Assembly Banner 2021

भारत-पाकिस्तान के बीच हुए समझौते पर अमेरिका ने कहा- यह शांति की ओर बढ़ाया गया कदम

 (फोटो सौ. न्यूज18 इंग्लिश)

(फोटो सौ. न्यूज18 इंग्लिश)

भारत-पाकिस्तान के साझा बयान में कहा गया, ‘दोनों डीजीएमओ ने सहमति जतायी कि 2003 की मौजूदा सहमति का अक्षरश: पालन करना चाहिए.’

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 9:22 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन.अमेरिका (America) ने भारत और पाकिस्तान (India-Pakistan) की सीमा पर नियंत्रण रेखा और अन्य क्षेत्रों में संघर्ष विराम पर सभी समझौतों का सख्ती से पालन करने के लिए दोनों देशों के संयुक्त बयान का स्वागत किया है. अमेरिका ने  कहा है कि यह दक्षिण एशिया (South Asia) में अधिक शांति और स्थिरता की दिशा में एक सकारात्मक कदम है. व्हाइट हाउस (White House) के प्रेस सचिव जेन साकी ने भी गुरुवार को  कहा कि बाइडेन प्रशासन इस क्षेत्र में नेताओं और अधिकारियों की के साथ निकटता से जुड़ा हुआ है, जिसमें पाकिस्तान भी शामिल है.

पीटीआई के अनुसार साकी ने कहा 'अमेरिका, भारत और पाकिस्तान के बीच संयुक्त बयान का स्वागत करता है कि दोनों देशों ने 25 फरवरी से शुरू होने वाली नियंत्रण रेखा के साथ संघर्ष विराम के सख्त पालन को बनाए रखने के लिए सहमति व्यक्त की है. अमेरिका ने कहा 'यह दक्षिण एशिया में अधिक शांति और स्थिरता की दिशा में एक सकारात्मक कदम है जो हमारे साझा हित में है और हम दोनों देशों को इस प्रगति पर निर्माण करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं.'

साकी ने कहा कि संयुक्त बयान के बारे में पूछे जाने पर कि भारत और पाकिस्तान ने सख्ती से सहमति व्यक्त की है जम्मू और कश्मीर और अन्य क्षेत्रों में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर संघर्ष विराम पर सभी समझौतों का पालन करें.



भारत, पाकिस्तान ने संघर्ष विराम समझौतों का पालन करने पर जताई सहमति
गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर और अन्य क्षेत्रों में संघर्ष विराम संबंधी सभी समझौतों का सख्ती से पालन करने पर गुरुवार को सहमति जताई. वहीं, सैन्य अधिकारियों ने कहा कि आतंकवाद और घुसपैठ से लड़ने के लिए पाकिस्तान सीमा पर सैनिकों की तैनाती या सैन्य अभियानों में कमी नहीं की जाएगी. इस्लामाबाद और नयी दिल्ली में एक संयुक्त बयान जारी कर दोनों पक्षों ने कहा कि दोनों देशों के सैन्य अभियान महानिदेशकों (डीजीएमओ) ने हॉटलाइन संपर्क तंत्र को लेकर चर्चा की और नियंत्रण रेखा एवं सभी अन्य क्षेत्रों में हालात की सौहार्दपूर्ण एवं खुले माहौल में समीक्षा की.

संयुक्त बयान में कहा गया, ‘सीमाओं पर दोनों देशों के लिए लाभकारी एवं स्थायी शांति स्थापित करने के लिए डीजीएमओ ने उन अहम चिंताओं को दूर करने पर सहमति जताई, जिनसे शांति बाधित हो सकती है और हिंसा हो सकती है.’ इसमें कहा गया, ‘दोनों पक्षों ने 24-25 फरवरी की मध्यरात्रि से नियंत्रण रेखा एवं सभी अन्य क्षेत्रों में संघर्ष विराम समझौतों, और आपसी सहमतियों का सख्ती से पालन करने पर सहमति जताई.’ दोनों पक्ष ने दोहराया कि ‘किसी भी अप्रत्याशित स्थिति से निपटने या गलतफहमी दूर करने के लिए’ हॉटलाइन संपर्क और ‘फ्लैग मीटिंग’ व्यवस्था का इस्तेमाल किया जाएगा.

घोषणा के बारे में पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत, पाकिस्तान के साथ सामान्य पड़ोसी जैसे रिश्ते चाहता है और शांतिपूर्ण तरीके से सभी मुद्दों को द्विपक्षीय ढंग से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज