Assembly Banner 2021

केरल चुनाव: सबरीमाला मुद्दे पर वीडियो शेयर कर फंसी कांग्रेस, विरोध के बाद हटाना पड़ा

सबरीमाला मंदिर (फाइल फोटो: Shutterstock)

सबरीमाला मंदिर (फाइल फोटो: Shutterstock)

Sabarimala Post Row: दावा किया गया है कि कांग्रेस (Congress) इस वीडियो के जरिए सबरीमाला मुद्दे को लेकर लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (LDF) पर निशाना साधना चाह रही थी. साल 2018 में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले में मंदिर में महिलाओं की एंट्री का समर्थन किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 9:27 PM IST
  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. साल 2018 में हुए सबरीमाला विवाद (Sabarimala Controversy) को लेकर कांग्रेस पार्टी ने एक वीडियो शेयर किया था. हालांकि, कड़ी आलोचना के बाद पार्टी को वीडियो हटाना पड़ा है. पार्टी की तरफ से जारी किए गए एक मिनट के वीडियो में भगवान अयप्पा के कुछ पुरुष भक्त पारंपरिक कपड़ों में और एक आधुनिक कपड़े पहने हुए युवती नजर आ रही है. खास बात है कि केरल में इस साल विधानसभा चुनाव (Kerala Assembly Election) होने हैं.

द न्यूज मिनट की रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस इस वीडियो के जरिए सबरीमाला मुद्दे को लेकर लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (LDF) पर निशाना साधना चाह रही थी. साल 2018 में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले में मंदिर में महिलाओं की एंट्री का समर्थन किया गया था. यह वीडियो राज्य में 2021 विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान का हिस्सा था.

यह भी पढ़ें: केरल: चुनाव से पहले सबरीमला, सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान दर्ज केस वापस लेगी विजयन सरकार



Youtube Video

क्या है वीडियो में
वीडियो की शुरुआत होती है, जहां कुछ पुरुष और मुंडुन नेरियाथुम पहने दो महिलाएं सबरीमाला जाने के लिए तैयार हैं. वे वीडियो में पूजा और मंत्रों का जाप करते हुए नजर आ रही हैं. इसी बीच एक विजुअल आता है, जिसमें एक युवती बैग टांगे, लिपस्टिक लगाकर सबरीमाला की ओर जाती हुई नजर आती है. यहां वीडियो का बैकग्राउंड म्यूजिक बदल जाता है.

वीडियो में आगे नजर आता है कि पुरुषों के पास से गुजर रही युवती जूते और हेडफोन पहने हुए है. पुलिस के बीच युवती सेल्फी लेती हुई नजर आती है. वीडियो में दिखाया जा रहा है कि पुलिस युवती के लिए रास्ता साफ कर रही है और वो 10 मिनट में दर्शन कर वापस लौट आती है. इस दौरान दो पारंपरिक महिलाएं इसे देखकर हैरान रह जाती हैं.

खास बात है कि बीजेपी और कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूडीएफ ने महिलाओं की एंट्री के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया था. जबकि, एलडीएफ ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को माना था. आलोचकों का कहना है कि वीडियो सांप्रदायिक और भ्रामक है. कड़े विरोध के बाद इसे हटा लिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज