दो भतीजों ने बदल दी महाराष्ट्र की राजनीति, पर्दे के पीछे यूं तैयार किया सरकार बनाने का प्लान

अजित पवार और धनंजय मुंडे ने बदल दी राजनीति!
अजित पवार और धनंजय मुंडे ने बदल दी राजनीति!

महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजनीति में हड़कंप मचाने वाले कोई और नहीं बल्कि दो वहां के दो बड़े नेताओं के भतीजे हैं और ये दोनों एनसीपी के नेता हैं. ये हैं अजित पवार (Ajit Pawar) और धनंजय मुंडे (Dhananjay Munde)..

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2019, 6:16 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र की राजनीति रातों रात बदल गई. शनिवार सुबह देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) और अजीत पवार (Ajit Pawar) के शपथ लेते ही राजनीतिक जगत में भूचाल सा आ गया. एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) से लेकर शिवसेना के नेता तक किसी को ये यकीन नहीं हो रहा था कि आखिर ये राजनीतक समीकरण कैसे तैयार हो गया. सूत्रों के मुताबिक, महाराष्ट्र की राजनीति में हड़कंप मचाने वाले कोई और नहीं बल्कि वहां के दो बड़े नेताओं के भतीजे हैं. ये हैं अजित पवार (Ajit Pawar) और धनंजय मुंडे (Dhananjay Munde).

चाणक्य की भूमिका में भतीजा धनंजय 
धनंजय मुंडे बीजेपी के पूर्व दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे के भतीजे और बीजेपी नेता पंकजा मुंडे के चचेरे भाई हैं. पंकजा बीजेपी की पिछली सरकार में मंत्री थीं. इस बार के विधानसभा चुनाव में धनंजय मुंडे ने अपनी चचेरी बहन पंकजा मुंडे को 30 हज़ार से ज्यादा वोटों से हराया.

कहा जा रहा है कि धनंजय ने बीजेपी और एनसीपी की सरकार बनाने में चाणक्य की भूमिका निभाई. कल यानी शुक्रवार शाम को उन्होंने देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात की थी. इसके बाद अजित पवार के साथ मिलकर सरकार गठन का प्लान तैयार किया गया. करियर की शुरुआत में धनंजय बीजेपी के यूथ विंग के नेता थे. हालांकि साल 2012 में वह बीजेपी छोड़कर एनसीपी से जुड़ गए थे. ऐसे में दोनों ही नेताओं के बीच वह आसानी से पुल का काम कर सके. फिलहाल धनंजय मुंडे का फोन कल रात से बंद है और वह किसी के संपर्क में नहीं है.
दूसरा भतीजा बना उप मुख्यमंत्री


उधर एक और भतीजे और उपमुख्यमंत्री की शपथ लेने वाले अजित पवार का ताल्लुक महाराष्ट्र के सबसे बड़े राजनीतिक घराने शरद पवार से है. एनसीपी के सुप्रीमो शरद पवार उन पर आरोप लगा रहे हैं कि धोखे से उनके भतीजे अजीत पवार ने बीजेपी से हाथ मिला लिया. शरद पवार ने कहा कि वो अजित पवार के खिलाफ एक्शन लेंगे. पवार ने दावा किया है कि उन्हें सारे विधायकों को समर्थन प्राप्त है.

वहीं शपथ लेने के बाद अजीत पवार ने कहा ‌कि वो लोगों की समस्या के लिए साथ आए हैं. उन्होंने ये भी कहा है कि वो किसानों की समस्या को खत्म करना चाहते हैं. उनकी भलाई के लिए ही सरकार में आए हैं. पवार ने साथ ही कहा कि लोगों ने जिसे सरकार बनाने के लिए चुना था, उन्हीं को सरकार बनानी भी चाहिए.

ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र में 40 MLA पर अटकी है BJP और अजित पवार की जान! जानें सारा गणित

देवगौड़ा की राह पर अजित पवार! महाराष्ट्र में दोहराई कर्नाटक की कहानी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज