Unlock 1.0 डायरी: 7300 गैर-कोविड मरीजों को मिली कश्मीरी हेल्पलाइन से मदद

Unlock 1.0 डायरी: 7300 गैर-कोविड मरीजों को मिली कश्मीरी हेल्पलाइन से मदद
परिवहन की सुविधा मिलने के बाद दक्षिण भारत से अपने माता-पिता के साथ कश्मीर रवाना होने से पहले एक बच्ची (सांकेतिक फोटो, AP)

जैसे-जैसे भारत अनलॉक 1.0 (Unlock 1.0) में प्रवेश कर रहा है, हम आपको बता रहे हैं लॉकडाउन (Lockdown) से निकल रहे लोगों की दिलचस्प कहानियां.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. नये संक्रमण के मामलों और मौतों (New Infections and Deaths) के बढ़ते जाने के बीच मंगलवार को केंद्र सरकार (Central Government) की ओर से बताया गया कि भारत अभी कोविड-19 (Covid-19) के सबसे ज्यादा मामलों से अभी बहुत दूर है और इसके बचाव के उपाय बेहद कारगर रहे हैं.

जिससे पहले प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने जोर दिया कि देश अपनी आर्थिक प्रगति को फिर से जरूर पा लेगा और कहा कि इसके लिये सुधार के उपाय किये गये हैं. इस बीच जैसे-जैसे भारत अनलॉक 1.0 (Unlock 1.0) में प्रवेश कर रहा है, हम आपको बता रहे हैं लॉकडाउन से निकल रहे लोगों की दिलचस्प कहानियां-

गैर-कोविड मरीजों के लिये बनाई स्थानीय प्रशासन की हेल्पलाइन ने की 7300 मरीजों की मदद
कश्मीर (Kashmir) में स्थानीय प्रशासन ने एक विशेष हेल्पलाइन ऐसे मरीजों के लिये बनाई थी, जिन्हें कोविड-19 से अलग गंभीर बीमारियों का त्वरित इलाज चाहिये था. इस हेल्पलाइन ने ऐसे 7300 लोगों तक मदद पहुंचाई.



श्रीनगर के डिप्टी कमिश्नर शाहिद चौधरी ने इस बात की जानकारी दी. इन मरीजों को फ्री डायलिसिस, कीमोथेरेपी, जरूरी दवाएं और यातायात की सुविधा कड़े लॉकडाउन के बीच मुहैया कराई गई.



सागर जिले में कोविड-19 पीड़ित महिला ने दिया बच्ची को जन्म
एमपी के सागर जिले में कोविड-19 पीड़ित 24 साल की महिला ने एक बच्ची को जन्म दिया. महिला को संक्रमित पाये जाने के बाद बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज (BMC) में भर्ती कराया गया था, जहां डॉक्टरों ने सोमवार को महिला का सी-सेक्शन ऑपरेशन कर बच्ची को जन्म दिया. अब बच्ची का 24 घंटे के अंदर कोरोना वायरस टेस्ट किया जायेगा, क्योंकि उसकी मां कोरोना पॉजिटिव पाई जा चुकी है.

शादी के लिये बचाये पैसों से लोगों को खाना खिला रहे ऑटो रिक्शा चालक को मिली भारी मदद
पुणे के 30 साल के ऑटोरिक्शा चालक (Autorickshaw Driver) अक्षय कोठावाले अपनी बचत के 2 लाख रुपयों से लॉकडाउन के चलते शहर में फंसे हुए प्रवासियों (Migrants) की मदद कर रहे हैं. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक उन्होंने बताया कि यह पैसे उन्होंने अपनी शादी के लिए बचाये थे, जिसकी तारीख फिलहाल आगे बढ़ चुकी है.

पीटीआई ने बताया था, वे इन पैसों से अपने दोस्तों के साथ मिलकर कम से कम 400 लोगों के लिए रोज खाना बनवा रहे हैं. जिसके बाद वे शहर की सड़कों पर जाते हैं और प्रवासी मजदूरों (Migrant Labours) के बीच इस खाने को बांटते हैं.

मशहूर शेफ विकास खन्ना सहित कई लोगों ने अक्षय के काम में सहायता की और उन्हें लोगों को खाना खिलाने के लिये मदद दी थी. उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया है कि उन्हें लोगों से अपने प्रयास में 6 लाख की मदद मिली है.

यह भी पढ़ें: कोरोना संक्रमित सतह से बचने के लिए जानिए आपको किन बातों का ख्याल रखना जरूरी!
First published: June 3, 2020, 5:46 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading