Home /News /nation /

जल्द ही फिर जेवर आ सकते हैं सीएम योगी, इन दो बड़ी इंडस्ट्री का होना है शिलान्यास

जल्द ही फिर जेवर आ सकते हैं सीएम योगी, इन दो बड़ी इंडस्ट्री का होना है शिलान्यास

एक बार फिर जल्द ही सीएम योगी आदित्यनाथ टॉय और अपैरल पार्क का शिलान्यास करने के लिए जेवर आ सकते हैं.

एक बार फिर जल्द ही सीएम योगी आदित्यनाथ टॉय और अपैरल पार्क का शिलान्यास करने के लिए जेवर आ सकते हैं.

जल्द ही देश के बच्चे चाइना नहीं नोएडा (Noida) के बने खिलौनों से खेलेंगे. यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) सेक्टर-33 में टॉय पार्क बना रही है. हर तरह के छोटे-बड़े खिलौने के साथ ही त्यौहारों पर इस्तेमाल होने वाला प्लास्टिक का सामान भी इस टॉय पार्क (Toy Park) में बनेगा. जेवर एयरपोर्ट (Jewar Park) के पास ही अपैरल पार्क भी बसाया जा रहा है. टेक्सटाइल और गारमेंट के सेक्टर में ही सबसे ज्यादा रोजगार यूपी (UP) में लोगों को मिला हुआ है. वहीं नोएडा में 150 एकड़ जमीन पर टेक्सटाइल पार्क बनाने की तैयारी भी चल रही है.

अधिक पढ़ें ...

    नोएडा. भारत में चीन (China) के खिलौनों को चुनौती देने के लिए नोएडा में तैयारियां शुरू हो गई है. वहीं अपैरल पार्क को कपड़ा मंत्रालय से मंजूरी मिलने के बाद अब गौतम बुद्ध नगर (Gautam Budh Nagar) रेडीमेड गारमेंट का हब बनने जा रहा है. एक बार फिर जल्द ही सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) टॉय और अपैरल पार्क का शिलान्यास करने के लिए जेवर आ सकते हैं. अब तक देश की 134 जानी-मानी खिलौना कंपनी इस टॉय पार्क में जमीन खरीद चुकी हैं. वहीं अपैरल पार्क की बात करें तो शुरुआत में छोटी-बड़ी मिलाकर करीब 150 यूनिट लगने की उम्मीद है. गौरतलब यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) दोनों पार्क को फ्लैटेड फैक्ट्री कॅन्सेप्ट पर यमुना एक्सप्रेसवे (Yamuna Expressway) के किनारे बसाने की योजना पर काम कर रही है.

    अब तक 134 कंपनियों ने टॉय पार्क में खरीदी जमीन

    यमुना अथॉरिटी के अफसरों के मुताबिक अब तक 134 कंपनियों को टॉय पार्क में खिलौना फैक्ट्री स्थापित करने के लिए जमीन आवंटित की जा चुकी है. जमीन पाने वाली कंपनियां जल्दी ही टॉय पार्क में फैक्ट्री लगाने की कार्रवाई शुरू कर देंगी. टॉय पार्क में जमीन लेने वाली देश की प्रमुख कंपनियों में फन जू टॉयज इंडिया, फन राइड टॉयस एलएलपी, सुपर शूज, आयुष टॉय मार्केटिंग, सनलार्ड अप्पारेल्स, भारत प्लास्टिक, जय श्री कृष्णा, गणपति क्रिएशन और आरआरएस ट्रेडर्स प्रमुख हैं.

    एक अनुमान के मुताबिक वर्ष 2024 तक भारत का खिलौना उद्योग 147-221 अरब रुपये का हो जाएगा. दुनियाभर में जहां खिलौने की मांग में हर साल औसत करीब पांच फीसद का इजाफा हो रहा है, वहीं भारत की मांग में 10-15 फीसद का इजाफा हो रहा है. निर्यात की बात करें तो सिर्फ 18-20 अरब रुपये के खिलौने का निर्यात हो पाता है. भारत में जहां खिलौना निर्माता असंगठित हैं, वहीं खिलौने की गुणवत्ता भी बड़ी चुनौती है.

    Greater Noida: पूरा पैसा देने, फ्लैट की रजिस्ट्री होने के बाद भी और देने होंगे रुपए, जानिए वजह

    ऐसे खास बनाया जा रहा है अपैरल पार्क  

    यमुना अथॉरिटी की ओर से बनाए जा रहे अपैरल पार्क को खास बनाने और सभी तरह की सुविधाएं देने के लिए पार्क के पास ही फैक्ट्री शेड, भूखंड, वेयर हाउसिंग सुविधाएं, टूल रूम, रॉ मैटेरियल बैंक, टेस्टिंग और शोध व अनुसंधान के लिए कॉमन फैसिलिटी सेंटर, कौशल उन्नयन केंद्र, ट्रक टर्मिनल, पार्किंग सुविधाएं, मशीनों की रिपेयरिंग के लिए दुकानें, कर्मचारियों के लिए डॉरमेट्री या हॉस्टल, इनक्यूबेशन सेंटर, फैशन इंस्टीट्यूट, ट्रेनिंग सेंटर और डिजाइनिंग आदि होंगे. 300 एकड़ में अपैरल पार्क बनकर तैयार होगा. शुरुआत में यहां करीब 150 यूनिट आएंगी.

    फ्लैटेड फैक्ट्री कॅन्सेप्ट पर बनेगा टॉय और अपैरल पार्क

    जानकारों की मानें तो यमुना अथॉरिटी फ्लैटेड फैक्ट्री कॅन्सेप्ट पर इंडस्ट्री को अपने यहां मौका दे रही है. इसमे से एक रेडीमेड गॉरमेंट इंडस्ट्री यानि अपैरल पार्क और टॉय पार्क भी है. फ्लैटेड फैक्ट्री कॅन्सेप्ट के तहत फैक्ट्री के लिए लम्बी-चौड़ी महंगी जमीन खरीदने की जरूरत नहीं होती है. क्योंकि इस तरह की इंडस्ट्री में भारी-भरकम और बड़ी मशीनरी की जरूरत नहीं होती है तो अथॉरिटी इसके लिए फ्लैटनुमा बहुमंजिला इमारतों का निर्माण कराएगी. इमारत के हर फ्लोर पर काम के हिसाब से स्ट्राक्चर तैयार किया जाएगा.

    जैसे जूता सिलाई, रेडीमेड गारमेंट, इलेक्ट्रॉनिक-इलेक्ट्रॉनिक्स कंपोनेंट, हैंडीक्राफ्ट, फैशन डिजाइन, आईटी सेक्टर से जुड़े केपीओ, बीपीओ, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, डिजाइनिंग, असेंबलिंग की छोटी फैक्ट्रियों के लिए इस तरह के फ्लोर तैयार किए जाते हैं. खास बात यह है कि फ्लैटेड फैक्ट्रियों में काम से जुड़े जरूरी संसाधन पहले से ही मौजूद होते हैं. जानकारों का कहना है कि फ्लैटेड फैक्ट्री कॉन्सेप्ट से ऐसे कारोबारी भी अपना काम कर सकते हैं जिनके पास कम लागत है. जो ज़मीन खरीदकर उस पर फैक्ट्री नहीं बनवा सकते हैं. ऐसे लोगों के लिए फ्लैटेड फैक्ट्री कॅन्सेप्ट बहुत काम आता है.

    Tags: Jewar airport, Noida news, Yamuna Authority

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर