• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • COVID-19: पूर्ण वैक्‍सीनेटेड लोग नवंबर से जा सकेंगे अमेरिका, लेकिन भारतीयों के सामने होगी ये बड़ी बाधा

COVID-19: पूर्ण वैक्‍सीनेटेड लोग नवंबर से जा सकेंगे अमेरिका, लेकिन भारतीयों के सामने होगी ये बड़ी बाधा

कोरोना वैक्‍सीन लगवा चुके लोगों के लिए अमेरिका ने खोले दरवाजे. (File pic)

कोरोना वैक्‍सीन लगवा चुके लोगों के लिए अमेरिका ने खोले दरवाजे. (File pic)

Corona Vaccination: अमेरिका ने नवंबर से देश में भारत समेत अन्‍य देशों के लिए अपने दरवाजे खोलने का ऐलान कर दिया है, लेकिन भारत के लोगों के लिए यह राह आसान नहीं होगी. ऐसा इसलिए कि यहां लोगों ने जो वैक्‍सीन लगवाई है वो अगर अधिकृत नहीं हुई तो भारतीयों के लिए क्‍या होगा? आइये जानते हैं अंतरराष्‍ट्रीय यात्रा के बारे में सबकुछ...

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. अमेरिका (United States) ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय यात्रा (International Travel) के लिए नई प्रणाली की घोषणा कर दी, जिसके तहत भारत, चीन और ब्राजील सहित किसी भी देश के ऐसे लोगों को नवंबर की शुरुआत से देश में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी, जिनका पूर्ण टीकाकरण (Fully Vaccinated) हो गया है. वाइट हाउस के अधिकारियों ने कहा कि भारत जैसे देशों में पूर्ण टीकाकरण (Corona Vaccination) करा चुके लोग अब अपने टीकाकरण प्रमाणपत्र के साथ अमेरिकी की यात्रा कर सकते हैं. उन्हें उड़ान भरने से पहले टीकाकरण का प्रमाणपत्र देना होगा.

    अमेरिका ने नवंबर से देश में भारत समेत अन्‍य देशों के लिए अपने दरवाजे खोलने का ऐलान कर दिया है, लेकिन भारत के लोगों के लिए यह राह आसान नहीं होगी. ऐसा इसलिए कि यहां लोगों ने जो वैक्‍सीन लगवाई है वो अगर अधिकृत नहीं हुई तो भारतीयों के लिए क्‍या होगा? आइये जानते हैं अंतरराष्‍ट्रीय यात्रा के बारे में सबकुछ…

    कौन सी वैक्‍सीन स्‍वीकार्य होंगी?
    विदेशी नागरिकों को यात्रा से पहले टीकाकरण का प्रमाण प्रस्तुत करना होगा और अमेरिका में पहुंचने पर क्‍वारंटाइन होने की आवश्यकता नहीं होगी. वाइट हाउस ने कहा कि कौन से टीके स्वीकार किए जाएंगे, इस पर अंतिम निर्णय यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) पर निर्भर है.

    सीडीसी की प्रवक्ता क्रिस्टन नोर्डलंड ने कहा कि सीडीसी किसी भी एफडीए-अधिकृत या स्‍वीकृत टीकों और विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की ओर से अधिकृत किसी भी टीके पर विचार करता है. एजेंसी द्वारा लंबित आवेदनों पर सूची को बदला जा सकता है.

    भारतीय टीकों के बारे में क्या स्थिति है?
    भारत बायोटेक की भारत निर्मित वैक्सीन कोवैक्सिन को अमेरिका में एफडीए द्वारा आपातकालीन इस्‍तेमाल के लिए मंजूरी नहीं दी गई थी. अमेरिका में आपातकालीन इस्‍तेमाल के लिए कोवैक्सिन के आवेदन को खारिज करते हुए एफडीए ने वैक्सीन के लिए क्‍लीनिकल ट्रायल पर अधिक डेटा की मांग की थी, जो अभी भी अधूरा है.

    भारत बायोटेक की कोवैक्सिन कोविड-19 वैक्सीन को विदेश में स्‍वीकृति लेने में रुकावटों का सामना करना पड़ रहा है क्‍योंकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से भी इसके सत्यापन के लिए तीसरे चरण के परीक्षण के आंकड़े आवश्‍यक हैं.

    सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ओर से कोविशील्ड के रूप में बनाई जा रही एजेडडी1222 कोरोना वैक्सीन को ब्रिटेन व यूरोपीय दवा नियामकों द्वारा इस्‍तेमाल के लिए अनुमति दी जा रही है. लेकिन इसकी अनुमति का आवेदन भी अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (USFDA) में लंबित है.

    क्या बच्चों को भी वैक्‍सीनेशन की आवश्यकता होगी?
    बच्चे अभी टीकाकरण में शामिल नहीं हैं. एयरलाइंस ने प्रतिबंध हटाने के लिए वाइट हाउस की भारी पैरवी की और ये कंपनियां अगस्त से नई योजना पर काम कर रही हैं.

    अम‍ेरिका का कदम
    वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रपति जो बाइडेन पर यूरोपीय नेताओं और प्रमुख एयरलाइंस कंपनियों द्वारा प्रतिबंध हटाने का दबाव रहा है. यह घोषणा तब हुई जब अमेरिका अफगानिस्तान से अपनी वापसी के बाद यूरोप में कूटनीतिक झटके का सामना कर रहा था और एक सुरक्षा समझौता अमेरिका ने ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन के साथ किया था, जिसने फ्रांस के साथ वाशिंगटन के संबंधों को प्रभावित किया है.

    एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने शुक्रवार को अमेरिका में फ्रांसीसी राजदूत फिलिप एटियेन के साथ यात्रा प्रतिबंधों पर चर्चा की. अधिकारी ने कहा कि राजनयिक विचारों ने प्रतिबंध हटाने के निर्णय में एक भूमिका निभाई, लेकिन कहा कि नीति विज्ञान द्वारा निर्देशित थी.

    एयरलाइंस और अन्य ट्रैवल कंपनियों ने कुछ सबसे आकर्षक बाजारों को खत्म करने वाले प्रतिबंधों को कम करने के लिए महीनों तक जोर लगाया है. लेकिन एयरलाइंस उद्योग के अधिकारियों ने कहा कि सोमवार की घोषणा पिछले हफ्ते की तरह अप्रत्याशित थी और नीतियों को कैसे लागू किया जाएगा, इसपर अभी काम करने की जरूरत है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज