मुंबई की हर बड़ी प्रॉपर्टी डीलिंग में अंडरवर्ल्ड का हाथ

Vivek Gupta | News18Hindi
Updated: October 13, 2017, 8:17 PM IST
मुंबई की हर बड़ी प्रॉपर्टी डीलिंग में अंडरवर्ल्ड का हाथ
मुंबई की हर बड़ी प्रॉपर्टी डीलिंग में अंडरवर्ल्ड का हाथ
Vivek Gupta | News18Hindi
Updated: October 13, 2017, 8:17 PM IST
दो दशकों के बाद भी मुंबई की हर बड़ी प्रॉपर्टी डीलिंग और हर एसआरए प्रोजेक्ट अंडरवर्ल्ड के इशारे पर हो रहा है. अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के कभी करीबी माने जाने वाले डी के राव की गिरफ्तारी से यह साफ हो गया है कि आज भी मुंबई और आस-पास के इलाकों के एसआरए प्रोजेक्ट पर किस तरह से अंडरवर्ल्ड हावी है. मुंबई क्राइम ब्रांच ने गैंगस्टर डी के राव के एक एसआरए प्रोजेक्ट में शामिल बिल्डर से पूरे 50 लाख की जबरन वसूली के आरोप में गिरफ्तार किया है.

एसआरए प्रोजेक्ट मतलब स्लम रिहेबिलिटेशन अथॉरिटी जिसमें सरकार झोपड़पट्टियों को हटा कर बड़े-बड़े बिल्डरों को इमारत बनाने का काम देती है. करोड़ों और अरबों रुपए के इन एसआरए प्रोजेक्ट में अंडरवर्ल्ड की भूमिका नई नहीं है पर पिछले कुछ सालों से मुंबई पुलिस दावा कर रही थी की उन्होंने शहर से अंडरवर्ल्ड का खात्मा कर दिया है औऱ सारे सरकारी प्रोजेक्ट बिना अंडरवर्ल्ड के चल रहे हैं.

लेकिन अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के कभी करीबी माने जाने वाले डी के राव को गिरफ्तारी से यह साफ हो गया है कि आज भी मुंबई और आस-पास के इलाकों में एसआरए प्रोजेक्ट में अंडरवर्ल्ड का पावर ही चलता है. मुंबई क्राइम ब्रांच ने गैंगस्टर डी के राव मुंबई के धारावी में चल रहे एक एसआरए प्रोजेक्ट में जबरन वसूली करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

मुंबई क्राइम ब्रांच के डीसी पी दिलीप सावंत का कहना है कि डी के राव को गिरफ्तार किया गया है उस पर 50 लाख की जबरन वसूली का आरोप था. वह पिछले साल ही जेल से बाहर आया है और उसने फिर से अपना गैंग बनाकर जबरन वसूली का काम शुरू किया था. इस मामले में कुछ और लोग भी गिरफ्तार हो सकते हैं.

पूर्व आईपीएस अधिकारी पी के जैन का भी मानना है कि एसआरए प्रोजेक्ट में पैसों का टर्नओवर काफी ज्यादा होता है और ऐसे प्रोजेक्ट में बिल्डरों को काफी फायदा भी पहुंचता है. इसलिए एसआरए प्रोजेक्ट शुरू से ही अंडरवर्ल्ड के निशाने पर रहता है. जानकारों का यह भी मानना है कि कभी-कभी अंडरवर्ल्ड डॉन बड़े-बड़े एसआरए प्रोजेक्ट को पाने के लिए अपने ही बिल्डरों को उतार देते हैं. करोड़ों के एसआरए प्रोजेक्ट को पाने के लिए अंडरवर्ल्ड कुछ भी करने को तैयार रहता है.

जैन के अनुसार एसआरए प्रोजेक्ट में अंडरवर्ल्ड हमेशा रहता है. प्रोजेक्ट के निकलने से लेकर उसे पाने तक हर जगह अंडरवर्ल्ड शामिल रहता है. करोड़ों रुपए के प्रोजेक्ट में अंडरवर्ल्ड को आसानी से पैसा कमाने का मौका मिलता है जिसमें अंडरवर्ल्ड सबसे अहम रहता है.

गैंगस्टर डी के राव की गिरफ्तारी से मुंबई पुलिस काफी सर्तक है पर पुलिस का दावा है कि वो किसी भी हालत में एक बार फिर से मुंबई शहर में एसआरए प्रोजेक्ट को लेकर अंडरवर्ल्ड को अपना पैर पसारने नहीं देगी.

ये भी पढ़ें-
बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में दाऊद, इंटरसेप्ट हुई बातचीत
पुलिस मतलब 'गंदा आदमी' और शूटर यानी 'कारीगर'


 
First published: October 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर