भगोड़े नीरव मोदी को जल्द भारत लाया जाएगा, UK के गृहमंत्री ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी

यूके की कोर्ट ने कहा है कि नीरव मोदी का प्रत्यर्पण भारत को किया जा सकता है. (फाइल फोटो)

यूके की कोर्ट ने कहा है कि नीरव मोदी का प्रत्यर्पण भारत को किया जा सकता है. (फाइल फोटो)

Extradition of Nirav Modi: समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, सीबीआई (CBI) के अधिकारी ने जानकारी दी है कि नीरव मोदी को भारत लाने की मंजूरी मिल गई है. उन्होंने बताया कि ब्रिटेन के गृहमंत्री ने इस बात को मंजूरी दे दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 16, 2021, 7:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटेन के गृह विभाग ने 13 हजार करोड़ रुपये की बैंक धोखाधड़ी में वांछित हीरा कारोबारी नीरव मोदी को भारत को प्रत्यर्पित करने की अनुमति प्रदान कर दी है. अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. नीरव मोदी पर अपने मामा मेहुल चोकसी के साथ मिलकर पंजाब नेशनल बैंक से धोखाधड़ी करने का आरोप है. उल्लेखनीय है कि बीते 25 फरवरी को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने मोदी के प्रत्यर्पण को मंजूरी दी थी. अदालत के फैसले की जानकारी ब्रिटेन के गृह विभाग को दी गई जिसके आधार पर नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए अनुमति दी गई.

ब्रिटेन की अदालत में लंबी कानूनी लड़ाई के बाद भारत को सफलता मिली है. ब्रिटेन की अदालत में ये कानूनी लड़ाई करीब 2 साल तक चली थी. भारत लाए जाने के बाद नीरव मोदी को मुंबई स्थित आर्थर रोड जेल में रखा जाएगा. सीबीआई के एक अधिकारी के हवाले से ANI ने जानकारी दी है कि नीरव मोदी को भारत लाने की मंजूरी मिल गई है. उन्होंने बताया कि ब्रिटेन के गृहमंत्री ने इस बात को मंजूरी दे दी है. नीरव मोदी को जल्द ही भारत लाए जाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. खास बात है कि नीरव मोदी के बाद सीबीआई ने उसके भाई निहाल मोदी पर भी शिकंजा कसा था.

यह भी पढ़ें: Nirav Modi Extradition: कोरोना काल में आसान नहीं थी लड़ाई, CBI के सबूतों के आगे धरी रह गईं नीरव मोदी की दलीलें

25 फरवरी को ब्रिटेन की कोर्ट ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के पक्ष में फैसला सुनाया था. आरोपी के लिए मुंबई स्थित आर्थर रोड जेल में खास सेल तैयार कराया गया है. एक जेल अधिकारी ने बताया कि भारत लाने के बाद नीरव मोदी को बैरक नंबर 12 की तीन सेल में से किसी एक में रखा जाएगा. ये हाई सिक्योरिटी बैरक है. आरोपी नीरव मोदी स्कॉटलैंड यार्ड की तरफ से जारी प्रत्यर्पण वारंट पर 19 मार्च 2019 के बाद से ही जेल में हैं.
11 मई 2020 को लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट्स कोर्ट में नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को लेकर पहली बार सुनवाई की गई थी. नीरव मोदी की टीम का नेतृत्व बैरिस्टर क्लेयर मॉन्टोग्मेरी कर रही थीं. इसके अलावा कोरोना वायरस के दौर में भी सीबीआई को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था.



अदालत में हुई सुनवाई के दौरान नीरव और उसकी लीगल टीम ने कई बार खराब स्वास्थ्य, राजनीतिक साजिश, भारत में जेल के हालात और सबूतों का अभाव होने का तर्क दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज