Home /News /nation /

सोशल मीडिया पर ट्रोल हुईं शहीद की पत्नी, कहा- पुलवामा हमले के बाद फर्क पड़ना बंद हो गया

सोशल मीडिया पर ट्रोल हुईं शहीद की पत्नी, कहा- पुलवामा हमले के बाद फर्क पड़ना बंद हो गया

अपने पति को श्रद्धांजलि देती मिता संत्रा

अपने पति को श्रद्धांजलि देती मिता संत्रा

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकवादी हमले में शहीद हुए 40 जवानों में मिता संत्रा के पति बबलू संत्रा भी थे.

    पुलवामा के आतंकवादी हमले में शहीद हुए एक जवान की पत्नी ने भारत और पाकिस्तान के बीच शांति की वकालत की थी, जिसके बाद उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल होना पड़ा था. गुरुवार को शहीद की पत्नी ने एक बार फिर कहा कि वह अपनी राय पर कायम है और बातचीत को मौका दिया जाना चाहिए.

    जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकवादी हमले में शहीद हुए 40 जवानों में मिता संत्रा के पति बबलू संत्रा भी थे.

    अपने पति की मृत्यु के बाद मिता ने युद्ध के खिलाफ जोरदार आवाज उठाई थी, जबकि दूसरी तरफ पूरे देश में आतंकवादी हमले का बदला लेने की मांग उठ रही थी. उन्होंने जोर देकर कहा था कि युद्ध को टाला जाना चाहिए, क्योंकि इससे सीमा के दोनों तरफ कई लोगों की जान जाएगी, जिससे महिलाएं विधवा होंगी, माताओं की कोख उजड़ेंगी और बच्चे अपने पिता को खो देंगे.

    मिता ने कहा कि वह अपने युद्ध विरोधी रुख को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोल होने से चिंतत नहीं थी. उन्होंने कहा कि अगर एक व्यक्ति ने उनकी आलोचना की तो 10 अन्य लोगों ने उनके दृष्टिकोण की सराहना की. उन्होंने कहा, "हमें युद्ध की जगह बातचीत को मौका देना चाहिए, क्योंकि युद्ध से और कई लोगों की जान जा सकती है."

    ये भी पढ़ें: परमाणु हमला हुआ तो भारत-पाकिस्‍तान के साथ दांव पर होगी आधी दुनिया

    ट्रोल्स ने मिता से यहां तक पूछा था कि क्या वे अपने पति से प्यार करती थीं? 6 साल की बच्ची की मां मिता ने कहा, "14 फरवरी के बाद मुझे कुछ अहसास नहीं होता. कोई कुछ भी कह सकता है, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता."

    हालांकि उन्होंने सवाल किया कि जो लोग उनकी आलोचना कर रहे हैं क्या उनके परिवार का कोई सदस्य, सेना, वायुसेना या फिर नेवी में है? मिता ने  कहा, "यह स्वाभाविक है कि सुरक्षा बलों को युद्ध में जाना होगा और अंतिम बलिदान देना होगा, लेकिन भारत सरकार को उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए."

    बता दें कि मॉर्डन हिस्ट्री में पोस्ट ग्रेजुएट मिता संत्रा एक प्राइवेट स्कूल में टीचर हैं. उन्होंने बताया कि उन्हें सीआरपीएफ में जॉब ऑफर हुई है, लेकिन अभी तक उन्होंने इस ऑफर पर विचार नहीं किया है. उनका कहना सीआरपीएफ की नौकरी में ट्रांसफर होंगे जिस कारण उनकी वृद्ध सास की देखभाल नहीं हो पाएगी.

    मिता ने कहा, "मुझे पश्चिम बंगाल सरकार में नौकरी चाहिए, जैसा कि मेरे पति के शहीद होने के बाद हमारे घर आए मंत्रियों ने कहा था."

    ये भी पढ़ें: PoK में भीड़ हमला करती रही, फिर भी अभिनंदन ने निहत्थों पर नहीं चलाईं गोलियां

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

    Tags: CRPF, India, Pakistan, Pulwama attack, Trending news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर