Home /News /nation /

आज का मौसम, 3 नवंबर: दिल्ली की हवा अब भी खराब, इन दक्षिणी राज्यों में हो सकती है बारिश

आज का मौसम, 3 नवंबर: दिल्ली की हवा अब भी खराब, इन दक्षिणी राज्यों में हो सकती है बारिश

IMD ने केरल, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और तटीय आंध् प्रदेश के लिए अलर्ट जारी किया है. विभाग ने इन राज्यों में भी मध्यम से भारी बारिश के आसार जताए हैं. साथ ही ओडिशा, मराठवाड़ा, रायलसीमा, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक , मध्य महाराष्ट्र, कोंकण, गोवा और तेलंगाना में भी बारिश हो सकती है. उधर दिल्ली में प्रदूषकों के फैलाव के लिए प्रतिकूल परिस्थितियों के कारण मंगलवार को इस मौसम में पहली बार राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता 'बेहद खराब' की श्रेणी में दर्ज की गई. दूसरी ओर IMD ने मंगलवार को कहा कि नवंबर में दक्षिण भारत में सामान्य से अधिक बारिश होने का अनुमान है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारत मौसम विभाग (IMD) ने केरल, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और तटीय आंध् प्रदेश के लिए अलर्ट जारी किया है. विभाग ने इन राज्यों में भी मध्यम से भारी बारिश के आसार जताए हैं. साथ ही ओडिशा, मराठवाड़ा, रायलसीमा, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक , मध्य महाराष्ट्र, कोंकण, गोवा और तेलंगाना में भी बारिश हो सकती है. उधर दिल्ली में प्रदूषकों के फैलाव के लिए प्रतिकूल परिस्थितियों के कारण मंगलवार को इस मौसम में पहली बार राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता ‘बेहद खराब’ की श्रेणी में दर्ज की गई. वायु गुणवत्ता का पूर्वानुमान लगाने वाली एजेंसी ‘सफर’ के संस्थापक परियोजना निदेशक गुफरान बेग ने कहा कि दिल्ली में पीएम2.5 प्रदूषक में पराली जलाने का योगदान छह फीसदी रहा जबकि बाकी प्रदूषण का कारण स्थानीय कारक रहे.

    केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, राजधानी में सोमवार को 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 289 दर्ज किया गया. यह रविवार को 289 और शनिवार को 268 दर्ज किया गया था. दिल्ली के पड़ोसी शहरों में भी AQI बेहद खराब की श्रेणी में रहा. यह फरीदाबाद में 306, गाजियाबाद में 334, नोएडा में 303 दर्ज किया गया.

    गौरतलब है कि शून्य और 50 के बीच AQI को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’, तथा 401 और 500 के बीच ‘गंभीर’ माना जाता है. दिल्ली में अक्टूबर में मॉनसून की सक्रियता बने रहने और पश्चिमी विक्षोभ के चलते समय-समय पर बारिश होने के कारण पूरे महीने राष्ट्रीय राजधानी में AQI एक भी दिन ‘बेहद खराब’ या ‘गंभीर’ की श्रेणी में दर्ज नहीं किया गया.

    नवंबर में दक्षिण भारत में सामान्य से अधिक बारिश का अनुमान : IMD
    दूसरी ओर IMD ने मंगलवार को कहा कि नवंबर में दक्षिण भारत में सामान्य से अधिक बारिश होने का अनुमान है. इस दौरान लंबी अवधि के औसत से 122 प्रतिशत से ज्यादा बारिश हो सकती है. IMD ने कहा, ‘दक्षिण भारत (तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा, तमिलनाडु, पुडुचेरी, केरल और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक) में नवंबर के लिए बारिश सामान्य से अधिक (लंबी अवधि के औसत का 122 प्रतिशत से ज्यादा) होने का अनुमान है.’

    वर्ष 1961-2010 के दौरान एकत्र किए गए आंकड़ों के आधार पर नवंबर में दक्षिण भारत में वर्षा की लंबी अवधि का औसत (एलपीए) लगभग 117.46 मिमी है. वहीं, 25 अक्टूबर से शुरू हुए पूर्वोत्तर मॉनसून के कारण केरल में भारी बारिश हुई है. अक्टूबर में राज्य में 589.9 मिमी बारिश हुई, जो 1901 के बाद से महीने में सबसे अधिक है.

    IMD के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि दक्षिण भारत, विशेषकर केरल में 11 नवंबर तक बारिश जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि देश में इस साल सितंबर और अक्टूबर के दौरान अत्यंत भारी वर्षा की 125 घटनाएं दर्ज की गईं, जो पांच वर्षों में सबसे अधिक है. दक्षिण-पश्चिम मॉनसून की देर से वापसी और सामान्य से अधिक निम्न दबाव प्रणाली इसके प्रमुख कारण है.

    IMD के आंकड़ों के मुताबिक देश में सितंबर में अत्यधिक भारी बारिश की 89 घटनाएं दर्ज की गईं, जबकि पिछले साल इसी महीने में 61, वर्ष 2019 में 59, वर्ष 2018 में 44 और 2017 में 29 घटनाएं हुई. इस साल अक्टूबर में 36 ऐसी घटनाएं हुई, जबकि 2020 में इसी अवधि में 10 की तुलना में 2019 में 16, वर्ष 2018 में 17 और 2017 में 12 घटनाएं हुई.

    Tags: Delhi Rain, Forecast, Imd, Weather news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर