पीयूष गोयल ने कहा - काफी हद तक सुलझा लिए गए हैं अमेरिका के साथ व्यापार से जुड़े मुद्दे

वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा कि व्यापार वार्ताएं (Trade Talks) काफी जटिल होती हैं. हालांकि, भारत और अमेरिका के बीच व्‍यापार बातचीत के मामले में अच्छी प्रगति हो रही है. गोयल ने अमेरिका-भारत रणनीतिक भागीदारी मंच (USISPF) के कार्यक्रम में कहा कि दोनों देशों ने प्रस्तावित व्यापार पैकेज (Trade Package) की घोषणा के व्यापक तौर-तरीकों को तय कर लिया है.

वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा कि व्यापार वार्ताएं (Trade Talks) काफी जटिल होती हैं. हालांकि, भारत और अमेरिका के बीच व्‍यापार बातचीत के मामले में अच्छी प्रगति हो रही है. गोयल ने अमेरिका-भारत रणनीतिक भागीदारी मंच (USISPF) के कार्यक्रम में कहा कि दोनों देशों ने प्रस्तावित व्यापार पैकेज (Trade Package) की घोषणा के व्यापक तौर-तरीकों को तय कर लिया है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. भारत और अमेरिका (Indo-US) ने प्रस्तावित व्यापार पैकेज (Trade Package) से जुड़े बड़े मुद्दों (Issues) को काफी हद तक सुलझा लिया है. उम्‍मीद है कि इस पर सहमति की घोषणा जल्द हो जाएगी. वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा कि आने वाले दिनों में भारत-अमेरिका के संबंधों में और ज्‍यादा इजाफा हो सकता है. इसमें प्रस्‍तावित व्‍यापार पैकेज से भी आगे के द्विपक्षीय समझौते (Bilateral Agreements) की घोषणा भी हो सकती है. उन्होंने कहा कि आज तो हम मामूली फेरबदल ही कर रहे हैं.

    'अमेरिका की जापान-चीन के साथ व्‍यस्‍तता के कारण घोषणा में हुई देरी'
    गोयल ने कहा कि व्यापार वार्ताएं (Trade Discussions) काफी जटिल होती हैं. हालांकि, दोनों देशों के बीच बातचीत के मामले में अच्छी प्रगति हो रही है. गोयल ने अमेरिका-भारत रणनीतिक भागीदारी मंच (USISPF) के कार्यक्रम में कहा कि दोनों देशों ने घोषणा के व्यापक तौर-तरीकों को तय कर लिया है. पहली घोषणा को लेकर मुझे विशेष दिक्कत नहीं दिख रही है. उन्होंने कहा कि अब तक दोनों पक्ष कोई घोषणा कर चुके होते, लेकिन अन्य व्यस्तताओं के कारण इसमें देरी हुई. बता दें कि इस बीच अमेरिका की जापान (Japan) और चीन (China) के साथ बातचीत चल रही थी.

    'दोनों देशों के पास मौजूद क्षमता का दोहन करने की है जरूरत'
    वाणिज्य व उद्योग मंत्री ने कहा, 'मैं और अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइटहाइजर (Robert Lighthizer) इस बात को समझते हैं कि हमारे पास व्यापक क्षमता (Wide Capacity) है. हमें इसका दोहन (Exploitation) करने की जरूरत है. उम्‍मीद है कि हम करार (Agreement) के पहले सेट की घोषणा जल्द करेंगे. हम दोनों का ही मानना है कि दोनों देश अधिक व्यापक सहयोग कर सकते हैं. इसमें ऐसी द्विपक्षीय घोषणा भी संभव है जो आज तय किए जा रहे पैकेज से बढ़कर हो सकती है.' अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि की भारत यात्रा पर गोयल ने कहा कि जब भी दोनों पक्ष किसी निष्कर्ष पर पहुंचेंगे वह भारत आएंगे.

    पीयूष गोयल ने बताया कि वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय देश में निवेश के लिए सिंगल विंडो सिस्‍टम बनाने की कोशिश कर रहा है.


    तकनीक-कौशल के लिए अमेरिका की ओर देख रहा है भारत 
    पीयूष गोयल ने कहा कि दोनों देशों के संबंध सही दिशा में बढ़ रहे हैं. भारत प्रौद्योगिकी (Technology), कौशल (Skills) और गुणवत्ता (Quality) के लिए अमेरिका (US) की ओर देख रहा है. वहीं, अमेरिकी कंपनियों के लिए भारत आकर्षक बाजार हो सकता है. हम अमेरिकी कंपनियों को कुशल श्रमबल (Skilled Labour) उपलब्ध करा सकते हैं. उन्होंने बताया कि उनका मंत्रालय देश में निवेश (Investment) के लिए सिंगल विंडो सिस्‍टम (Single Window System) बनाने की कोशिश कर रहा है. इस समय दोनों देश एक व्यापार पैकेज के लिए बात कर रहे हैं, जिससे विभिन्न मुद्दों को दूर कर द्विपक्षीय व्यापार बढ़ाया जा सके.

    अमेरिका उत्‍पादों पर शुल्‍क कम करने का बनाया जा रहा दबाव
    अमेरिका भारत पर अपने उत्पादों पर शुल्क कम करने और व्यापार घाटे (Trade deficit) को नीचे लाने का दबाव बना रहा है. वहीं, भारत कुछ इस्पात और एल्युमीनियम उत्पादों पर ऊंचे शुल्क को नीचे लाने व प्राथमिकता की सामान्यीकृत प्रणाली (GSP) के तहत कुछ घरेलू उत्पादों का निर्यात फिर शुरू करने की मांग कर रहा है. वित्त वर्ष 2018-19 में अमेरिका को भारत का निर्यात 52.4 अरब डॉलर रहा. वहीं, अमेरिका से भारत का आयात 35.5 अरब डॉलर रहा. इस दौरान व्यापार घाटा कम होकर 16.9 अरब डॉलर पर आ गया, जो 2017-18 में 21.3 अरब डॉलर था. वित्त वर्ष 2018-19 में भारत को अमेरिका से 3.13 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) मिला.

    ये भी पढ़ें:

    राजनाथ सिंह ने कहा - पाकिस्‍तान को मुंहतोड़ जवाब देते रहेंगे हमारे सशस्‍त्र बल

    PAK ने पोस्‍टल मेल सेवा रोक अंतरराष्‍ट्रीय नियमों का किया उल्‍लंघन: रविशंकर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.