महोबा के व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी को न्याय के लिए कांग्रेस ने छेड़ी मुहिम

इन्द्रकांत त्रिपाठी (File Photo)
इन्द्रकांत त्रिपाठी (File Photo)

कांग्रेस (Congress) द्वारा 'इन्द्रकांत त्रिपाठी को न्याय दो' के नाम से एक ऑनलाइन याचिका जारी की गई है. पार्टी नेताओं के अनुसार इस याचिका का उद्देश्य बुन्देलखंड के प्रत्येक गांव, तहसील से उठने वाली जनता की आवाज को महामहिम तक पहुंचाना है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2020, 2:58 PM IST
  • Share this:
महोबा. उत्तर प्रदेश में बुन्देलखंड (Bundelkhand) के कबरई क्षेत्र के क्रशर व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी की हत्या (Indrakant Tripathi Murder Case) के बाद उनके हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए कांग्रेस (Congress) ने 'इन्द्रकांत त्रिपाठी को न्याय दो' नाम से मुहिम छेड़ दी है. मामले में प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू (Ajay Kumar Lallu) ने योगी सरकार (Yogi Government) पर निशाना साधते हुए अधिकारी-अपराधी गठजोड़ का आरोप लगाया है.

शुरू किया ऑनलाइन याचिका का अभियान

बता दें कांग्रेस ने इस हत्याकांड को लेकर एक प्रतिनिधिमंडल गठित किया था, जिसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य सहित राकेश सचान, विनोद चतुर्वेदी, जयवंत सिंह, अनिल शर्मा सहित अन्य सदस्य थे. लेकिन इस प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों को को कबरई पहुंचने से पहले ही पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार कर लिया. अब इसी क्रम में 'इन्द्रकांत त्रिपाठी को न्याय दो' के नाम से एक ऑनलाइन याचिका कांग्रेस द्वारा जारी की गई है.



सरकार की नाकामी है कि हत्यारे पकड़े नहीं गए: रनीश जैन
सोशल मीडिया विभाग के स्टेट कोऑर्डिनेटर रनीश जैन ने बताया कि इस याचिका का उद्देश्य बुन्देलखंड के प्रत्येक गांव, तहसील से उठने वाली जनता की आवाज को महामहिम तक पहुंचाना है. यह योगी सरकार की नाकामी है कि अभी तक हत्यारे पहुंच से बाहर हैं.

mahoba indrakant2
कांग्रेस की ऑनलाइन याचिका


व्यापारी ने वीडियो जारी कर एसपी पर लगाए थे गंभीर आरोप

दरअसल इन्द्रकांत त्रिपाठी ने एक वीडियो जारी कर तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार पर 6 लाख रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए अपनी हत्या की आशंका जताई थी. वीडियो जारी होने के दूसरे दिन ही उन्हें गोली मार दी गई. बाद में इलाज के दौरान कानपुर में इन्द्रकांत कई मौत हो गई. कांग्रेस ने इन्द्रकांत त्रिपाठी को न्याय मिलने तक इस मुहिम को जारी रखने का एलान किया है.

तत्कालीन एसपी के खिलाफ केस है दर्ज

आपको बता दें कि इंद्रकांत त्रिपाठी का क्रशर है और वे माइनिंग के लिए विस्फोटक सप्लाई करते थे. 5 सितंबर को इद्रकांत त्रिपाठी ने एक वीडियो वायरल कर आरोप लगाया था कि एसपी मणिलाल पाटीदार के दबाव में उन्हें 6 लाख रुपये महीना घूस देते हैं. लेकिन, लॉकडाउन में धंधा मंदा हो जाने की वजह से जब उन्होंने आगे से घूस देने में असमर्थता ज़ाहिर की तो एसपी ने उनसे कहा कि अगर पैसा नहीं दोगे तो तुम्हें गोली मरवा देंगे. हमारे पास इतनी बड़ी फ़ोर्स है कि कोई तुम्हें कहीं भी गोली मार देगा. इसके बाद 8 सितंबर को उन्हें गोली मार दी गई. मामले में 9 सितंबर को आईपीएस मणिलाल पाटीदार को सस्पेंड करते हुए उनके खिलाफ हत्या की कोशिश की एफआईआर दर्ज की गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज