Home /News /nation /

कोरोना से ठीक होने के बाद भी परेशानी! महामारी विशेषज्ञों ने चेताया, जानें क्या हैं लॉन्ग कोविड लक्षण

कोरोना से ठीक होने के बाद भी परेशानी! महामारी विशेषज्ञों ने चेताया, जानें क्या हैं लॉन्ग कोविड लक्षण

कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े (फाइल फोटो)

कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े (फाइल फोटो)

Epidemiologist warns against long Covid-19 symptoms: कोरोना महामारी से स्वस्थ होने के बाद भी इस बीमारी से जुड़े प्रभाव लंबे समय तक देखने को मिल सकते हैं, जिन्हें लॉन्ग कोविड सिंपट्मस कहते हैं. कई महामारी विशेषज्ञों ने इन प्रभावों के बारे में अपनी राय जाहिर की है. हालांकि इन्हें पर्याप्त मीडिया करवेज नहीं मिली है. इसलिए जरुरत है कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन, दुनिया के लोगों को, विशेष रूप से विकासशील देशों की सरकारों को लॉन्ग कोविड से जुड़े प्रभावों के बारे में सूचित करे. इसमें बताया जाए कि कैसे कोरोना का हल्का संक्रमण भी लंबे समय तक व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से जुड़े बुरे अनुभव समय-समय पर फिर से देखने को मिलेंगे. जब-जब इस वायरस के नए वेरिएंट सामने आएंगे. साल की शुरुआत दुनिया ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) को देखा. यह वेरिएंट पूरी दुनिया में कोरोना की एक नई लहर का कारण बना. महामारी को लेकर इस समय कई तरह की खबरें और सूचनाएं सामने आ रही हैं लेकिन इन सबके बीच कुछ अहम बातें छूट जाती हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने लोगों को चेतावनी देते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी से स्वस्थ होने के बाद भी यह बीमारी लंबे वक्त तक व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है.

दरअसल कोविड-19 वायरस मनुष्य के शरीर के श्वसन तंत्र पर हमला करता है. हालांकि बीमारी के दौरान इसके लक्षणों और इलाज की सब बात करते हैं लेकिन लॉन्ग कोविड या पोस्ट कोविड यानि इस बीमारी से उभरने के बाद के लक्षणों पर कोई चर्चा नहीं होती है. कोविड-19 महामारी से जुड़े लक्षण स्वस्थ होने के बाद भी व्यक्ति को लंबे समय तक प्रभावित कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कोरोना की तीसरी लहर कम घातक! स्टडी में खुलासा- हॉस्पिटलाइजेशन की दर घटी, मौत का आंकड़ा भी कम

हाल ही में LongCovidSOS नामक ट्विटर पेज पर लॉन्ग कोविड से जुड़े विषय पर मीडिया द्वारा पर्याप्त कवरेज नहीं देने पर राय जाहिर की गई. ट्वीट में कहा गया कि ऐसा लगता है कि किसी भी मीडिया ब्रीफिंग, सिफारिश या पॉलिसी में लॉन्ग कोविड से संबंधित बातों का कोई जिक्र नहीं किया गया है. इसलिए जरुरत है कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन, दुनिया के लोगों को, विशेष रूप से विकासशील देशों की सरकारों को लॉन्ग कोविड से जुड़े प्रभावों के बारे में सूचित करे. इसमें बताया जाए कि कैसे कोरोना का हल्का संक्रमण भी लंबे समय तक व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है.

अमेरिका में महामारी विशेषज्ञ, मारिया वॉन ने इस मामले पर संज्ञान लेते हुए कहा कि, डब्ल्यूएचओ को लॉन्ग कोविड के संबंध में लगातार काम करना होगा. इस ट्वीट में मारिया ने लिखा कि, इस बारे में हमें लोगों को सूचित करते रहना होगा और हमें पोस्ट कोविड लक्षण के बारे में बेहतर रिसर्च करनी होगी. साथ ही ऐसे लोग जो कोरोना के बाद भी कुछ स्वास्थ्य समस्याओं से ग्रसित उनकी अच्छे से काउंसिलिंग की
जाए.

दरअसल लॉन्ग कोविड लक्षणों का एक ऐसा समूह है जो स्वस्थ होने के बाद भी मानव शरीर को प्रभावित करता है. इसमें थकान, अनिद्रा, सहनशक्ति में कमी, गंध की कमी कुछ जैसे लक्षण शामिल हैं.

Tags: Coronavirus, Omicron

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर