आदिवासी समूहों की मांग- कर्णावत नहीं असवाल हो अहमदाबाद का नाम

गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने कहा था, ‘बड़े समय से अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की मांग की जा रही है. सरकार इस पर विचार कर रही है. नाम को कानूनी तौर पर बदला जा सकता है या नहीं इस पर परामर्श लिया जा रहा है.'

News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 11:53 PM IST
आदिवासी समूहों की मांग- कर्णावत नहीं असवाल हो अहमदाबाद का नाम
गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने कहा था, ‘बड़े समय से अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की मांग की जा रही है. सरकार इस पर विचार कर रही है. नाम को कानूनी तौर पर बदला जा सकता है या नहीं इस पर परामर्श लिया जा रहा है.'
News18Hindi
Updated: November 10, 2018, 11:53 PM IST
(उदय सिंह राणा)

उत्तर प्रदेश में फैजाबाद और इलाहाबाद का नाम बदले जाने के बाद गुजरात में भी अहमदाबाद का नाम बदलने जाने की बात शुरू हो गई है. लोगों की मांग है कि अहमदाबाद का नाम चालुक्य राजा कर्ण के नाम पर 'कर्णावती' कर दिया जाए.

राज्य के कुछ आदिवासी समूहों का दावा है कि राजा कर्ण ने खुद भील राजा को हटाया था और अगर बीजेपी नाम बदलना चाहती है तो उसे आदिवासी राजा असवाल का सम्मान करना चाहिए न कि कर्ण का. इसके साथ ही आदिवासी कार्यकर्ताओं का कहना है कि अगर यह नहीं हो सकता तो नाम ही न बदला जाए.

आदिवासी किसान संघर्ष मोर्चा के रोमल सूत्रीय ने News18 को बताया , 'आदर्श स्थिति की बात करें तो सरकारों को नामकरण नहीं करना चाहिए. शहर को अहमदाबाद बुलाना उपयुक्तता का विषय है इसे बदलने की कोई जरूरत नहीं है. हालांकि, अगर वे इसे बदलने जा रहे हैं, तो उन्हें मूल रूप से भील राजा असवाल को सम्मानित करने के लिए इसे नाम में बदलना चाहिए जिन्होंने इस शहर को स्थापित किया.'

यह भी पढ़ें -  क्यों नहीं बदला जा सकता है अहमदाबाद का नाम!

उन्होंने कहा,'आप देखें कि बीजेपी का तर्क है कि अहमद शाह एक आक्रमणकारी था जिसने गुजरात को कब्जे में ले लिया था लेकिन हमारा तर्क है कि कर्ण ने खुद आदिवासियों पर हमला किया था. असवाल ने 10 वीं शताब्दी के आसपास साबरमती नदी के पूर्वी तटों पर उनके नाम पर शहर की स्थापना की.जब चालुक्य ने कब्जा किया तो शहर का नाम बदलकर कर्णवती रखा गया था. जब यह दिल्ली सल्तनत के कब्जे में आ गया तो नाम अहमदाबाद हो गया. यदि बीजेपी इतिहास को फिर से लागू करने के लिए गंभीर है, तो उन्हें असवाल नाम देना चाहिए. अन्यथा, यह स्पष्ट हो जाएगा कि यह सिर्फ उनका हिंदुत्व का एजेंडा है.'

यह भी पढ़ें -अंग्रेजों ने बदल दिए थे इन 26 शहरों के नाम, इनमें आपका शहर तो नहीं?
Loading...
इस मुद्दे पर राज्य के सीएम विजय रुपाणी ने कहा था, ‘बड़े समय से अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने की मांग की जा रही है. सरकार इस पर विचार कर रही है. नाम को कानूनी तौर पर बदला जा सकता है या नहीं इस पर परामर्श लिया जा रहा है.' उन्होंने कहा था कि यह लोकसभा चुनावों से पहले होगा.

वहीं राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा था कि अहमदाबाद नाम ‘दासता का प्रतीक’ है. इसे बदलना जरूरी है. उन्होंने कहा था, ‘हम कानूनन मंजूरी और केंद्र से स्वीकृति समेत अन्य आवश्यक मंजूरी हासिल करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. कर्णावती नाम हमारे गौरव, आत्म-सम्मान, हमारी संस्कृति का प्रतीक है.

यह भी पढ़ें - काम महात्मा गांधी के उलट करता है, लेकिन फिर गांधी परीक्षा में टॉप किया
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर