अपना शहर चुनें

States

लद्दाख को चीन का हिस्सा दिखाने पर ट्विटर ने माफी मांगी, 30 नवंबर तक सुधारेगा गलती

संसदीय समिति की चेयरपर्सन मीनाक्षी लेखी (फोटो: ANI/Twitter)
संसदीय समिति की चेयरपर्सन मीनाक्षी लेखी (फोटो: ANI/Twitter)

सांसद मीनाक्षी लेखी (Meenakshi Lekhi) ने बताया कि हमें ट्विटर की तरफ से हलफनामा मिल गया है. इस हलफनामे में उन्होंने लद्दाख (Ladakh) के हिस्से को गलत जियोटैग करने और इसे चीन का हिस्सा दिखाए जाने की गलती मान ली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 18, 2020, 6:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर (Twitter) ने लद्दाख को चीन का हिस्सा दिखाए जाने की गलती स्वीकार कर ली है. डेटा सुरक्षा बिल पर संसदीय समिति की चेयरपर्सन मीनाक्षी लेखी ने इस बात की जानकारी बुधवार को दी है. गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ट्विटर इंडिया ने लद्दाख को पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना का हिस्सा बता दिया था. बीती 28 अक्टूबर को इस मामले ट्विटर की तरफ से मिले जवाब को संसदीय समिति ने नाकाफी बताया था. इसे लेकर प्लेटफॉर्म के अधिकारी समिति के सामने पेश हुए थे.

30 नवंबर तक कर लेंगे सुधार
समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सांसद मीनाक्षी लेखी ने बताया कि हमें ट्विटर की तरफ से हलफनामा मिल गया है. इस हलफनामे में उन्होंने लद्दाख के हिस्से को गलत जियोटैग करने और इसे चीन (China) का हिस्सा दिखाए जाने की गलती मान ली है. लेखी ने कहा कि ट्विटर ने इस गलती को 30 नवंबर तक ठीक करने की बात की है.

सांसद ने कहा कि भारत के नक्शे के भौगोलिक क्षेत्र को गलत दिखाने के लिए ट्विटर इंक के मुख्य निजता अधिकारी डेमियन कैरियन के हस्ताक्षर वाला शपथपत्र दिया गया है. समाचार एजेंसी पीटीआई से बातचीत में लेखी ने कहा कि ट्विटर ने मानचित्र में लद्दाख को चीन में दिखाने के लिए लिखित माफी मांगी है.



संसदीय समिति ने जताई थी कड़ी आपत्ति
बीते महीने डेटा प्रोटेक्शन बिल पर बनी संसदीय समिति ने लद्दाख को चीन का हिस्सा दिखाए जाने पर ट्विटर के खिलाफ नाराजगी जताई थी. समिति ने कहा था कि यह राजद्रोह है और हलफनामे के तौर पर अमेरिका बेस्ड सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की मुख्य कंपनी से स्पष्टीकरण मांगा था. लेखी की अगुआई वाली समिति के सामने ट्विटर इंडिया के अधिकारियों ने माफी मांगी थी, लेकिन सदस्यों से उनसे कहा था कि यह आपराध है, जिसने भारत की संप्रुभता पर सवाल उठाए हैं. इस मामले में ट्विटर इंक को हलफनामा देना होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज