तीन तलाक की जंग लड़ने वाली शायरा बानो ने कहा- कानून का डर ज़रूरी, महिलाओं की जिंदगी सुधरेगी

तीन तलाक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में लंबी लड़ाई लड़ने वाली शायरा बानो का कहना है कि अब लोगों में कानून का डर होगा और ऐसे मामलों में कमी आएगी. वहीं, भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान शबा अंजुम ने इसे ऐतिहासिक कदम बताया.

News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 8:02 PM IST
तीन तलाक की जंग लड़ने वाली शायरा बानो ने कहा- कानून का डर ज़रूरी, महिलाओं की जिंदगी सुधरेगी
तीन तलाक के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़ने वाली शायरा बानो कहती हैं कि यह उनकी और इस कुप्रथा के खिलाफ लड़ने वाली सभी महिलाओं की बड़ी जीत है.
News18Hindi
Updated: July 30, 2019, 8:02 PM IST
सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक के खिलाफ याचिका दायर करने वाली शायरा बानो राज्यसभा में भी ट्रिपल तलाक बिल पारित होने से काफी खुश हैं. वह कहती हैं कि यह उनकी और इस कुप्रथा के खिलाफ लड़ने वाली सभी महिलाओं की बड़ी जीत है. अब कोई यूं ही आराम से तीन तलाक नहीं दे पाएगा. लोगों में कानून का डर होगा. उन्हें पता होगा कि तीन तलाक दिया तो जेल भी जाना पड़ेगा.

'अब जरूरत मुस्लिम महिलाओं को जागरूक करने की है'
शायरा बानो के मुताबिक, अब लोगों को तीन तलाक कानून के बारे में जागरूक करने की जरूरत है. हर मुस्लिम महिला को बताना होगा कि उन्हें इस कानून के तहत कौन-कौन से अधिकार मिले हैं. उन्हें बताना होगा कि तीन तलाक की स्थिति में कानून उनके साथ है. शायरा बानो के मुताबिक, इस विधेयक के विधिवत कानून बनने के बाद तीन तलाक जैसी कुप्रथा पर लगाम लगेगी. बेशक लोग अब भी नहीं मानेंगे, लेकिन इससे तीन तलाक के मामलों में काफी कमी आएगी.

'महिलाएं पतियों से ही डरती रहेंगी तो किसके सहारे रहेंगी'

भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान शबा अंजुम करीम का कहना है कि यह मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम है. इससे मुस्लिम महिलाओं के जीवन का बड़ा डर खत्म हो गया है. उनके मुताबिक, मुस्लिम महिलाओं के सिर पर यही तलवार लटकती रहती है कि पता नहीं किस बात पर शौहर नाराज हो जाएं और उन्हें 'तलाक-तलाक-तलाक' बोलकर शादी खत्म कर दी जाए. उनका कहना है कि जब मुस्लिम महिलाएं अपने पतियों से ही डरती रहेंगी तो किसके सहारे रहेंगी.

भारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान शबा अंजुम करीम का कहना है कि यह मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम है.


'मौखिक, लिखित या दूसरे माध्यमों से तलाक के मामले घटेंगे'
Loading...

शबा का कहना है कि अब निकाह के कुछ समय बाद ही बाहर चले जाने वाले और विदेश से फोन, ई-मेल, मैसेज के जरिये तीन तलाक के मामलों में कमी आएगी. बता दें कि तीन तलाक बिल लोकसभा के बाद मंगलवार को राज्यसभा में भी पास हो गया है. राज्यसभा में बिल के पक्ष में 99 और विपक्ष में 84 वोट पड़े. बिल को मुस्लिम महिला (महिला अधिकार संरक्षण कानून) बिल, 2019 का नाम दिया गया है. अब मौखिक, लिखित या किसी भी अन्य माध्यम से तीन तलाक देना कानूनन जुर्म होगा. आरोपी को 3 साल तक की कैद और जुर्माना दोनों देना पड़ सकता है. ये जमानती अपराध में आएगा.

ये भी पढ़ें:

राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास, जानिए दोषियों को होगी अब कितनी सजा!

ट्रिपल तलाक का ज़बरदस्त विरोध कर देश में चर्चित हुए थे आरिफ मोहम्मद

ट्रिपल तलाक़ पर BJP ने राज्यसभा में ऐसे जीती जंग, यहां पढ़िए पूरी कहानी...
First published: July 30, 2019, 7:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...