बॉयफ्रेंड के साथ रहने के लिए महिला ने 9 दिन तक बच्चों को रखा कैद, बेटे की मौत

एक महिला ने अपने 1 साल के बेटे और 3 साल की बेटी को घर में इसलिए बंद कर दिया क्योंकि उसे अपने बॉयफ्रेंड (Boyfriend) के साथ रहना था. 9 दिन तक घर में बंद रहने से बेटी की तबियत बहुत ज्यादा बिगड़ गई और बेटे की मौत (Death) हो गई.

News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 8:09 PM IST
बॉयफ्रेंड के साथ रहने के लिए महिला ने 9 दिन तक बच्चों को रखा कैद, बेटे की मौत
बॉयफ्रेंड के साथ रहने के लिए महिला ने बच्चों को घर में किया कैद (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 8:09 PM IST
एक दिल दहलाने वाली ख़बर सामने आई है. जिसमें एक महिला ने अपने 1 साल के बेटे और 3 साल की बेटी को घर में इसलिए बंद कर दिया क्योंकि उसे अपने बॉयफ्रेंड (Boyfriend) के साथ रहना था. 9 दिन तक घर में बंद रहने से बेटी की तबियत बहुत ज्यादा बिगड़ गई और बेटे की मौत हो गई. यह मामला यूक्रेन (Ukraine) की राजधानी कीव (Kiev) का है. जहां 23 साल की एक महिला व्लादिस्लावा त्रोखिमचुक को बेटे की हत्या के लिए दोषी करार दिया गया है. यूक्रेन के एक कोर्ट (Court) ने 2016 में किए गए इस अपराध में 8 साल कैद की सजा सुनाई है.

महिला की इस हरकत के बारे में जब लोगों को पता चला और बचाव दल उसके फ्लैट पर पहुंचा तब तक उसके बेटे की मौत हो चुकी थी. द सन अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेन की इस मां ने बच्चों के साथ ऐसा क्रूर बर्ताव इसलिए किया था ताकि वह उन्हें बीमार दिखाकर ऑनलाइन डोनेशन (Online Donation) मांग सके.

बच्चों ने वॉलपेपर तक खाने की कोशिश की
कोर्ट में दाखिल किए गए दस्तावेजों के मुताबिक यह मां बच्चों को खाना और पानी बंद करके इसलिए रख रही थी ताकि उसके बच्चों का बुरा हाल हो जाए और वह उनके लिए लोगों से पैसे मांग सके. जांचकर्ताओं को घर में दीवार पर ऐसे निशान मिले, जिससे पता चला कि बच्चों ने घर में लगे वॉलपेपर (Wallpaper) तक भी खाने की कोशिश की थी.

महिला ने कहा, मैं भी देना चाहती थी बच्चों को अच्छी जिंदगी
हालांकि जब महिला की बर्बरता के बारे में कोर्ट में सुनवाई हुई तो महिला ने कहा कि वो खुद नहीं समझ पा रही है कि उसने ऐसा क्यों किया? उन्होंने यह भी कहा कि मैं खुद के लिए कारण नहीं ढूंढ़ पा रही हूं. मैं हमेशा बच्चों के लिए अच्छा चाहती थी. दोषी करार दिए जाने (Being Convicted) के बाद महिला ने कोर्ट में यह भी कहा कि वह अपने बच्चों को अच्छी पढ़ाई कराने और बेहतर जिंदगी देने का सपना देखती थी. हालांकि इस मामले में रिपोर्टिंग करने वाली एक स्थानीय टीवी पत्रकार ने बताया कि कोर्ट से बाहर आते हुए महिला हंस रही थी और उसे अपने किए का बिल्कुल भी पछतावा नहीं था.

यह भी पढ़ें: 4 महीने से ब्रेन डेड महिला बनी मां, डिलीवरी के 3 दिन बाद मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 8:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...