पंजाबी और जाट समुदाय पर की गई टिप्पणी के लिए त्रिपुरा के CM बिप्लब देब ने मांगी माफी

पंजाबी और जाट समुदाय पर की गई टिप्पणी के लिए त्रिपुरा के CM बिप्लब देब ने मांगी माफी
बिप्लब कुमार देब ने पंजाबी और जाट समुदाय के लोगों को विवादित टिप्पणी की थी.

पंजाबी और जाट समुदाय (Pujabi and jaats community) के बारे में आगे बोलते हुए बिप्लब कुमार देब (Biplab Kumar Deb) ने कहा कि मुझे पंजाबी और जाट दोनों ही समुदायों पर गर्व है. मैं खुद भी काफी समय तक इनके बीच रहा हूं. मेरे कई अभिन्न मित्र इसी समाज से आते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 21, 2020, 12:11 PM IST
  • Share this:
अगरतला. अपने विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले त्रिपुरा (Tripura) के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब (Biplab Kumar Deb) ने पंजाबी और जाट समुदाय को लेकर दिए बयान पर सफाई दी है. मंगलवार सुबह बिप्लब कुमार देब ने ट्वीट कर कहा, अगरतला प्रेस क्लब में आयोजित एक कार्यक्रम में मैंने अपने पंजाबी और जाट भाइयों के बारे मे कुछ लोगों की सोच का जिक्र किया था. मेरी धारणा किसी भी समाज को ठेस पहुंचाने की नहीं थी.

पंजाबी और जाट समुदाय के बारे में आगे बोलते हुए बिप्लब कुमार देब ने कहा कि मुझे पंजाबी और जाट दोनों ही समुदायों पर गर्व है. मैं खुद भी काफी समय तक इनके बीच रहा हूं. मेरे कई अभिन्न मित्र इसी समाज से आते हैं. अगर मेरे बयान से किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची है तो उसके लिए मैं व्यक्तिगत रूप से क्षमाप्रार्थी हूं.
एक के बाद एक लगातार तीन ट्वीट करते हुए विप्लब देब ने कहा, देश के स्वतंत्रता संग्राम में पंजाबी और जाट समुदाय के योगदान को मैं सदैव नमन करता हूं और भारत को आगे बढ़ाने में इन दोनों समुदायों ने जो भूमिका निभाई है उसपर प्रश्न खड़ा करने की कभी मैं सोच भी नहीं सकता हूं.

पंजाबी-जाट समुदाय के बारे में क्या बोले थे देब?
सोमवार को अगरतला प्रेस क्लब में आयोजित कार्यक्रम में बिप्लब कुमार देब ने देश के अलग-अलग समुदायों और राज्यों के लोगों से जुड़ी बातें समझा रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा था कि अगर पंजाब के लोगों की बात करें तो लोग उन्हें पंजाबी कहते हैं, एक सरदार हैं! सरदार किसी से नहीं डरता. वह बहुत ताकतवर होते हैं हालांकि उनका दिमाग कम होता है. कोई भी उन्हें ताकत से नहीं बल्कि प्यार से जीत सकता है. इसके बाद उन्होंने हरियाणा के जाटों का जिक्र किया था.


जाटों के बारे में बोलते हुए देब ने कहा था कि लोग जाटों के बारे में कैसे बात करते हैं... वे कहते हैं... जाट कम बुद्धिमान हैं, लेकिन शारीरिक रूप से स्वस्थ हैं. यदि आप एक जाट को चुनौती देते हैं तो वह अपनी बंदूक अपने घर से बाहर ले आएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज