अपना शहर चुनें

States

त्रिपुरा के किसानों ने किया प्रधानमंत्री मोदी के किसान कानून का समर्थन

अगरतला में बुधवार को भाजपा द्वारा आयोजित किसान सम्मेलन में हजारों की संख्या में किसान पहुंचे.
अगरतला में बुधवार को भाजपा द्वारा आयोजित किसान सम्मेलन में हजारों की संख्या में किसान पहुंचे.

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के बीच त्रिपुरा के किसानों ने पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भरोसा जताते हुए उनके कृषि कानून (Farm Laws) का समर्थन किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 17, 2020, 5:25 PM IST
  • Share this:
अगरतला. हजारों की संख्या में अगरतला (Agartala) पहुंचकर त्रिपुरा (Tripura) के किसानों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) पर अपना भरोसा जताया है. अगरतला में बुधवार को भाजपा द्वारा आयोजित किसान सम्मेलन में हजारों की संख्या में किसान पहुंचे. उन्होंने पीएम मोदी की कृषि नीति का समर्थन करते हुए यह संदेश दिया कि वे प्रधानमंत्री मोदी की कल्याणकारी नीतियों से प्रसन्न हैं.

दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के बीच त्रिपुरा के किसानों ने पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भरोसा जताते हुए उनके कृषि कानून (Farm Laws) का समर्थन किया. तो किसानों को भ्रमित करने का आरोप लगाते हुए राज्य के मुख्यमंत्री बिप्लब देब (CM Biplab Deb) ने वाम दलों पर जमकर निशाना साधा. किसान रैली को संबोधित करते हुए बिप्लब देब ने कहा कि त्रिपुरा में सभी किसान भाई केंद्र और राज्य सरकार की कल्याणकारी नीतियों और योजनाओं से लाभान्वित हो रहे हैं. आंदोलन के नाम पर वामदलों ने किसानों को सिर्फ भ्रमित किया है.





ये भी पढ़ें- आंदोलन करने वाले किसानों की मांग और क्या है इसके समाधान
त्रिपुरा के सीएम ने कहा किसानों के हित में हैं कानून
बिप्लव देब ने किसानों को बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार ने जो कानून बनाया है वो किसानों के हित में है. कम्युनिस्ट का आलम यह है कि 25 वर्ष के शासन के बावजूद भी वाम सरकार ने त्रिपुरा में न्यूनतम समर्थन मूल्य लागू नहीं किया. भाजपा सरकार आने के बाद से राज्य में एमएसपी ( MSP) की व्यवस्था लागू हुई है. देब ने कहा कि किसान भाइयों की मेहनत और केंद्र व राज्य सरकार के सार्थक प्रयासों के बदौलत ही त्रिपुरा का कृषि विकास दर विगत दो वर्षों में 6.4 से बढ़कर 13.5 पहुंचा है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि अपने आप को किसानों के हितैषी करार देने वाले वाम दल के शासन में त्रिपुरा के किसानों की फसल खेतों में सड़ जाती था. कृषि उत्पादों को बाजार तक पहुंचाने की कोई व्यवस्था नहीं थी. मगर भाजपा सरकार द्वारा व्यवस्था किए जाने के बाद त्रिपुरा के कृषि उत्पाद न सिर्फ देश के बड़े शहरों में पहुंच रहे हैं बल्कि दुबई और कतर के बाजारों तक में त्रिपुरा के कृषि उत्पादों ने अपनी पहुंच बनाई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज