अपना शहर चुनें

States

टूलकिट केस: दिल्ली की अदालत ने दिशा रवि को एक दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा

दिशा रवि (फोटो-linkedin)
दिशा रवि (फोटो-linkedin)

Toolkit Case: दिल्ली पुलिस किसानों के आंदोलन के समर्थन में पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा साझा किए गए ‘‘टूलकिट गूगल डॉक्यूमेंट’’ की जांच कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 5:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पटियाला हाउस कोर्ट ने टूलकिट मामले (Toolkit Case) में आरोपी दिशा रवि को 1 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया है. पुलिस ने पांच दिन की कस्टडी की मांग की थी. पुलिस कस्टडी के दौरान आरोपी दिशा रवि के साथ आरोपी शांतनु और आरोपी निकिता को आमने सामने बैठाकर पूछताछ होगी. बता दें इस मामले में अदालत में शनिवार को सुनवाई हुई थी. बता दें शुक्रवार से पुलिस की हिरासत में रह रहीं दिशा रवि को सोमवार को न्यायिक हिरासत खत्म होने के बाद चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट डॉ पंकज शर्मा की अदालत में पेश किया गया था. जहां पुलिस ने उनकी पांच दिन की रिमांड मांगी थी. जिसके बाद पुलिस ने उन्हें एक दिन की रिमांड पर भेज दिया.

दिशा रवि की जमानत याचिका पर शनिवार को हुई सुनवाई के बाद मंगलवार को फैसला सुरक्षित रखा गया था. अब इस केस में मंगलवार को फिर से सुनवाई होगी. वहीं इससे पहले वकील निकिता जैकब और इंजीनियर शांतनु मुलुक ‘टूलकिट’ मामले में जांच में सोमवार को शामिल हुए. द्वारका में दिल्ली पुलिस के साइबर प्रकोष्ठ के कार्यालय में उनसे पूछताछ की जा रही है. दिल्ली पुलिस किसानों के आंदोलन के समर्थन में पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा साझा किए गए ‘‘टूलकिट गूगल डॉक्यूमेंट’’ की जांच कर रही है.  इस मामले में दिल्ली पुलिस ने बंगलुरु की कार्यकर्ता दिशा रवि को गिरफ्तार किया था जबकि मुलुक को एक अदालत ने अग्रिम जमानत दे दी थी.

ये भी पढ़ें- वसुंधरा समर्थक विधायकों के पत्र पर वबाल, गुलाबचंद कटारिया ने दिया ये बड़ा बयान



पिछली सुनवाई में पुलिस ने कही थी ये बात
पुलिस ने हिरासत को लेकर हुई पिछली सुनवाई में कहा था कि हिरासत में पूछताछ के दौरान रवि टालमटोल भरा रवैया अपनाती रहीं और सह-आरोपियों पर दोष मढ़ने का प्रयास किया. अदालत ने 14 फरवरी को रवि को पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेजा था.

इससे पहले, दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को गूगल और अन्य सोशल मीडिया कंपनियों से ‘टूलकिट’ बनाने वालों से जुड़े ईमेल आईडी, डोमेन यूआरएल और कुछ सोशल मीडिया अकाउंट की जानकारी देने को कहा था. जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग और अन्य ने यह ‘टूलकिट’ ट्विटर पर साझा की थी.

पुलिस ने लगाया है ये आरोप
‘टूल किट’ में ट्विटर के जरिये किसी अभियान को ट्रेंड कराने से संबंधित दिशानिर्देश और सामग्री होती है.

दिल्ली पुलिस के ‘साइबर प्रकोष्ठ’ ने ‘‘भारत सरकार के खिलाफ सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक युद्ध’’ छेड़ने के लक्ष्य से ‘टूलकिट’ के ‘खालिस्तान समर्थक’ निर्माताओं के खिलाफ चार फरवरी को प्राथमिकी दर्ज की थी.

पुलिस ने बताया था कि दस्तावेज ‘टूलकिट’ का लक्ष्य भारत सरकार के प्रति वैमनस्य और गलत भावना फैलाना और विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक समूहों के बीच वैमनस्य की स्थिति पैदा करना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज