लाइव टीवी

जम्मू में दरबार सजते ही बदला इतिहास, यहां पहली बार शान से लहराया तिरंगा

News18Hindi
Updated: November 4, 2019, 3:32 PM IST
जम्मू में दरबार सजते ही बदला इतिहास, यहां पहली बार शान से लहराया तिरंगा
जम्मू के सचिवालय पर पहली बार शान से लहराया तिरंगा

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) की शीतकालीन राजधानी जम्मू (Jammu) में नागरिक सचिवालय (Secretariat) की इमारत पर पहली बार दो झंडों की जगह शान से तिरंगा (Tricolor) फहरता नजर आया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2019, 3:32 PM IST
  • Share this:
जम्मू. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के केंद्र शासित बनने के बाद शीतकालीन राजधानी जम्मू (Jammu) में सरकार का पहला दरबार सज गया है. सुबह 9.30 बजे उपराज्यपाल गिरिश चंद्र मुर्मू (Girish Chandra Murmu) सचिवालय (Secretariat) पहुंचे. जहां उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इस दौरान खास बात यह रही कि दरबार खुलने के बाद पहली बार नागरिक सचिवालय की इमारत पर दो झंडों की जगह शान से तिरंगा फहरता नजर आया.

दरअसल, जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) की पुरानी परंपरा और नियमों के मुताबिक, सचिवालय (Secretariat) पर तिरंगे (Tricolor) के साथ राज्य का झंडा भी फहराया जाता था, लेकिन केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद सोमवार को इतिहास बदल गया.  वहीं, उपराज्यपाल मुर्मू (Girish Chandra Murmu) ने नागरिक सचिवालय में अपने नए कार्यालय से शासन की बागडोर संभाल ली. मुर्मू ने सचिवालय के कर्मचारियों से मुलाकत कर जम्मू में उनके लिए इंतजाम की जानकारी हासिल की.



6 महीने के लिए जम्मू रहेगी राजधानी
Loading...

एलजी पहली ही एक्शन मोड में रहने के संकेत दे चुके हैं. वह प्रशासनिक सचिवों के साथ बैठक करेंगे. इससे पहले मुर्मू ने सभी अधिकारियों को पारदर्शी तरीके से काम करने और जवाबदेही के साथ जन आकांक्षाओं को पूरा करने के निर्देश दिए थे. बता दें कि 25 अक्टूबर को गर्मियों की राजधानी श्रीनगर में छह महीने का अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद सिविल सचिवालय श्रीनगर में सरकारी दफ्तर बंद हो गए थे. अब सर्दियों में 6 महीने का कामकाज राजधानी जम्मू में होगा.

दोपहर में सुनी जाएगी जनता की फरियाद
आधिकारिक सूत्रों की मानें तो जम्मू-कश्मीर की नई व्यवस्था में आम लोगों के लिए खास प्रबंध किए गए हैं. कामकाज के दिनों में दोपहर 1 बजे से शाम साढ़े चार बजे तक का समय प्रशासनिक सचिवों को जनता की समस्याओं को सुनने के लिए रखा जाएगा. लोग विजिटर पास बनवाकर संबंधित विभाग के अधिकारी मिलकर अपनी समस्या बता सकेंगे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2019, 2:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...