अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को लेकर ट्विटर चिंतित, बयान जारी कर कहा- नियमों का पालन करेंगे

ट्विटर ने कहा कि वह भारत में लागू कानूनों का पालन करने की कोशिश करेगी.

ट्विटर ने कहा कि वह भारत में लागू कानूनों का पालन करने की कोशिश करेगी.

Twitter statement on new IT rules: माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने कहा है कि पारदर्शिता के सिद्धांतों और सेवा पर हर आवाज़ को सशक्त बनाने की प्रतिबद्धता और कानून के शासन के तहत अभिव्यक्ति की आजादी और गोपनीयता की रक्षा के लिए कड़ाई से निर्देशों का पालन करेंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए नए डिजिटल नियमों पर ट्विटर ने बयान जारी कर अपना पक्ष रखा है. माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने अपने बयान में अभिव्यक्ति के संभावित खतरे और पुलिस द्वारा डराने धमकाने की रणनीति के उपयोग पर चिंता जाहिर की है. ट्विटर ने अपने बयान में कहा है कि माइक्रो ब्लॉगिंग साइट भारत के लोगों के प्रति गहराई से प्रतिबद्ध है. ट्विटर की उपयोगिता सार्वजनिक बातचीत और कोरोना महामारी के दौरान लोगों के समर्थन के स्रोत के रूप में साबित हुई है. कंपनी अपनी सेवाएं उपलब्ध रखने के लिए भारत में लागू कानून का पालन करने का प्रयास करेगी.

कंपनी ने कहा है कि पारदर्शिता के सिद्धांतों और सेवा पर हर आवाज़ को सशक्त बनाने की प्रतिबद्धता और कानून के शासन के तहत अभिव्यक्ति की आजादी और गोपनीयता की रक्षा के लिए कड़ाई से निर्देशों का पालन करेंगे. ट्विटर भारत में अपने कर्मचारियों के संबंध में हाल की घटनाओं और उन लोगों (यूजर्स) की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के संभावित खतरे से चिंतित है, जिनकी वे सेवा करते हैं.

ट्विटर इससे जुड़े विनियमों के उन तत्वों में बदलाव की वकालत करने की योजना बना रहा है, जो मुक्त और खुली सार्वजनिक बातचीत को रोकते हैं. कंपनी ने कहा है कि वह भारत सरकार के साथ रचनात्मक बातचीत जारी रखेगी.

बता दें कि नए डिजिटल नियमों में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को भारत में एक अनुपालन अधिकारी नियुक्त करने, शिकायत प्रतिक्रिया तंत्र स्थापित करने और कानूनी आदेश के 36 घंटों के अंदर सामग्री को हटाने जैसे प्रस्ताव का जिक्र किया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज