लाइव टीवी

‘शरीयत में नहीं तुरंत तीन तलाक का जिक्र, कथित उलेमाओं ने बनाया शिगूफा’

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: June 13, 2019, 7:59 AM IST

अब बस जरूरत है कि पूरा विपक्ष भी राज्यसभा में मिलकर तीन तलाक बिल को पास कराए. ये कहना है राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन गयूर उल हसन रिज़वी का.

  • Share this:
तीन तलाक के मामले को पीछे नहीं छोड़ा जाएगा. इसे लेकर एक बार फिर से केंद्र सरकार ने अपने कदम के बारे में दोहरा दिया है. तुरंत वाले तीन तलाक के मामले में पीड़िताओं को अकेला नही छोड़ा जाएगा. अब बस जरूरत है कि पूरा विपक्ष भी राज्यसभा में मिलकर तीन तलाक बिल को पास कराए. ये कहना है राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन गयूर उल हसन रिज़वी का.

न्यूज18 हिन्दी से बात करते हुए गयूर उल हसन रिज़वी ने कहा, “ शरीयत में कहीं भी तुरंत तीन तलाक का कोई जिक्र नहीं है. लेकिन कुछ कथित उलेमाओं ने तुरंत तीन तलाक को शिगूफा बना दिया है. तीन तलाक से जुड़े मामलों की शिकायतें हमारे पास भी आती हैं. लेकिन परेशानी ये है कि अभी तक तीन तलाक बिल सिर्फ लोकसभा में पास हुआ है. राज्यसभा में पास होना बाकी है. जिसके चलते पुलिस और दूसरे स्तर पर इस मामले में कार्रवाई करने में दिक्कत आती है.

पुलिस में उलझ जाता है मामला
गयूर उल हसन रिज़वी ने कहा कि होता ये है कि तीन तलाक का मामला सबसे पहले पुलिस के पास जाता है. जबकि पुलिस को इस मामले में कोई जानकारी नहीं होती है. इसके चलते मामला वहां उलझकर रह जाता है. लेकिन इस मामले में केंद्र सरकार की जो सबसे अच्छी मंशा है और हम भी अपने कमीशन में आने वाले मामले में करते हैं वो ये कि सबसे पहले दोनो पक्षों को बैठाकर बातचीत कराते हैं. कोशिश होती है कि दोनों में सुलह हो जाए.

रिज़वी ने कहा, ''घर-परिवार बिगड़े न. जब समझौते की बात पर लड़का पक्ष तैयार नहीं होता है तो इसमें आगे की कार्रवाई की जाती है. और सबसे बड़ी बात ये कि बीजेपी और पीएम नरेंद्र मोदी भी इस मामले में एक बार फिर से अपनी बात को दोहरा चुके हैं.”

ये भी पढ़ें- देश के पहले मुस्लिम एयर फोर्स चीफ जिन्होंने 1971 में पाक को सिखाया सबक

दबंगों ने सिर्फ इस लिए दलित के तोड़ दिए हाथ! न्याय के लिए भटक रहा परिवार
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 12, 2019, 10:16 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...