गुजरात उपचुनाव: स्मृति ईरानी का कांग्रेस पर कटाक्ष- जिनका दामाद जमीन खा जाएं, वो खाक दूसरे किसानों की जमीन बचाएंगे

स्मृति ईरानी की फाइल फोटो
स्मृति ईरानी की फाइल फोटो

केंद्रीय मंत्री (Smriti Irani) ने मानसून सत्र (Monsoon Session) में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की गैरमौजूदगी पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब संसद चल रही थी, तब वो वहां थे ही नहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2020, 8:09 AM IST
  • Share this:
वडोदरा. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा बीते मानसून सत्र (Monsoon Session) में पास किए गए तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रही कांग्रेस (Congress) पर अब भारतीय जनता पार्टी (BJP) की नेता और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने करारा हमला बोला है. स्मृति ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ड वाड्रा का नाम ना लेते हुए बड़ा आरोप लगाया. गुजरात में वडोदरा में उपचुनाव के लिए हो रही एक रैली में स्मृति ने कहा- 'जिसके दामाद किसानों की जमीन खा जाएं, वो दूसरे किसानों की क्या खाक जमीन बचाएंगे.'

'राहुल गांधी संसद में मौजूद तक नहीं थे...'
ईरानी ने राज्य स्थित मोरबी की एक रैली में भी कांग्रेस पर आक्रामक हमला बोला. उन्होंने कहा- किसानों के मुद्दे पर ईरानी ने दावा किया कि जब इस मुद्दे पर चर्चा की गई तब राहुल गांधी संसद में मौजूद तक नहीं थे. ईरानी ने कहा कि ‘वे स्वार्थी लोग हैं. वे हमेशा किसानों की बात करते हैं, लेकिन पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष और अमेठी के पूर्व सांसद जब इस मुद्दे पर चर्चा हुई तब संसद में मौजूद तक नहीं थे. कांग्रेस ने हमेशा किसानों का इस्तेमाल किया है.’

इससे पहले केन्द्रीय मंत्री ने कांग्रेस को एक डूबता हुआ जहाज करार देते हुए उन पर किसानों और उनके मुद्दों का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए करने का आरोप लगाया. कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर अप्रत्यक्ष रूप से वार करते हुए उन्होंने कहा कि कोई नहीं बता सकता कि वह कब छुट्टियों पर चलें जाए.
'कांग्रेस का एक नेता लोगों के बीच नहीं' 


ईरानी ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘ कांग्रेस को यह फैसला करने की जरूरत है कि उनका नेता कौन है. वह एक शख्स है या एक परिवार? राजनीति में, अगर आप एक परिवार के मोह में अंधे हैं तो गरीबों और मध्यमवर्ग के नागरिकों का दुख नहीं समझ सकते. क्योंकि कांग्रेस एक डूबता जहाज है, इसलिए मुझे आश्चर्य है कि वह मोरबी के लोगों की मदद कैसे कर पाएगी?’

उन्होंने कहा कि आज जब कोरोना वायरस फैला है, कांग्रेस का एक नेता लोगों के बीच नहीं है. वहीं दूसरी ओर, भाजपा कार्यकर्ता हर पल लोगों के साथ रह रहे हैं. कपड़ा तथा महिला एवं बाल विकास मंत्री ने गांधी का नाम लिए बिना कहा, ‘कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष संसद में भी मौजूद नहीं थे, वह छुट्टियों पर गए थे. वह तब वहां नहीं थे जब लोगों को उनकी जरूरत थी.’

ईरानी ने कहा कि ‘कोई नहीं बता सकता,जिन्हें पार्टी की कमान सौंपने की योजना बनाई जा रही है, वह कब छुट्टियों पर चले जाएं. उन्हें पता है उनकी पार्टी डूब रही है, तब भी वह छुट्टियों पर चले जाते हैं. ऐसी पार्टी पर अपना वोट बर्बाद ना करें. भाजपा का समर्थन करें, जिसने हमेशा आपकी सेवा की है.’

बता दें कि कांग्रेस नए कृषि कानूनों का जमकर विरोध कर रही है. अलग-अलग राज्यों में जिला इकाई तक पर कांग्रेस लगातार विरोध प्रदर्शन कर इन कानूनों को वापस लेने के लिए राष्ट्रपति से राज्यपाल तक को ज्ञापन भेज रही है. कांग्रेस का दावा है कि इन कानूनों से किसानों की आजादी छिन जाएगी. कांग्रेस शासित पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई वाली सरकार ने विधानसभा में केंद्र के कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया और तीन संशोधन विधेयक भी पेश किए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज