उद्धव ठाकरे ने किया एशिया के सबसे बड़े डेटा सेंटर का ऑनलाइन उद्घाटन

उद्धव ठाकरे ने किया एशिया के सबसे बड़े डेटा सेंटर का ऑनलाइन उद्घाटन
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ये उद्घाटन ऑनलाइन किया. (फाइल फोटो)

ये डेटा सेंटर प्राइवेट कंपनी योट्टा इंफ्रास्ट्रक्चर (Yotta Infrastructure) का है जो हीरानंदानी ग्रुप (Hiranandani Group) से जुड़ी हुई है. इस डेटा सेंटर में 7200 रैक होंगे और 50 मेगावाट की बिजली के साथ 48 घंटे का बैकअप हमेशा बना रहेगा.

  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Balasaheb Thackeray) ने मुंबई के पनवेल (Panvel) में एशिया के सबसे बड़े डेटा सेंटर का उद्घाटन किया है. ये उद्घाटन ऑनलाइन किया गया. उद्घाटन के दौरान केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) भी ऑनलाइन जुड़े हुए थे. ये डेटा सेंटर प्राइवेट कंपनी योट्टा इंफ्रास्ट्रक्चर (Yotta Infrastructure) का है जो हीरानंदानी ग्रुप (Hiranandani Group) से जुड़ी हुई है. इस डेटा सेंटर में 7200 रैक होंगे और 50 मेगावाट की बिजली के साथ 48 घंटे का बैकअप हमेशा बना रहेगा.

ये NM1 पनवेल डेटा सेंटर पार्क की पांच बड़ी इमारतों में से एक में होगा. जब इन पांचों इमारतों में डेटा सेंटर का काम शुरू हो जाएगा तब यहां 30 हजार रैक मौजूद होंगे और 210 मेगावाट का बैकअप मौजूद रहेगा. हाल ही में NM1 डेटा सेंटर को अमेरिका की तरफ से फॉल्ट टॉलरेंट का टैग हासिल हुआ है. अमेरिका के Uptime Institute से दिया जाने वाला ये टैग वैश्विक स्तर पर मान्य होता है. इस टैग के साथ कंपनी अपने कस्टमर्स को बेहतर तरीके से काम का भरोसा दिला सकती है.


हीरानंदानी ग्रुप के सीईओ दर्शन हीरानंदानी ने कहा-'अगर वैश्विक तौर पर देखा जाए तो भारत में डेटा सेंटर की बहुत कमी है. जबकि भारत में डेटा कंजप्शन वैश्विक तुलना में बहुत ज्यादा है. कोरोना वायरस के बाद जिस तरह की स्थितियां बन रही हैं उनमें इस गैप को भरना बेहद जरूरी है. मांग को पूरा करने के लिए बेहतर डेटा सेंटर की जरूरतों को पूरा करना वक्त की मांग है.'



ये भी पढ़ें :-डिप्लोमेटिक बैग से मिला 30 किलो सोना, केरल के CM तक पहुंची आरोपों की आंच

गौरतलब कि 2020 का बजट पेश करते वक्त वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने डेटा सेंटर पार्क्स बनाने के लिए एक नई नीति प्रस्तावित की थी. वित्त मंत्री ने कहा था कि सरकार एक ऐसी नीति पर काम कर रही है जिससे पूरे देश में प्राइवेट कंपनियां डेटा सेंटर पार्क बना सकेंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज