उमा भारती की बीजेपी को नसीहत, कहा- राम या अयोध्या किसी की बपौती नहीं

राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगी उमा भारती.
राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगी उमा भारती.

मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और राम मंदिर आंदोलन (Ram Mandir Aandolan) में अहम भूमिका निभाने वाली उमा भारती ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य लोगों की पांच अगस्त को अयोध्या में भगवान राम के मंदिर शिलान्यास कार्यक्रम से वापसी के बाद ही रामलला के दर्शन करने पहुंचेंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 1:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और राम मंदिर आंदोलन (Ram Mandir Aandolan) में अहम भूमिका निभाने वाली उमा भारती (Uma Bharti) ने अपनी ही पार्टी को नसीहत दे डाली है साथ ही अपोजिशन से भी चेताया है. उज्जैन में भारती ने कहा कि आज पूरी दुनिया में खुशी की लहर है. विपक्षी पार्टियों के लिए बेहतर होगा कि वह इस में खलल ना डालें. विपक्ष के लोगों से मेरी अपील है कि वह एकता खंडित ना होने दें. इसी दौरान अपनी पार्टी को नसीहत देते हुए भारती ने कहा कि 'किसी को भी यह घमंड नहीं होना चाहिए कि राम के नाम पर हमारा पेटेंट हो गया है. राम अनंत हैं. अनादि हैं.' उन्होंने कहा कि 'राम के नाम पर किसी का पेटेंट नहीं हो सकता है. राम का नाम या अयोध्या बीजेपी की बपौती नहीं है. ये सबके हैं, जो बीजेपी में हैं या नहीं. जो किसी भी धर्म को मानते हो. जो राम को मानते हैं, राम उनके हैं.'

इससे पहले भारती ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य लोगों की पांच अगस्त को अयोध्या में भगवान राम के मंदिर शिलान्यास कार्यक्रम से वापसी के बाद ही रामलला के दर्शन करने पहुंचेंगी.





उमा ने ट्वीट किया, ‘कल जब से मैंने (केन्द्रीय गृह मंत्री) अमित शाह जी तथा भाजपा के नेताओं के बारे में कोरोना वायरस पॉजिटिव होने का सुना, तभी से मैं अयोध्या में मंदिर के शिलान्यास में उपस्थित लोगों के लिये ख़ासकर नरेंद्र मोदी जी के लिये चिंतित हूं. इसीलिये मैंने रामजन्मभूमि न्यास के अधिकारियों को सूचना दी है कि शिलान्यास के कार्यक्रम के मुहूर्त पर मैं अयोध्या में सरयू (नदी) के किनारे पर रहूँगी.’
उन्होंने कहा, ‘मै भोपाल से आज (सोमवार को) रवाना होऊंगी. कल (मंगलवार) शाम अयोध्या पहुंचने तक मेरी किसी संक्रमित व्यक्ति से मुलाकात हो सकती हैं. ऐसी स्थिति में जहां नरेंद्र मोदी और सैकडों लोग उपस्थित हों, मैं उस स्थान से दूरी रखूँगी.’

उमा ने कहा, 'तथा नरेंद्र मोदी और सभी समूह के चले जाने के बाद ही मैं रामलला के दर्शन करने पहुंचूंगी.' उन्होंने आगे कहा, 'यह सूचना मैंने अयोध्या में राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ अधिकारी और प्रधानमंत्री कार्यालय को भेज दी है कि माननीय नरेंद्र मोदी के शिलान्यास कार्यक्रम के समय उपस्थित समूह की सूची में से मेरा नाम अलग कर दें.' इससे एक दिन पहले, उमा ने ट्वीट किया था कि शनिवार को मुझे 4 अगस्त को अयोध्या पहुंचकर 6 अगस्त तक वहां रहने का निर्देश राम जन्मभूमि न्यास की ओर से मिला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज