Home /News /nation /

150 सदस्‍यों की गिरफ्तारी के बाद अब जमात-ए-इस्लामी संगठन पर बैन

150 सदस्‍यों की गिरफ्तारी के बाद अब जमात-ए-इस्लामी संगठन पर बैन

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जमात ने आतंक को बढ़ावा देने में सक्रिय भूमिका निभाई है

    केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर में जमात-ए-इस्लामी संगठन पर बैन लगा दिया है. इस संगठन पर गैर-कानूनी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है. पुलवामा में आंतकी हमले के बाद भारत सरकार ने कश्मीर में अलगाववादियों और जमात-ए-इस्लामी पर कड़ी कार्रवाई की है. पिछले कुछ दिनों से छापेमारी में इस संगठन के करीब 150 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

    पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जमात ने आतंक को बढ़ावा देने में सक्रिय भूमिका निभाई है. जम्मू और कश्मीर पुलिस के पूर्व डायरेक्टर जनरल के राजेंद्र मानते हैं, "उनके अंदर राष्ट्रविरोधी भावनाएं हैं और यही कश्मीर की समस्याओं की जड़ है."

    कश्मीर पुलिस के अधिकारियों ने पिछले दिनों न्यूज18 को बताया था कि ज्यादातर लोगों का मनाना है कि आतंकी जमात की विचारधारा से ही प्रभावित होते हैं और कश्मीर में होने वाले गुस्साई भीड़ के प्रदर्शनों के लिए भी ज्यादातर ये नेता ही जिम्मेदार होते हैं.

    जमात ए इस्लामी क्या है और कश्मीर में इसकी जड़ें कैसे जमीं?
    जमात-ए-इस्लामी की स्थापना एक इस्लामिक-राजनीतिक संगठन और सामाजिक आंदोलन के तौर पर 1941 में की गई थी. इसकी स्थापना अबुल अला मौदूदी ने की थी जो कि एक इस्लामिक आलिम (धर्मशात्री) और सामाजिक-राजनीतिक दार्शनिक थे.

    मुस्लिम ब्रदरहुड (इख्वान-अल-मुसलमीन, जिसकी स्थापना 1928 में मिस्त्र में हुई थी) के साथ जमात-ए-इस्लामी अपनी तरह का पहला संगठन था जिसने इस्लाम की आधुनिक संकल्पना के आधार पर एक विचारधारा को तैयार किया.

    ये भी पढ़ें:

    इमरान खान का ऐलान, कल रिहा होंगे वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन

    पुलवामा अटैक, एयर स्ट्राइक और विंग कमांडर अभिनंदन पर बॉलीवुड में घमासान, जानिए क्‍यों

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Balakot, Central government, Indian Airforce, Jammu and kashmir

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर