Home /News /nation /

बीजेपी के पास क्या है यूपी जीतने का प्लान? आज रात 8 बजे देखें अमित शाह का सबसे बड़ा इंटरव्यू

बीजेपी के पास क्या है यूपी जीतने का प्लान? आज रात 8 बजे देखें अमित शाह का सबसे बड़ा इंटरव्यू

अमित शाह का अब तक का सबसे बड़े इंटरव्यू का प्रसारण नेटवर्क18 के ईटीवी के सभी हिंदी न्यूज चैनलों पर रविवार (29 जनवरी) रात आठ बजे होगा. साथ ही इस एक्सक्लूसिव इंटरव्यू को सीएनएन न्यूज18 और न्यूज18इंडिया पर भी रविवार (29 जनवरी) रात आठ बजे प्रसारित किया जाएगा.

अमित शाह का अब तक का सबसे बड़े इंटरव्यू का प्रसारण नेटवर्क18 के ईटीवी के सभी हिंदी न्यूज चैनलों पर रविवार (29 जनवरी) रात आठ बजे होगा. साथ ही इस एक्सक्लूसिव इंटरव्यू को सीएनएन न्यूज18 और न्यूज18इंडिया पर भी रविवार (29 जनवरी) रात आठ बजे प्रसारित किया जाएगा.

अमित शाह का अब तक का सबसे बड़े इंटरव्यू का प्रसारण नेटवर्क18 के ईटीवी के सभी हिंदी न्यूज चैनलों पर रविवार (29 जनवरी) रात 8 बजे होगा. साथ ही इस एक्सक्लूसिव इंटरव्यू को सीएनएन न्यूज18 और न्यूज18इंडिया पर भी रविवार (29 जनवरी) रात 9 बजे प्रसारित किया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...
    उत्तर प्रदेश की सत्ता से 15 साल से बाहर बीजेपी इस बार विधानसभा चुनाव में पूरे दमखम के साथ उतरी है. चुनाव की पूरी कमान खुद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने संभाल रखी है.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चमत्कार और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रणनीति के दम पर बीजेपी खुद को जीत का प्रबल दावेदार बता रही है. ऐसे में अमित शाह ने नेटवर्क18 को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू दिया, जिसमें उन्होंने बताने की कोशिश की कि वे क्यों बीजेपी की जीत के दावे कर रहे हैं?

    अमित शाह ने कहा कि यूपी में कई एंटी-इनकंबेसी फैक्टर हैं. इसके बावजूद यदि विपक्ष नोटबंदी पर जनमत संग्रह चाहता है तो हमलोग पूरी तरह तैयार हैं. नोटबंदी के मसले पर यूपी की जनता बीजेपी के साथ है.

    अमित शाह ने एक बार फिर दावा किया कि यूपी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी दो-तिहाई बहुमत से सरकार बनाने जा रही है. अखिलेश यादव खुद पारिवारिक कलह में उलझे हैं और इस वजह से यूपी की कानून-व्यवस्था बदतर हो रही है.

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रवक्ता मनमोहन वैद्य के आरक्षण पर दिए बयान पर भी अमित शाह ने खुलकर बात की. अमित शाह ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस ने इस मसले पर साफ कर दिया है कि मौजूदा व्यवस्था में आरक्षण जारी रहेगा. इस बार दुबारा समीक्षा का सवाल ही नहीं उठता.

    जब अमित शाह से यह पूछा गया कि आपने राम मंदिर को भाजपा के घोषणापत्र में क्यों शामिल किया, जबकि पार्टी पहले ही साफ कर चुकी है कि इस बार चुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ा जाएगा. भाजपा नेता ने कहा कि पार्टी का राम मंदिर को लेकर पहले से ही नीति साफ है. यह केवल संवैधानिक तरीके से ही बनाया जा सकता है. यह आपसी बातचीत या फिर अदालती आदेश के बाद ही हो पाएगा.

    इस इंटरव्यू में अमित शाह ने अपनी कई चुनावी रणनीति का भी खुलासा किया है. उन्होंने बताया है कि वे प्रतिद्वंद्वी दलों समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को किन मुद्दों पर घेरेंगे.

    बीजेपी वर्तमान अखिलेश यादव की सरकार पर गुंडा राज होने का आरोप लगा रही है, ऐसे में उनके पास गुंडा राज को खत्म करने का क्या प्लान है.

    शाह ने ये भी बताया कि वे सीएम अखिलेश के विकास के दावे का सच जनता के सामने कैसे रखेंगे. साथ ही उनकी पार्टी के पास उत्तर प्रदेश को देश के समृद्ध राज्यों की श्रेणी में लाकर उत्तम प्रदेश बनाने की क्या योजना है, वे राज्य के सबसे पिछड़े पश्चिमी हिस्से का विकास कैसे करेंगे, जैसे तमाम सवालों पर अमित शाह ने बेबाकी से अपनी राय जाहिर की है.

    अमित शाह का अब तक का सबसे बड़े इंटरव्यू का प्रसारण नेटवर्क18 के ईटीवी के सभी हिंदी न्यूज चैनलों पर रविवार (29 जनवरी) रात 8 बजे होगा. साथ ही इस एक्सक्लूसिव इंटरव्यू को सीएनएन न्यूज18 और न्यूज18इंडिया पर भी रविवार (29 जनवरी) रात  9 बजे प्रसारित किया जाएगा.

    यूपी में सात चरणों में वोटिंग

    उत्तर प्रदेश में 11 फरवरी से 8 मार्च के बीच सात चरणों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. कांग्रेस, राष्ट्रीय लोक दल और समाजवादी पार्टी के अखिलेश धड़े के बीच गठबंध के बावजूद बहुकोणीय मुकाबला देखने को मिलेगा.

    केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने के बाद जिस तरह से बीजेपी को दिल्ली और बिहार में करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है, वैसे में उत्तर प्रदेश का चुनाव प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. मुख्यमंत्री चेहरे को सामने न लाकर एक बार फिर बीजेपी ने पीएम मोदी के चेहरे पर दांव खेला है. इसका कितना फायदा उसे इन चुनावों में मिलेगा वह 11 मार्च को सामने आ ही जाएगा.

    ये होंगे मुद्दे

    इस बार उत्तर प्रदेश चुनावों में समाजवादी पार्टी में मचे घमासान के अलावा प्रदेश की कानून-व्यवस्था, सर्जिकल स्ट्राइक, नोटबंदी और विकास का मुद्दा प्रमुख रहने वाला है. जहां एक ओर बीजेपी और बसपा प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर अखिलेश सरकार को घेर रही हैं, वहीं विपक्ष नोटबंदी के फैसले को भी चुनावी मुद्दा बना रहा है.

    यूपी विधानसभा में कुल 403 सीटें हैं. 2012 के विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी ने 224 सीट जीतकर पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी. पिछले चुनावों में बसपा को 80, बीजेपी को 47, कांग्रेस को 28, रालोद को 9 और अन्य को 24 सीटें मिलीं थीं.

    Tags: Network 18

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर