Unlock 3.0: LG अनिल बैजल पर भड़के राघव चड्ढा, बोले- दिल्‍ली के लोगों के पेट पर मारी लात

Unlock 3.0: LG अनिल बैजल पर भड़के राघव चड्ढा, बोले- दिल्‍ली के लोगों के पेट पर मारी लात
आम आदमी पार्टी के प्रवक्‍ता और व‍िधायक राघव चड्ढा.

उपराज्यपाल अनिल बैजल (Lieutenant Governor Anil Baijal) द्वारा दिल्‍ली सरकार (Delhi Government) के अनलॉक-3 (Unlock-3) के दो अहम फैसले खारिज करने के बाद बवाल मच गया है. आप विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि केंद्र सरकार ने दिल्‍ली के लोगों के पेट पर लात मारने का काम किया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिल्ली (Delhi) के उपराज्यपाल अनिल बैजल (Lieutenant Governor Anil Baijal) द्वारा केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) के अनलॉक-3 (Unlock-3) के दो अहम फैसले खारिज करने के बाद बवाल मच गया है. आपको बता दें कि केजरीवाल सरकार ने दिल्‍ली में होटल खोलने और ट्रायल बेसिस पर एक हफ्ते के लिए साप्‍ताहिक बाजारों को खोलने की अनुमति दी थी, लेकिन इस एलजी रोक लगा दी है. इस पर आम आदमी पार्टी के प्रवक्‍ता और विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि दिल्ली वालों को पीड़ा और दुख देकर केंद्र सरकार आनंद का अनुभव कर रही है.

उपराज्यपाल पर लगाए ये आरोप
विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि पहले होम आइसोलेशन का फैसला पलटा, फिर दिल्ली दंगों के मामले में वकीलों की नियुक्ति के मामले में फैसला पलटा और अब होटल खोलने के साथ साप्ताहिक बाजार खोलने के फैसले पर रोक लगा दी. जबकि केंद्र सरकार के 8 जून के फैसले में होटल और साप्ताहिक बाजार खोलने की बात कही गई थी, लेकिन आज जब हम दिल्ली में खोलने जा रहे हैं तो केंद्र सरकार को अच्छा नहीं लग रहा है.

बीजेपी शासित राज्यों का है बुरा हाल
आप विधायक ने कहा कि बीजेपी शासित राज्यों में जहां यह महामारी इतनी फैल गई है कि लोगों को बेड नहीं मिल रहे, जैसे यूपी, गुजरात आदि का बुरा हाल है, लेकिन वहां पर केंद्र सरकार ने होटल और साप्ताहिक बाजार खोल दिए. गुरुग्राम में होटल और साप्ताहिक बाजार खोल दिए गए हैं, लेकिन दिल्ली में मना कर दिए गए हैं. साफ है कि केंद्र सरकार दिल्ली वालों से कोई विशेष बदला ले रही है. इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि जब बीजेपी शासित राज्यों होटल और साप्‍ताहिक बाजार खोले जा रहे हैं, तो दिल्ली में खोलने में क्या परेशानी है?



विधायक राघव चड्ढा ने की ये मांग
जब दिल्ली में हालात बेहतर हो गए हैं तो यह अनिवार्य है कि होटल और बाजार खुलें, लेकिन जिन राज्यों में लोग मर रहे हैं वहां पर तो आप होटल और साप्ताहिक बाजार खोल रहे हैं, लेकिन दिल्ली में नहीं खोल रहे हैं. दिल्ली सरकार का फैसला आप ने खारिज कर दिया. अर्थव्यवस्था को संजीवनी देने के लिए एक महत्वपूर्ण फैसला केजरीवाल सरकार ने लिया जिसमें होटल और साप्ताहिक बाजार खोलने का फैसला हुआ जिससे 15 से 20 लाख लोगों का प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार जुड़ा है. केंद्र सरकार ने इन लोगों के पेट पर लात मारने का काम किया है. साथ उन्‍होंने केंद्र सरकार से मांग की है कि वो ये फैसला वापस ले और दिल्‍ली में होटल खोलने व साप्ताहिक बाजार खोलने की अनुमति दे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading