इस खास संदेश में छिपा है सेना के जवानों के लिए भारतीय रेल का अनोखा सलाम

करगिल विजय के 20 साल पूरे होने पर रेलवे अनोखे तरीके से सैनिकों के प्रति सम्मान प्रदर्शित कर रही है. रेलवे ने कुछ ट्रेनों में करगिल विजय दिवस के पोस्टर लगाकर उसे पूरे देश में रवाना करने की शुरुआत की है

Chandan Kumar
Updated: July 15, 2019, 1:25 PM IST
इस खास संदेश में छिपा है सेना के जवानों के लिए भारतीय रेल का अनोखा सलाम
करगिल विजय दिवस का संदेश लेकर चल रही ट्रेन
Chandan Kumar
Updated: July 15, 2019, 1:25 PM IST
करगिल विजय के 20 साल पूरे होने पर रेलवे अनोखे तरीके से सैनिकों के प्रति सम्मान प्रदर्शित कर रही है. रेलवे ने ट्रेनों में करगिल विजय दिवस के पोस्टर लगाकर उसे पूरे देश में रवाना करने की शुरुआत की है. ऐसी पहली ट्रेन काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस को रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने नई दिल्ली स्टेशन से झंडा दिखाकर रवाना किया. इस मौके पर केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन और सेना के तमाम अधिकारियों और सैनिकों ने भी शिरकत की.

सैनिकों के लिए संदेश लेकर चल रही हैं ये ट्रेनें
भारतीय रेल 10 ट्रेनों में संदेश लिखकर अलग-अलग इलाकों से सेना को सलाम भेज रही है. ये ट्रेनें हैं. काशी विश्नाथ एक्सप्रेस, गोंडवाना एक्सप्रेस, गोवा संपर्क क्रांति, ब्रह्मपुत्र मेल, सीमांचल एक्सप्रेस, शालीमार एक्सप्रेस, स्वराज एक्सप्रेस, नांदेड़ अम्ब अंदौरा एक्सप्रेस, अमृतसर कोचुवेली एक्सप्रेस एवं निज़ामुद्दीन पुणे एसी सुपरफास्ट एक्सप्रेस.

kashi vishwanath express को रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने झंडा दिखाकर रवाना किया
काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस को रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगड़ी ने झंडा दिखाकर रवाना किया


उम्मीद की जा रही है कि अगले कुछ ही दिनों में सभी ट्रेनों में ऐसी विनाइल रैपिंग कर दी जाएगी. कश्मीर के करगिल में 20 साल पहले पाकिस्तानी सैनिकों ने घुसपैठ की थी. भारतीय सेना ने 2 महीने की लड़ाई के बाद पाकिस्तान को घुटने टेकने और भागने पर मजबूर कर दिया था.

सेना और करगिल के बारे में सभी को जानना चाहिए
करगिल की लड़ाई में परमवीर चक्र पाने वाले शाहिद कैप्टेन विक्रम बत्रा के भाई विशाल बत्रा ने न्यूज़ 18 से कहा कि मैं भारतीय रेल को धन्यवाद देता हूं. सेना के बारे में पूरे देश को जानकारी देना जरूरी है. सैनिक कभी मरता नहीं है. हमारे सुरक्षित होने के पीछे एक-एक सैनिक का साहस और उसका बलिदान शामिल होता है. इस मौके पर रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने कहा कि लोगों को इतिहास बताना जरूरी है. जिन लोगों ने इतिहास नहीं पढ़ा उन सबको करगिल के बारे में बताना जरूरी है.
Loading...

ये भी पढ़ें -

इलाहाबाद: अजितेश पर कोर्ट रूम के बाहर हुआ हमला तो साक्षी ने पति से लिपट कर पिटाई से बचाया

सरकारी नौकरियों में गरीब सवर्णों को आरक्षण के बाद उम्र में छूट देने की तैयारी- रिपोर्ट
First published: July 15, 2019, 1:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...