• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • देश में प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों की भारी कमी, कुछ राज्‍यों में हालात खराब- रिपोर्ट

देश में प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों की भारी कमी, कुछ राज्‍यों में हालात खराब- रिपोर्ट

हेल्‍थ प्रोफेशनल्‍स की कमी पर आई रिपोर्ट. (File pic)

हेल्‍थ प्रोफेशनल्‍स की कमी पर आई रिपोर्ट. (File pic)

Medical Professionals: एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के तमाम राज्यों में नर्स और डॉक्टर का अनुपात 1:7:1 है. वहीं अन्य स्वास्थ्यकर्मियों औऱ डॉक्टर का अनुपात 1:1 है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. कोविड 19 महामारी (Covid 19) के दौरान हुए एक अध्ययन से पता चला है कि भारत का स्वास्थ्य तंत्र प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों जैसे नर्स, प्रशिक्षित पैरामेडिकल पेशेवर और डॉक्टर सहित अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की भारी कमी है. टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित खबर के मुताबिक विश्व स्वास्थ्य संगठन और पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पीएचएफआई) की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के तमाम राज्यों में नर्स और डॉक्टर का अनुपात 1:7:1 है. वहीं अन्य स्वास्थ्यकर्मियों औऱ डॉक्टर का अनुपात 1:1 है.

    अगर शैक्षणिक योग्यता को आधार बनाकर अनुमान लगाया जाए तो ये अनुपात और बिगड़ जाता है. डॉक्टर और नर्स के अनुपात का अगर श्रम बल के आधार पर (एनएसएसओ-2017-18) पर्याप्त शैक्षणिक योग्यता पर अनुमान लगाया जाए तो ये अनुपात 1:1.3 आता है. वहीं दूसरे ओईसीडी देशों में ये अनुपात 3-4 नर्स प्रति डॉक्टर होती हैं. वहीं भारतीय (एचएलईजी) की अनुशंसा के अनुसार भारत में नर्स-डॉक्टर का अनुपात 3:1 रखा गया था.

    देखा जाए तो कुछ राज्यों में डॉक्टर ज्यादा हैं तो कहीं नर्स ज्यादा है. पंजाब में नर्स और डॉक्टर का अनुपात (6.4:1) है और दिल्ली में यही अनुपात (4.5:1) है जो कि उच्च स्तर पर है. वहीं अगर बिहार, जम्मू और कश्मीर, और मध्यप्रदेश की बात की जाए तो वहां एक डॉक्टर पर एक नर्स से भी कम का अनुपात बैठता है. अगर केरल की बात की जाए जहां नर्सों की संख्या बहुत ज्यादा है वहां पर भी कर्मचारी नर्स और डॉक्टर का अनुपात 1:1 से कम था. यहां कर्मचारी नर्स से तात्पर्य ऐसी नर्स से है जो सक्रिय हैं और जिनका पंजीकरण हुआ है.

    इसी तरह स्वास्थ्य सेवा से जुड़े अन्य स्वास्थ्यकर्मियों की बात की जाए तो विभिन्न राज्यों में इनके अनुपात में भी बड़ा अंतर नजर आता है जैसे हिमाचल में एक एलोपैथिक डॉक्टर पर पांच संबंद्ध स्वास्थ्यकर्मी है तो वहीं बिहार में ये अनुपात (0.1) रह जाता है.

    कुछ राज्य जैसे दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और छत्तीसगढ़ में नर्स और डॉक्टर का अनुपात ऊंचा है.. लेकिन यहां प्रति 10,000 लोगों पर डॉक्टर की संख्या बेहद कम है. 15 वें वित्त आयोग के मुताबिक भारत में आबादी के हिसाब से नर्स का अनुपात 1:670 है जो विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानदंड 1:300 के विरुद्ध है. इस रिपोर्ट में राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ 2017-18) में पंजीकृत स्वास्थ्य पेशेवरो के डेटा का इस्तेमाल किया गया है. जिसके जरिए सक्रिय स्वास्थ्य कार्यबल की जानकारी मिलती है.

    रिपोर्ट बताती है कि स्वास्थ्य तंत्र को बेहतर बनाने के लिए कुशल स्वास्थ्यकर्मियों के संतुलित मिश्रण की जरूरत है जबकि इसके उलट देश के विभिन्न राज्यों में डॉक्टर और नर्स और डॉक्टर और संबंद्ध स्वास्थ्यकर्मियों के बीच एक अक्षम कौशल मिश्रण मौजूद है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज