• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल बोले- पहले दिन से ही सदन नहीं चलने की सोचकर बैठा था विपक्ष, जान बूझकर डाली गई बाधा

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल बोले- पहले दिन से ही सदन नहीं चलने की सोचकर बैठा था विपक्ष, जान बूझकर डाली गई बाधा

पीयूष गोयल ने कहा, इस सदन में विपक्ष के नेता ने हमारे मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फेंका.

पीयूष गोयल ने कहा, इस सदन में विपक्ष के नेता ने हमारे मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फेंका.

Parliament Monsoon Session: केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, 'पहले दिन से चेयरमैन आग्रह करते रहे कि कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किया जाए. लगातार सदन की कार्यवाही में बाधा डाली गई. पहले दिन से विपक्ष सोचे बैठा था कि सदन नहीं चलने देना है.'

  • Share this:

    नई दिल्ली. संसद का मानसून सत्र काफी हंगामेदार रहा. पेगासस और कुछ अन्य मुद्दों को लेकर सदन के पहले दिन से सरकार और विपक्ष में गतिरोध बना रहा. सदन की कार्यवाही बार-बार स्थगित होने पर राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि विपक्ष पहले दिन से सदन को चलने नहीं देना चाहता था. सदन का अपमान किया गया और उसकी गरिमा को तार-तार किया गया. उन्होंने कहा कि पेपर उछाले गए, महिला सुरक्षाकर्मी चोटिल हुईं, दरवाजे के कांच तोड़े गए ये सभी अशोभनीय कृत्य थे.

    केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, ‘पहले दिन से चेयरमैन आग्रह करते रहे कि कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किया जाए. लगातार सदन की कार्यवाही में बाधा डाली गई. पहले दिन से विपक्ष सोचे बैठा था कि सदन नहीं चलने देना है. बार-बार आश्वस्त करने के बावजूद विपक्ष के बड़े नेता कोविड से रिलेटेड मीटिंग्स में नहीं आए. पीएसी की मीटिंग में हमें 3 मुद्दे बताए गए, सरकार उन सभी मुद्दों पर चर्चा को तैयार थी, लेकिन विपक्ष ने पहले दिन से तय किया सदन को नहीं चलने देना हैं. जो इस उच्च सदन में विपक्ष ने अपना रवैया दिखाया वो अशोभनीय है.’

    नेताओं के हाथ से पेपर छीनकर फेंका
    उन्होंने कहा, ‘इस सदन में विपक्ष के नेता ने हमारे मंत्री के हाथ से पेपर छीनकर फेंका. लगातार चेयर का अपमान किया गया और विपक्ष को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए. दरवाजे के कांच को तोड़ा गया है, सिक्योरिटी स्टाफ से झगड़ा किया गया है, मोबाइल फ़ोन से कांच तोड़ा गया, ये सब रिकॉर्डेड है. सिक्युरिटी स्टाफ ने अपना संतुलन नहीं खोया.’

    सत्र में नहीं सुनी गई चेयरमैन की बात
    इस सत्र में विपक्ष ने कोई शिष्टाचार की बात नहीं की. चेयरमैन की भी बात नहीं सुनी गई. गोयल ने कहा कि जिस तरह से सेक्रेट्री जनरल टेबल टॉप के ऊपर हमला करने की कोशिश की गई, लेडी कांस्टेबल स्टाफ के गले पर चोट लगी, इससे पूरे सदन की गरिमा गिरी है. गोयल ने यहां तक कहा कि हमें भी बाहर आने से विपक्ष के मेंबर ने रोका. इस तरह का व्यवहार सदन को और देश को स्वीकार नहीं करना चाहिए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज