Home /News /nation /

आज का मौसम, 19 सितंबर 2021: पूर्वी राजस्थान और गुजरात समेत इन राज्यों में हो सकती है भारी बारिश

आज का मौसम, 19 सितंबर 2021: पूर्वी राजस्थान और गुजरात समेत इन राज्यों में हो सकती है भारी बारिश

देश के कई हिस्सों में भारी बारिश की आशंका (AP Photo/Channi Anand)

देश के कई हिस्सों में भारी बारिश की आशंका (AP Photo/Channi Anand)

भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने देश के कुछ हिस्सों में हल्की से भारी बारिश तक के आसार जाहिर किए हैं. यहां पढ़ें पूरी रिपोर्ट

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने रविवार को देश के कुछ हिस्सों में हल्की से भारी बारिश तक के आसार जाहिर किए हैं. विभाग के अनुसार पूर्वी राजस्थान और गुजरात में भारी बारिश हो सकती है. इस दौरान बिजली गिरने की भी आशंका जताई गई है. उधर, पश्चिमी राजस्थान में भी हल्की बारिश हो सकती है. इसके सात ही तमिलनाडु और पुड्डुचेरी में भी भारी बारिश के आसार हैं. दूसरी ओर हिमाचल प्रदेश,पूर्वी यूपी, मध्य प्रदेश, झारखंड, गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, छत्तीसगढ़, तटीय आंध्र प्रदेश में भी भारी बारिश हो सकती है. साथ ही बादल गरज सकते हैं.  दिल्ली स्थित क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र ने बताया कि हरियाणा स्थित नूह, पलवल, भिवाडी, यूपी के ग्रेटर नोएडा, सियाना और हापुड़ में बारिश हो सकती है.

    मौसम विभाग ने अगले सप्ताह विदर्भ, मुंबई क्षेत्र में भारी बारिश का अनुमान जताया
    इसके साथ ही आईएमडी ने शनिवार को कहा कि सोमवार से महाराष्ट्र के विदर्भ और मुंबई क्षेत्र में भारी बारिश का अनुमान है. क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र की वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ शुभांगी भूटे ने कहा, ‘बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक चक्रवाती परिसंचरण विकसित हो रहा है. जैसे-जैसे यह और तेज होगा, महाराष्ट्र में 20 सितंबर से और बारिश होगी.’

    उन्होंने कहा, ‘सबसे पहले विदर्भ क्षेत्र में बारिश होगी. हालांकि यह ज्यादातर पूर्व से पश्चिम तक राज्य के उत्तरी हिस्से को कवर करेगा, लेकिन कुछ स्थानों पर बहुत भारी बारिश हो सकती है.’ उन्होंने कहा कि इसके बाद, उत्तरी महाराष्ट्र के बाद पालघर, ठाणे और मुंबई के तटीय जिलों में बारिश होगी.

    दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के सितंबर अंत तक उत्तर-पश्चिम भारत से वापस लौटने की संभावना नहीं
    देश में इस वर्ष मॉनसून लंबे समय तक जारी रह सकता हैं, क्योंकि सितंबर के अंत तक उत्तर भारत में बारिश में कमी आने के संकेत नहीं दिख रहे हैं. IMD के अनुसार, दक्षिण पश्चिम मॉनसून उत्तर पश्चिम भारत से तभी वापस होता है जब लगातार पांच दिनों तक इलाके में बारिश नहीं होती है. निचले क्षोभ मंडल में चक्रवात रोधी वायु का निर्माण होता है और आर्द्रता में भी काफी कमी होना आवश्यक है.

    आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा, ‘अगले दस दिनों तक उत्तर भारत से मॉनसून की वापसी के संकेत नहीं दिख रहे हैं.’ आईएमडी ने पिछले वर्ष भी उत्तर पश्चिम भारत से मॉनसून की वापसी की तारीख संशोधित की थी. पिछले कुछ वर्षों से मॉनसून की वापसी में विलंब होने के रूख को देखते हुए यह किया गया था.

    दक्षिण पश्चिम मॉनसून पहले राजस्थान से वापस होना शुरू होता है. संशोधित तिथि के अनुसार, यह 17 सितंबर से जैसलमेर से वापस होना शुरू होता है. दक्षिण पश्चिम मॉनसून ने 2017, 2018, 2019 और 2020 में विलंब से वापसी शुरू की. मॉनसून के विलंब से वापस जाने का मतलब होता है कि ठंड भी देर से पड़ती है. आधिकारिक रूप से दक्षिण पश्चिम मॉनसून एक जून से शुरू होता है और 30 सितंबर तक रहता है.

    Tags: Bad weather, Delhi Rain, Gujarat Rain, Rajasthan rain, Weather forecast

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर