संयुक्त राष्ट्र के मंच से आज पाकिस्तान और चीन को एक साथ 'जवाब' देंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रध्याानमंत्री नरेंद्र मोदी (File Photo)
प्रध्याानमंत्री नरेंद्र मोदी (File Photo)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) का पहले से रिकॉर्ड किया जा चुका यह संबोधन न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा हॉल (United Nations General Assembly) में स्थानीय समयानुसार सुबह करीब नौ बजे (भारतीय समयानुसार शाम 6.30 बजे) होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2020, 8:21 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) को ऑनलाइन संबोधित करेंगे. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. कोरोना वायरस महामारी के कारण संयुक्त राष्ट्र महासभा का आयोजन ऑनलाइन किया जा रहा है. सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री का पहले से रिकॉर्ड किया जा चुका यह संबोधन न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा हॉल में स्थानीय समयानुसार सुबह करीब नौ बजे (भारतीय समयानुसार शाम 6.30 बजे) होगा. साथ ही उन्होंने कहा कि पूर्वाह्न में मोदी पहले वक्ता होंगे. सूत्रों ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासभा के जारी 75वें सत्र के दौरान भारत की प्राथमिकता आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक कार्रवाई को और मजबूत करने पर जोर देने की होगी.

'अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर प्रभावी प्रतिक्रिया' और 'अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए समावेशी और जिम्मेदार समाधान' का आह्वान कर सकते हैं. 'अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर प्रभावी प्रतिक्रिया'  के जरिए जहां चीन पर निशाना साधने की कोशिश होगी वहीं  'अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए समावेशी और जिम्मेदार समाधान' से पाकिस्तान को जवाब दिया जा सकता है.

भारत की प्राथमिकताओं को रेखांकित करेंगे PM
पीएम इस भाषण के जरिए भारत की प्राथमिकताओं को रेखांकित करेंगे. बता दें दो साल की अवधि के लिए जनवरी 2021 से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक गैर-स्थायी सदस्य का पद हासिल किया है.  भारत दो साल के लिए UNSC का एक गैर-स्थायी सदस्य है ऐसे में मोदी UN में भारत के '5 S' के दृष्टिकोण को आगे बढ़ा सकते है जिसमें सम्मान, संवाद, सहयोग, शांति और समृद्धि शामिल है.
सूत्रों ने कहा कि UNGA के 75 वें सत्र के दौरान भारत द्वारा उठाए जाने वाले मुद्दों की प्राथमिकता में 'आतंकवाद पर वैश्विक कार्रवाई को मजबूत करना' और 'आतंकी गतिविधियों में संलिप्त लोगों पर प्रतिबंध लगाने' की प्रक्रिया पर जोर देना शामिल होगा.



रिपोर्ट के अनुसार सूत्रों ने कहा कि यूएन पीसकीपिंग मिशन में सबसे अधिक सहयोग करने वाला देश होने के नाते संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों में और गहराई से शामिल होना चाहेगा. सूत्रों ने कहा कि इस दौरान सतत विकास और जलवायु परिवर्तन से जुड़े मुद्दों पर भारत की सक्रिय भागीदारी से भी दुनिया को अवगत कराया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज