Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    त्रिपुरा: कोरोना संकट के बीच ओलावृष्टि प्रभावित इलाकों का CM विप्लब देब ने किया दौरा

    : CM विप्लब देब ने कोरोना संकट के बीच ओलावृष्टि प्रभावित इलाकों का किया दौरा (फाइल फोटो)
    : CM विप्लब देब ने कोरोना संकट के बीच ओलावृष्टि प्रभावित इलाकों का किया दौरा (फाइल फोटो)

    राज्य के सिपाहीजला और खोवाई जिले में ओलावृष्टि, आंधी और मूसलाधार बारिश से ज्यादा नुकसान हुआ है. जिला प्रशासन के अनुसार सिपाहीजला जिला में विभिन्न स्थानों पर 17 राहत कैंप बनाए गए हैं.

    • News18Hindi
    • Last Updated: April 23, 2020, 6:37 PM IST
    • Share this:
    अगरतला. त्रिपुरा (Tripura) पर कुदरत की दोहरी मार पड़ती नजर आ रही है. लॉकडाउन (Lockdown) का पालन करते हुए राज्यवासी कोरोना से मुकाबला कर ही रहें हैं कि इस बीच तेज आंधी के साथ ओलावृष्टि और मूसलाधार बारिश ने राज्य में तगड़ा कहर बरपाया है. राज्य के अधिकांश जिले बुधवार देर शाम को हुई प्रकृति की इस मार से त्रस्त हैं. करीब 5,000 से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचा है. कुछ पूरी तरह से ध्वस्त हो गए हैं तो कुछ को आंशिक रूप से क्षति पहुंची है. भारी संख्या में पेड़ पौधों को नुकसान पहुंचा है. प्रशासन निचले स्तर पर नुकासन के वास्तिवक आंकलन में जुटा है.

    गुरूवार सुबह मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने स्वयं मोर्चा संभालते हुए प्रभावित इलाकों का दौरा किया और जमीन पर जनता के बीच बचाव एवं राहत कार्यों का जायजा लिया. सिपाहीजला जिला के विभिन्न इलाकों में पहुंचकर मुख्यमंत्री देब ने जनता से बातचीत की और राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लिया. कुछ जगहों पर देब ने तत्काल राहत के लिए जनता को चैक से राहत राशि वितरित की. मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने बुधवार रात को ही सूबे के मुख्यसचिव मनोज कुमार को प्रभावित क्षेत्रों में बचाव एवं राहत कार्य तेज गति से करने के निर्देश दे दिए थे. देब ने प्रभावित जिलों के डीएम से भी सीधे बातचीत कर हालातों की जानकारी ली.

    राज्य के सिपाहीजला और खोवाई जिले में ओलावृष्टि, आंधी और मूसलाधार बारिश से ज्यादा नुकसान हुआ है. जिला प्रशासन के अनुसार सिपाहीजला जिला में विभिन्न स्थानों पर 17 राहत कैंप बनाए गए हैं. जिनमें 4,200 लोगों को रखा गया है. प्रशासन की ओर से इन केंद्रों में स्वास्थ्य व अन्य मूलभूत सुविधाओं के साथ लोगों को निःशुल्क भोजन प्रदान किया जा रहा है. तो खोवाई जिले में अलग-अलग जगहों पर 5 राहत कैंप लगाए गए हैं.



    करीब 5000 से ज्यादा घर प्रभावित
    मुख्यमंत्री देब ने ट्विट कर जानकारी दी है कि बुधवार को आई प्राकृतिक आपदा से कई करोड़ रूपये का नुकसान हुआ है. नुकसान का आंकलन अब भी जारी है. करीब 5000 से ज्यादा घर प्रभावित हैं. मुख्यमंत्री ने राज्यवासियों से अपील किया है कि आपदा से कोरोना की लडाई पर आंच नहीं आने देंगे. त्रिपुरसुंदरी के आर्शीवाद से त्रिपुरावासी आपदा के प्रभाव और कोरोना की लड़ाई दोनों से ही मुकाबला करेंगे. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार जनता की हर संभव मदद के लिए तत्पर है. संबंधित अधिकारियों को उचित निर्देष दिए गए हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज