• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • सैन्य अभ्यास के लिए भारत पहुंचा UK का सबसे बड़ा युद्धपोत, नियाग्रा फॉल से भी ज्यादा है इसकी लंबाई

सैन्य अभ्यास के लिए भारत पहुंचा UK का सबसे बड़ा युद्धपोत, नियाग्रा फॉल से भी ज्यादा है इसकी लंबाई

ब्रिटेन में निर्मात हुए 65 हजार टन वजनी इस युद्धपोत की ऊंचाई नियाग्रा फॉल से भी ज्यादा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

HMS Queen Elizabeth in India: भारतीय क्षेत्र में इस ब्रिटिश समूह की मौजूदगी के साथ ही भारतीय सेना को भी पांचवीं पीढ़ी के F-35B लाइटनिंग मल्टी रोल एयरक्राफ्ट की क्षमताओं को जांचने का मौका मिलेगा. ब्रिटेन में निर्मित हुए 65 हजार टन वजनी इस युद्धपोत की ऊंचाई नियाग्रा फॉल से भी ज्यादा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. ब्रिटेन (Britain) का सबसे बड़ा युद्धपोत एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ की भारतीय समुद्री क्षेत्र में एंट्री हो गई है. यह विमानवाहक भारतीय नौसेना (Indian Navy) के साथ हिंद-प्रशांत महासागर में संयुक्त अभ्यास करेगा. खबर है कि ये अभ्यास अंडमान निकोबार आईलैंड्स के पास पूरे हो सकते हैं. इस दौरान भारतीय पनडुब्बियां, डेस्ट्रॉयर्स और P8I एंटी सबमरीन वारफेयर एयरक्राफ्ट भी शामिल होगा. ब्रिटेन ने हाल ही में गुरुग्राम स्थित इंफार्मेशन फ्यूजन सेंटर-इंडियन ओशियन रीजन (IFC-IOR) में अपना अंतरराष्ट्रीय संपर्क अधिकरी तैनात किया है.

    हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्टस के अनुसार, यह वाहक भारतीय नौसेना के युद्धपोतों के साथ बंगाल की खाड़ी में कोंकण अभ्यास में शामिल होगा. संभावना जताई जा रही है कि इसके बाद अपने देश लौटने के दौरान अक्टूबर में भी यह समूह अरब सागर में भारतीय सेना की तीनों सेवाओं के साथ अभ्यास में शामिल हो सकता है. तीन दिनों तक चलने वाले इस कार्यक्रम में तीनों सेनाओं के शामिल होने का अनुमान है.

    ब्रिटेन के रक्षा सचिव बेन वॉलेस ने इसे काफी अहम बताया है. उन्होंने कहा, 'समूह भारतीय समुद्री क्षेत्र में प्रवेश कर रहा है और जल्द ही भारतीय नौसेना के साथ अभ्यास करेगा.' एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ की इस पहली तैनाती के साथ ब्रिटेन का यह समूह 26 हजार नॉटिकल मील से ज्यादा का सफर तय करेगा और इस दौरान 40 देशों के साथ गतिविधियों में शामिल होगा.

    यह भी पढ़ें: एयरबेस पर ड्रोन दिखने के बाद अब जम्मू-पुंछ हाईवे पर मिला संदिग्ध बैग, ट्रैफिक रुका; मौके पर मौजूद सुरक्षाबल

    खास बात यह है कि भारतीय क्षेत्र में इस समूह की मौजूदगी के साथ ही भारतीय सेना को भी पांचवीं पीढ़ी के F-35B लाइटनिंग मल्टी रोल एयरक्राफ्ट की क्षमताओं को जांचने का मौका मिलेगा. ब्रिटेन में निर्मित हुए 65 हजार टन वजनी इस युद्धपोत की लंबाई नियाग्रा फॉल से भी ज्यादा है. इसके प्रोपेलर्स 50 तेज रफ्तार रेलगाड़ियों जितनी ताकत तैयार करते हैं.

    ब्रिटेन ने इस एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ और इसके टास्क फोर्स की इस पहली यात्रा को दो दशकों की सबसे महत्वाकांक्षी नौसैन्य तैनाती बताया है. कहा जा रहा है कि युद्धपोत साउथ चाइना सी में भी अमेरिकी नौसेना और जापान की मैरिटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स के साथ अभ्यास करेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज