टायफाइड मानकर कोरोना के इलाज में कर रहे देरी, यहां 1 महीने में दोगुना हुआ मौत का आंकड़ा

झारखंड में एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण से 136 और लोगों की मौत होने के बाद इस बीमारी के मृतकों की कुल संख्या 3,615 पर पहुंच गई है

झारखंड में एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण से 136 और लोगों की मौत होने के बाद इस बीमारी के मृतकों की कुल संख्या 3,615 पर पहुंच गई है

Coronavirus: झारखंड में एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण से 136 और लोगों की मौत होने के बाद इस बीमारी के मृतकों की कुल संख्या 3,615 पर पहुंच गई है. कई लोग टायफाइड के चलते कोरोना का देर से इलाज करा रहे हैं

  • Share this:

बोकारो. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के हालात झारखंड के बोकारो शहर में बिगड़ते जा रहे हैं. यहां पिछले एक महीने के दौरान मौत की संख्या दोगुनी हो गई है. पूरे राज्य की बात की जाए तो एक्टिव केस के मामले में ये शहर चौथे नंबर पर है. दरअसल बोकारो में ज्यादातर लोग इस बात को लेकर कंफ्यूज हैं कि उन्हें कोरोना हुआ या फिर टायफाइड. लिहाज़ा कोरोना के इलाज में देरी हो रही है. डॉक्टरों का कहना है कि यहां के ग्रामीण इलाकों में लोग कोरोना टेस्ट कराने से डर रहे हैं.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक बोकारो के सदर अस्पताल में करीब 36 कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा है. पास के गांव के रहने वाले 55 साल के धर्मनाथ का इलाज भी इसी अस्पताल में हो रहा है. उनके बेटे का कहना है कि शुरुआत में डॉक्टरों ने टायफाइड का इलाज किया. बाद में जब उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ तो फिर उनका कोरोना टेस्ट कराया गया जहां वो पॉजिटिव निकले.

ये भी पढ़ें:- तब्लीगी जमात: कोरोना को लेकर किए गए बदनाम, अब कर रहे पीड़ितों का अंतिम संस्कार

हर मरीज की किस्मत अच्छी नहीं होती. 40 किलोमीटर दूर पटेरवार ब्लॉक के रहने वाले राम स्वरूप अग्रवाल को पिछले महीने टायफाइड हो गया था. उन्हें पास में ही रामगढ़ के एक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया. लेकिन 28 अप्रैल को उनकी मौत हो गई. मौत के बाद उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई. यहां के गांव के प्रमुख अनिल सिंह का कहना है कि टायफाइड को लेकर गांव के लोग काफी ज्यादा कंफ्यूज हैं. अनिल सिंह ने आगे कहा, 'अग्रवाल को शुरुआती जांच में टायफाइड निकला था. जबकि उनकी कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट नेगेटिव आई थी.'






यहां के एक सरकारी अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट अलबेला केरकेट्टा का कहना है कि लोग कोरोना का इलाज कराने से खासे डर रहे हैं. खास बात ये है कि अगर किसी की टायफाइड की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो वो राहत की सांस लेते हैं. हालांकि बाद में ऐसे लोगों की हालत बिगड़ रही है. उन्होंने कहा कि जरूरत इस बात की है कि ग्राणीण इलाकों में लोगों को कोरोना को लेकर जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज