लाइव टीवी

उद्धव ने कहा, 'देश में कहीं भी नहीं होने देंगे NRC, इसे लागू करने से हिंदुओं को भी होगी समस्या'

News18Hindi
Updated: February 5, 2020, 6:16 PM IST
उद्धव ने कहा, 'देश में कहीं भी नहीं होने देंगे NRC, इसे लागू करने से हिंदुओं को भी होगी समस्या'
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की फाइल फोटो (फोटो- Twitter/ANI)

हालांकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री (Maharashtra CM) ने कहा है कि उन्हें नागरिकता संशोधन कानून (CAA) से कोई समस्या नहीं है और यह वर्तमान नागरिकों (Current Citizens) को देश से निकालने के लिए नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2020, 6:16 PM IST
  • Share this:
(विनय देशपांडे)

मुंबई. हालांकि नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर सैद्धांतिक तौर पर कोई भी असहमति नहीं है. लेकिन राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) समस्यापूर्ण है और यह मुस्लिमों और हिंदुओं (Muslims and Hindus) को एक ही तरह से परेशान करेगा. यह बात महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कही है. शिवसेना (Shiv Sena) के मुखपत्र 'सामना' के एक्जीक्यूटिव एडिटर संजय राउत के साथ एक इंटरव्यू में उद्धव ठाकरे ने यह बात कही. इस इंटरव्यू का तीसरा अंश बुधवार को प्रकाशित हुआ है. इस इंटरव्यू में उद्धव ने अपनी पूर्व सहयोगी भारतीय जनता पार्टी को भी 'एक सच्चे और पुराने दोस्त को धोखा देने' के लिए लताड़ा है.

CAA और इसे लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शनों के बारे में बोलते हुए सीएम ठाकरे (CM Thackeray) ने कहा, "इसके बारे में कुछ भी नया और गंभीर नहीं है. लेकिन केंद्र सरकार को भारतीय नागरिकता की मांग करने वाले हिंदू अल्पसंख्यकों (Hindu Minorities) के बारे में जानकारी देनी चाहिए. केंद्र सरकार को उनके पुनर्वास की विस्तृत योजना के बारे में भी बताना चाहिए. वरना मुंबई जैसे बड़े शहरों पर इसका बोझ आएगा."

CAA, NRC को लेकर देशभर में हो रहे थे प्रदर्शन

CAA के जरिए पाकिस्तान (Pakistan), अफगानिस्तान और बांग्लादेश के गैर-मुस्लिमों को नागरिकता देना आसान हो जाएगा. आलोचक कहते हैं कि यह कानून मुस्लिमों के खिलाफ भेदभाव करता है और धर्मनिरपेक्षता और समानता (secularism and equality) के संवैधानिक मूल्यों को खत्म करता है. दिसंबर में इस विधेयक के कानून बनने और गैरकानूनी शरणार्थियों की पहचान के लिए पूरे देश में लागू होने वाले NRC की प्रक्रिया को देखते हुए पूरे देश में प्रदर्शनों की एक लहर चल पड़ी थी, जिसके दौरान छिटपुट हिंसा भी देखने को मिली थी.

'नोटबंदी की तरह, आप पूरे देश को लाइन में खड़ा कर देना चाहते हैं'
ठाकरे ने अपने इंटरव्यू में बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार को भी NRC के मुद्दे पर इसकी कम्युनिकेशन स्ट्रैटजी और असम में इसके विफल प्रयोग को लेकर लताड़ा. उन्होंने कहा, "यह सरकार की अजीब नीति है- लगातार आपको तनाव में रखने की. नोटबंदी की तरह, आप कुछ गैरकानूनी शरणार्थियों (illegal migrants) के चलते पूरे देश को लाइन में खड़ा कर देना चाहते हैं."जब CAA के बारे में पूछा गया तो शिवसेना प्रमुख ने कहा, "इसमें नया और गंभीर क्या है? CAA हमारे पड़ोसी देशों के हिंदू अल्पसंख्यकों के लिए है. धार्मिक प्रताड़ना (religious persecution) के चलते जो हिंदू भारत की नागरिकता की मांग कर रहे हैं, उनकी संख्या के बारे में देश को क्यों नहीं पता है? उन्हें देश में बसाए जाने और नौकरी दिए जाने को लेकर क्या योजना है?"

यह भी पढ़ें: कार्ति चिदंबरम का हमला-दिखावे की जरूरत नहीं, बीजेपी में शामिल हो जाएं रजनीकांत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2020, 6:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर