लाइव टीवी

शिरडी विवाद सुलझाने के लिए उद्धव ठाकरे ने बुलाई बैठक, अनिश्चितकालीन बंद का फैसला वापस

News18Hindi
Updated: January 20, 2020, 8:15 AM IST
शिरडी विवाद सुलझाने के लिए उद्धव ठाकरे ने बुलाई बैठक, अनिश्चितकालीन बंद का फैसला वापस
शिरडी विवाद सुलझाने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुलाई बैठक.

महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के साथ आज दोपहर दो बजे होने वाली बैठक में शिरडी और पाथरी ग्रामसभा, संसद सदाशिव लोखंडे, साईबाबा मंदिर ट्रस्ट के सीईओ, शिरडी के विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल शामिल होने वाले हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 20, 2020, 8:15 AM IST
  • Share this:
शिरडी. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ आज दोपहर दो बजे होने वाली बैठक में शिरडी और पाथरी ग्रामसभा, संसद सदाशिव लोखंडे, साईबाबा मंदिर ट्रस्ट के सीईओ, शिरडी के विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल शामिल होने वाले हैं. बता दें कि उद्धव ठाकरे ने 9 जनवरी को औरंगाबाद में एक भाषण के दौरान कहा था कि पाथरी को साईं की जन्मभूमि के तौर पर विकसित किया जाएगा और इसके लिए 100 करोड़ रुपए दिए जाएंगे. उन्होंने कहा था कि शिरडी साईंबाबा की कर्मभूमि थी और पाथरी जन्मभूमि. उद्धव ठाकरे के इस बयान के बाद से लोगों में काफी गुस्सा है.

शिरडी के निवासियों ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बयान पर ऐतराज जताते हुए कहा है कि साईंबाबा ने खुद अपने पूरी जीवनकाल में अपने जन्मस्थान का जिक्र नहीं किया. वे हमेशा ही सभी धर्मों को मानने वाले और अपनी जाति परवरदिगार बताते थे. उद्धव ठाकरे के बयान से नाराज बीजेपी सांसद सुजय विखे पाटिल ने इस मामले में 'कानूनी लड़ाई' की चेतावनी दी है.

शिरडी में सुबह से सभी दुकानें रहीं बंद
साई बाबा के जन्मस्थल को लेकर चल रहे विवाद के बीच रविवार को महाराष्ट्र के शिरडी में दुकानें, भोजनालय एवं विभिन्न व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे और वाहन भी सड़कों से नदारद रहें. मंदिर न्यास और अहमदनगर जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि बंद आधी रात को शुरू हुआ लेकिन शिरडी का साई मंदिर खुला रहा और श्रद्धालुओं ने वहां पूजा-अर्चना की. अधिकारियों के अनुसार शिरडी मंदिर के 'प्रसादालय' और 'लड्डू' बिक्री के केन्द्रों पर लंबी कतारें दिखीं.

इसे भी पढ़ें :- क्यों हो रहा है शिरडी के साईं बाबा के जन्मस्थान पर विवाद, मंदिर कर सकता है इस तरह विरोध

क्या है विवाद की असली जड़
ये विवाद तब शुरू हुआ जब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने भाषण में साईंबाबा की जन्मभूमि का नाम पाथरी बताया. पाथरी शिरडी से 275 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने परभणी जिले में स्थित पाथरी के विकास के लिए 100 करोड़ देने का ऐलान करते हुए इसे साईं की जन्मभूमि कहा था.इसे भी पढ़ें :- साईं बाबा के जन्मस्थल पर विवाद: उद्धव सरकार बना सकती है इतिहासकारों की कमेटी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 5:54 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर