Assembly Banner 2021

भारत-चीन विवाद: पैंगॉन्ग झील पर कितनी पीछे हट रही दोनों सेना, 5 पॉइंट्स में समझें पूरी स्थिति

नए समझौते के तहत दोनों सेनाएं उत्तरी किनारे पर होनी वाली पेट्रोलिंग को अस्थाई रूप से रोकेंगे.

नए समझौते के तहत दोनों सेनाएं उत्तरी किनारे पर होनी वाली पेट्रोलिंग को अस्थाई रूप से रोकेंगे.

India-China Standoff: सदन में सीमा की जानकारी देने के दौरान राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने यह साफ किया है कि इस बातचीत में भारत का कोई भी नुकसान नहीं हुआ है. सिंह ने कहा है कि एलएसी पर जारी पुराने मसलों को लेकर बातचीत होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 1:55 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. करीब 10 महीनों से जारी भारत-चीन तनाव (India-China Conflict) पर विराम लगने के आसार हैं. इस बात के संकेत केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को दिए हैं. उन्होंने कहा है कि लद्दाख (Ladakh) में पैंगॉन्ग झील (Pangong Lake) के उत्तर और दक्षिण किनारे पर चीन के साथ सहमति बन गई है. चीन इस क्षेत्र से अपनी सेना को हटाने के लिए तैयार हो गया है. खास बात है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा यानि एलएसी (LAC) पर जारी विवाद में पैंगॉन्ग झील को बड़े इलाके के रूप में माना जाता है.

सदन में सीमा पर भारत और चीन के बीच वास्तविक हालात बताते हुए उन्होंने इस प्रक्रिया के बारे में भी बताया है. इस समझौते के बाद रक्षामंत्री सिंह ने हालात सुधरने की उम्मीद जताई है. आइए समझते हैं कि सीमा पर सेना वापसी का काम कैसे शुरू होगा और इस दौरान दोनों देशों की पोजिशन क्या होगी.

Youtube Video




यह भी पढ़ें: राज्यसभा में बोले राजनाथ सिंह- पैंगोंग झील को लेकर चीन के साथ डिसएंगेजमेंट का समझौता हुआ
48 घंटों में होनी है बातचीत
भारत-चीन सेना के बीच समझौते की बात को लेकर रक्षा मंत्री ने कहा है कि दोनों देशों के बीच सीनियर कमांडर स्तर की एक मीटिंग होगी. यह मीटिंग 48 घंटों के भीतर होनी है. कहा जा रहा है कि इस बातचीत में सीमा पर तनाव का कारण बने दूसरे मुद्दों पर भी बात की जाएगी.

दोनों सेनाओं की लोकेशन बदलेगी
इस समझौते के हिसाब से दोनों सेनाएं अग्रिम मोर्चे पर लौटेंगी. इसके बाद चीन की सेना नॉर्थ बैंक में फिंगर 8 की पूर्व दिशा की तरफ होगी. जबकि, भारतीय सेना की टुकड़ियां फिंगर 3 के पास स्थायी बेस धन सिंह थापा पोस्ट पर होंगी. वहीं, दक्षिण किनारे को लेकर भी सेनाएं इसी तरह की कार्रवाई करेंगी.

निर्माण हटेगा और पुरानी स्थिति लौटेगी
खबरें आती रही हैं कि चीन सीमा पर निर्माण करने की कोशिश कर रहा है. हालांकि, रक्षा मंत्री ने बताया कि 2020 में दक्षिण किनारे पर किए गए सभी निर्माणों को हटाया जाएगा. इसके बाद पुरानी स्थिति दोबारा बहाल की जाएगी.

फिलहाल रुकेगी पेट्रोलिंग
नए समझौते के तहत दोनों सेनाएं उत्तरी किनारे पर होनी वाली पेट्रोलिंग को अस्थायी रूप से रोकेंगे. इस दौरान कई और गतिविधियों पर भी रोक लगेगी. हालांकि, राजनीतिक स्तर पर बातचीत के बाद सीमा पर पेट्रोलिंग दोबारा शुरू हो सकेगी.

अब आगे क्या
सदन में सीमा की जानकारी देने के दौरान राजनाथ सिंह ने यह साफ किया है कि इस बातचीत में भारत का कोई भी नुकसान नहीं हुआ है. सिंह ने कहा है कि एलएसी पर जारी पुराने मसलों को लेकर बातचीत होगी. सरकार इस पर ध्यान दे रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज