ट्रांसजेंडर से जबरन काम कराना बंधुआ मजदूरी की श्रेणी में माना जाएगा अपराध

ट्रांसजेंडर पर्सन्स (प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स) बिल- 2019 (Transgender Persons, Protection of Rights Bill, 2019) बुधवार को लोकसभा में पास हो गया.

News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 7:45 AM IST
ट्रांसजेंडर से जबरन काम कराना बंधुआ मजदूरी की श्रेणी में माना जाएगा अपराध
ट्रांसजेंडर से जबरन काम कराना बंधुआ मजदूरी की श्रेणी में माना जाएगा अपराध
News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 7:45 AM IST
ट्रांसजेंडर पर्सन्स (प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स) बिल- 2019 (Transgender Persons, Protection of Rights Bill, 2019) बुधवार को लोकसभा में पास हो गया. इस बिल का कांग्रेस, डीएमके और टीएमसी ने विरोध किया. पांच अगस्त को जब ये बिल सदन में रखा गया था, उस वक्त कांग्रेस, डीएमके और टीएमसी के सांसदों ने काफी विरोध किया था और जमकर नारेबाजी की थी. सरकार ने तीनों दलों के विरोध के बीच बुधवार को ये बिल लोकसभा में पास करा दिया है. इस बिल को लेकर किन्नर समुदाय में भी विरोध के सुर उठने लगे हैं.

गौरतलब है कि सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने 19 जुलाई को लोकसभा में इस बिल को पेश किया था. लोकसभा में पेश किया गया ट्रांसजेंडर पर्सन्स (प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स) बिल- 2019, ट्रांसजेंडर कम्युनिटी के अधिकारों को परिभाषित करता है. बिल में थर्ड जेंडर के साथ हो रहे यौन हिंसा जैसे अपराध और हर स्तर के भेदभाव को रोकने के लिए प्रावधान‍ किए गए हैं. इस बिल के मुताबिक किसी भी ट्रांसजेंडर से जबरन काम कराना बंधुआ मजदूरी की श्रेणी में अब अपराध माना जाएगा.

Lok Sabha, Transgender, Bill, Congress, TMC, DMK, Bonded wages

इसके अलावा उन्हें घर और मोहल्ले से जबरन निकालना या सार्वजनिक जगहों पर बैठे लोगों को वहां से भगाना उनके लिए अपराध माना जाएगा. इसी तरह की ट्रांसजेंडर के साथ हिंसा, यौन शोषण या अभद्र भाषा का उपयोग करने पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी. इन अपराधों में आरोपी को छह माह से दो साल तक की सजा मिल सकती है.

Lok Sabha, Transgender, Bill, Congress, TMC, DMK, Bonded wages

इस बिल में ट्रांसजेंडर्स के साथ सरकारी स्कूल, कॉलेजों, सरकारी या प्राइवेट ऑफिसों में होने वाले भेदभाव को पूरी तरह गैरकानूनी बनाया गया है. ट्रांसजेंडर को नौकरी देने या प्रमोशन देने में किसी भी तरह का भेदभाव नहीं किया जाएगा. इस तरह के मामले के निपटारे के लिए शिकायत अधिकारी नियुक्त किया जाएगा. इसी तरह उन्हें स्वास्थ्य सुविधाएं भी आसानी से मुहैया कराई जाएंगी.

परिवार के साथ रहने का मिलेगा अधिकार
Loading...

ट्रांसजेंडर्स बिल अगर राज्यसभा में भी पास हो जाता है तो उन्हें अपने परिवार के साथ रहने का अधिकार मिल जाएगा. अगर उसका परिवार उनका साथ छोड़ देता है तो वो रीहबिलटैशन सेंटर में रह सकता है. इसके अलावा वो किराए का घर लेकर भी रह सकता है. उसे कोई भी यह कहकर मकान देने से इंकार नहीं कर सकता कि वह ट्रांसजेंडर है. यहां तक की अब ट्रांसजेंडर अपने नाम से प्रॉपर्टी भी खरीद पाएंगे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 7:45 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...