स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों के लिए कोविन एप पर रजिस्‍ट्रेशन बंद, नहीं लगवा सकेंगे कोरोना वैक्सीन  

स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को वैक्‍सीन लगवाने में गड़बड़ी सामने आई है ऐसे में इन लोगों का रजिस्‍ट्रेशन कोविन एप पर बंद कर दिया गया है.

स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को वैक्‍सीन लगवाने में गड़बड़ी सामने आई है ऐसे में इन लोगों का रजिस्‍ट्रेशन कोविन एप पर बंद कर दिया गया है.

फ्रंटलाइन और हेल्‍थ वर्कर्स के दूसरी डोज लेने के लिए सरकार की ओर से कई बार आदेश दिया गया लेकिन दूसरी डोज लेने की संख्‍या बढ़ने के बजाय इस श्रेणी में कोविन एप में 25 प्रतिशत नए रजिस्‍ट्रेशन बढ़ गए. जबकि वैक्‍सीन की शुरुआत ही सरकार ने इस श्रेणी से की थी.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में कोरोना के खिलाफ 16 जनवरी से चल रहे कोरोना वैक्‍सीनेशन (Corona Vaccination) महाभियान में सबसे पहले वैक्‍सीन पाने के हकदार माने गए स्‍वास्‍थ्‍यकर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर्स (Health and Frontline Workers) अब वैक्‍सीन नहीं लगवा पाएंगे. केंद्र सरकार ने यह फैसला कोरोना वैक्‍सीन के रजिस्‍ट्रेशन (Corona Vaccination Registration) में सामने आ रहीं गड़बड़ियों को देखते हुए लिया है.

हाल ही में केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय के सचिव और राज्‍यों के प्रतिनिधियों की बैठक हुई. जिसमें इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया गया. बैठक में बताया गया कि कई राज्यों में स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंटलाइन श्रेणी में सामान्‍य लोगों को टीका दिए जाने के मामले सामने आए हैं. इस समूह के लोगों के लिए दूसरी डोज लेने के लिए सरकार की ओर से कई बार आदेश दिया गया लेकिन दूसरी डोज लेने की संख्‍या बढ़ने के बजाय 25 प्रतिशत नए रजिस्‍ट्रेशन बढ़ गए. जबकि वैक्‍सीन की शुरुआत ही सरकार ने इस श्रेणी से की थी. ऐसे में सवाल उठता है कि नए स्‍वास्‍थ्‍यकर्मी एक साथ कैसे बढ़ गए.

सरकार की ओर से  इस बीच स्वास्थ्य कर्मचारी और फ्रंटलाइन वर्कर को कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) की दूसरी डोज देने के लिए कई बार समयावधि बढ़ाई गई, जिसमें पहले 25 फरवरी और इसके बाद छह मार्च तक पहली डोज लेने वाले सभी लाभार्थियों को दूसरी डोज लेने की अपील की गई, इसके बावजूद दूसरी डोज लेने का प्रतिशत बढ़ने की जगह इस श्रेणी के नये लाभार्थियों की संख्या में 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई.

स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों के बाद सरकार ने दो फरवरी से इस क्रम में फंटलाइन वर्कर को भी जोड़ दिया और इन्‍हें टीका लगवाने के लिए प्रोत्‍साहित किया लेकिन सरकार ने अब इस श्रेणी के समूह के लिए सख्त आदेश जारी कर दिए हैं. ऐसे में कोरोना वैक्सीनेशन में गड़बड़ी की आशंका के चलते स्वास्थ्यकर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर की श्रेणी में अब कोई भी नया पंजीकरण नहीं किया जाएगा. आदेश को तत्काल प्रभाव से लागू करने के लिए सभी राज्यों को सूचना दे दी गई है.
अब लग रहा है 45 से ऊपर वालों को टीका

केंद्र सरकार ने एक मार्च से साठ साल से अधिक उम्र के लोगों के अलावा 45-49 आयुवर्ग के ऐसे लोगों को कोरोना वैक्‍सीनेशन में शामिल किया था जिन्‍हें जिन्हें एक साथ कई बीमारियां जैसे मधुमेह (Diabetes), आर्थराइटिस, सीओपीडी आदि हैं. इसके बाद एक अप्रैल से सरकार ने 45 साल से अधिक आयु वर्ग के सभी लोगों को वैक्सीन देने का फैसला किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज