Corona News- Lockdown की वजह देशभर में 65 फीसदी ट्रकों के पहिए थमे, जानें ट्रांसपोर्टर क्‍या चाहते हैं?

दिल्ली में रिकवरी रेट सुधरी.

दिल्ली में रिकवरी रेट सुधरी.

Lockdown की वजह देशभर में दो तिहाई ट्रकों का संचालन बंद चल रहा है. ट्रांसपोर्टरों से सरकार से राहत देने की मांग की है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. कोरोना (Corona) की वजह से अलग-अलग राज्‍यों में लागू कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) या लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से 65 फीसदी ट्रकों के पहिए थम चुके हैं. केवल जरूरी चीजों की सप्‍लाई के लिए ही ट्रक चल रहे हैं. इस वजह से ट्रांसपोर्टर (Transporter) को ट्रकों (Trucks) की ईएमआई और इंश्‍योरेंस देना मुश्किल हो रहा है. ट्रांसपोर्टर सरकार से मांग कर रहे हैं कि उन्‍हें राहत दी जाए.

देशभर में करीब 10000000 ट्रक पंजीकृत हैं. इनमें से एक समय में करीब 7000000 ट्रक रोड पर चलते हैं. मौजूदा समय तमाम राज्‍यों ने कोरोना कर्फ्यू लगाया है तो कई राज्‍यों ने पूरी तरह से लॉकडाउन लगा रखा है. इस वजह से ट्रकों की आवाजाही बंद है, केवल एक तिहाई के करीब यानी 2300000 ट्रक ही रोड  पर चल रहे हैं जो दवा, खाद्य आपूर्ति या आक्‍सीजन जैसी जरूरी वस्‍तुओं की सप्‍लाई में जुटे हैं. दो तिहाई के करीब ट्रकों के खड़े होने से ट्रांसपोर्टरों के लिए ईएमआई चुका पाना या इंश्‍योरेंस करा पाना मुश्किल हो रहा है.

Youtube Video

ऑल  इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के महासचिव नवीन गुप्‍ता कहते हैं कि इन हालातों में सरकार को ट्रांसपोर्टरों को राहत देना चाहिए. जैसे पिछले साल लॉकडाउन में सरकार ने राहत दी थी, इसी तरह इस बार भी करना चाहिए. इसके अलावा गाडि़यों के इंश्‍योरेंस को भी 31 अगस्‍त तक मान्‍य कर देना चाहिए. क्‍योंक‍ि जो ट्रक खड़े हैं उनकी ईएमआई चुकानी पड़ रही है, इंश्‍योरेंस कराना पड़ रहा है,  इसके अलावा अन्‍य स्‍टाफ की सेलरी भी देनी पड़ रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज