Assembly Banner 2021

कोवैक्सीन के तीसरे डोज के ट्रायल को मिली हरी झंडी, दूसरी खुराक के 6 महीने बाद लगेगा टीका

1 अप्रैल से वैक्सीनेशन का तीसरा फेज शुरू हुआ है.

1 अप्रैल से वैक्सीनेशन का तीसरा फेज शुरू हुआ है.

Covid-19 Vaccine: बूस्टर डोज (Booster Dose) स्टडी को केवल 6mcg वाले समूह पर स्टडी करने की बात कही है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कंपनी की तरफ से जारी डेटा बताता है कि करीब 190 प्रतिभागियों को दूसरे चरण के ट्रायल्स में 6mcg का डोज मिला था.

  • Share this:
नई दिल्ली. वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक (Bharat Biotech) को ड्रग रेग्युलेटर के सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (SEC) से दूसरे चरण के ट्रायल (2 Phase Trials) की अनुमति मिल गई है. इस चरण में शामिल वॉलिंटियर्स को वैक्सीन के दूसरे डोज के 6 महीने बाद कोवैक्सीन (Covaxin) का तीसरा डोज दिया जाएगा. खबर है कि कंपनी ने अतिरिक्त बूस्टर डोज के लिए आवेदन दिया था, जिसके जवाब में एसईसी ने दूसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल्स में शामिल वॉलिंटियर्स पर बूस्टर डोज स्टडी करने की बात कही है.

ट्रायल्स में शामिल ऐसे प्रतिभागियों दूसरा डोज मिलने के 4 महीनों बाद बूस्टर डोज दिया जाएगा. SEC की 23 मार्च को हुई मीटिंग के अनुसार, भारत बायोटेक तीसरे डोज के बाद कम से कम 6 महीनों तक इन प्रतिभागियों की जानकारी लेता रहेगा. खास बात है कि वैक्सीन के दूसरे चरण के ट्रायल में व्यक्ति के शरीर के अंदर इम्यून प्रतिक्रिया देखी जाती है. यह तीसरे चरण के ट्रायल से अलग होता है, जहां प्रभावकारिता और वैक्सीन के बाद सुरक्षित हुए लोगों के अनुपात की जांच की जाती है.

Youtube Video




यह भी पढ़ें: Corona Vaccine: अप्रैल में छुट्टियों समेत हर दिन लगाई जाएगी कोरोना वैक्सीन
कंपनी ने दूसरे चरण के ट्रायल बीते साल अगस्त में शुरू कर दिए थे. कंपनी ने 380 प्रतिभागियों को दो समूहों में बांटा था. जिनमें से एक को 3mcg का डोज मिला था. वहीं, दूसरे को 6mcg का डोज दिया गया था. दोनों समूहों को एक महीने के अंतर से दोनों खुराकें दी गई थीं. इस दौरान खुराक के दोनों तरीकों ने बताया था कि वैक्सीन सुरक्षित है और सुरक्षा प्रदान कर रही है. 6mcg डोज को बेहतर इम्यून प्रतिक्रिया की वजह से चुना गया था. एक्सपर्ट कमेटी ने भी बूस्टर स्टडी को केवल 6mcg वाले समूह पर स्टडी करने की बात कही है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कंपनी की तरफ से जारी डेटा बताता है कि करीब 190 प्रतिभागियों को दूसरे चरण के ट्रायल्स में 6mcg का डोज मिला था. अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से लिखा कि अब इन प्रतिभागियों को आगे दो समूहों में बांटा जाएगा, जहां एक समूह को तीसरा बूस्टर डोज दिया जाएगा. फिलहाल, भारत बायोटेक भारत में 25 हजार 800 प्रतिभागियों पर तीसरे चरण के ट्रायल कर रही है. मार्च में कंपनी ने अंतरिम डोटा जारी किया था. इसमें वैक्सीन के 80.6 फीसदी प्रभावी होने का दावा किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज