

मौसम विभाग द्वारा भारी बारिश के संबंध में जारी  अलर्ट (फाइल फोटो)

मौसम विभाग द्वारा भारी बारिश के संबंध में जारी अलर्ट (फाइल फोटो)

Todays Weather: केरल के कुछ क्षेत्रों में पिछले 24 घंटों में लगभग 10 सेंटीमीटर बारिश हुई. राज्य में भारी बारिश का दौर जारी है. उधर IMD भोपाल कार्यालय के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी पी के साहा ने बताया कि मध्य प्रदेश के पांच जिलों में आगामी 24 घंटों में कहीं-कहीं पर भारी वर्षा होने की संभावना है.

  • Share this:

    कोच्चि/भोपाल/नई दिल्ली. केरल के कुछ क्षेत्रों में पिछले 24 घंटों में लगभग 10 सेंटीमीटर बारिश हुई. राज्य में भारी बारिश का दौर जारी है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने राज्य के नौ जिलों में रविवार के लिए ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया है. विभाग ने रविवार दोपहर को कोट्टायम, एर्नाकुलम, इडुक्की, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझीकोड, वायनाड और कन्नूर जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश का अनुमान जताते हुए ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया. अन्य सभी जिलों को ‘येलो अलर्ट’ जारी किया गया है.

    विभाग ने मछुआरों को 30 अगस्त तक समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी भी दी है. IMD की वेबसाइट में कहा गया है, ‘दक्षिण-पश्चिम और पश्चिम मध्य अरब सागर में 40-50 किलोमीटर प्रति घंटे से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चलने का अनुमान है. मछुआरों को इन समुद्री क्षेत्रों में नहीं जाने सलाह दी जाती है.’

    इसमें यह भी कहा गया है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून केरल में जोरदार रहा है और केरल तथा लक्षद्वीप में ज्यादातर स्थानों पर बारिश हुई है. कोट्टायम जिले के वैकोम में भारी बारिश दर्ज की गई, जहां 10 सेंटीमीटर बारिश हुई, इसके बाद कोझीकोड जिले के कक्कायम और कासरगोड जिले के वेल्लारिकुंडू में आठ-आठ सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई. विभाग ने कल कुछ जिलों के लिए ‘येलो अलर्ट’ भी जारी किया है.

    मध्य प्रदेश के पांच जिलों में में भारी बारिश से संबंधित येलो अलर्ट जारी
    इसके साथ ही IMD ने अगले 24 घंटे में मध्य प्रदेश के पांच जिलों में भारी बारिश होने से संबंधित येलो अलर्ट जारी किया है. IMD भोपाल कार्यालय के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी पी के साहा ने बताया कि मध्य प्रदेश के पांच जिलों-विदिशा, सागर, बैतूल, छिंदवाड़ा एवं बालाघाट में आगामी 24 घंटों में कहीं-कहीं पर भारी वर्षा होने की संभावना है जिसके लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है. उन्होंने कहा कि यह अलर्ट रविवार सुबह से सोमवार सुबह तक रहेगा.

    उन्होंने कहा कि इसके अलावा भोपाल, जबलपुर, रीवा, शहडोल, होशंगाबाद, सागर एवं चंबल संभाग के जिलों आगामी 24 घंटों में कहीं-कहीं पर गरज के साथ बारिश होने की संभावना है.

    जुलाई के बाद अगस्त में भी सामान्य से कम बारिश : IMD
    उधर विभाग ने कहा कि अगस्त में अब तक 26 प्रतिशत कम वर्षा होने और लगातार दो महीने में कम बारिश से इस साल मॉनसून की बारिश के औसत से नीचे रहने की आशंका है. IMD के आंकड़ों के मुताबिक जुलाई में बारिश सामान्य से सात फीसदी कम रही. IMD के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया, ‘अगस्त में कल (28 अगस्त) तक बारिश में 26 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई.’ बारिश में यह कमी उत्तर और मध्य भारत में दर्ज की गई है. जून में 10 फीसदी अधिक बारिश दर्ज की गई. उन्होंने कहा कि IMD जल्द ही सितंबर के लिए पूर्वानुमान जारी करेगा. दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के एक जून से 30 सितंबर तक चार महीने के मौसम में लगातार दो महीनों में बारिश की कमी से इस साल सामान्य से कम मॉनसूनी बारिश की आशंका है. IMD ने पूर्व में इस साल सामान्य मॉनसून का अनुमान जताया था. मौसम का अनुमान जताने वाली निजी एजेंसी ‘स्काईमेट वेदर’ ने इस साल के अपने पूर्वानुमान को घटाकर ‘सामान्य से कम’ मॉनसून श्रेणी का कर दिया है.

    IMD के आंकड़ों के मुताबिक एक जून से 28 अगस्त के बीच देश में 10 फीसदी कम बारिश हुई. IMD ने अगस्त के लिए सामान्य वर्षा (दीर्घकालिक औसत का 94 से 106 प्रतिशत) का अनुमान जताया था, लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि पूर्वानुमान सही नहीं होगा. IMD ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि 2021 के दक्षिण-पश्चिम मॉनसून मौसम के दूसरे हिस्से (अगस्त से सितंबर) के दौरान पूरे देश में बारिश सामान्य रहने की संभावना है.

    कृषि मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों से पता चला है कि कुछ राज्यों में कम बारिश के कारण 2021-22 के खरीफ मौसम में धान की खेती का रकबा 1.23 प्रतिशत घटकर 388.56 लाख हेक्टेयर रह गया है. IMD के देश के विभिन्न हिस्सों को कवर करने वाले चार संभाग हैं. उत्तर-पश्चिमी भारत में सामान्य से 13 प्रतिशत कम वर्षा दर्ज की गई है. इस क्षेत्र में उत्तर भारतीय मैदानी इलाके और पर्वतीय राज्य आते हैं.

    मध्य भारत संभाग में 14 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है. इस क्षेत्र में गुजरात, गोवा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा और महाराष्ट्र शामिल हैं. बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर के राज्यों सहित पूर्वी और पूर्वोत्तर संभाग में वर्षा में आठ प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है, जबकि दक्षिणी राज्यों को कवर करने वाले दक्षिण संभाग में सामान्य से पांच फीसदी अधिक बारिश दर्ज की गई है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज