Home /News /nation /

चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश के नेता भजने लगे ‘हरे राम, हरे कृष्ण’

चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश के नेता भजने लगे ‘हरे राम, हरे कृष्ण’

हरनाथ सिंह यादव और अखिलेश यादव (FILE PHOTO)

हरनाथ सिंह यादव और अखिलेश यादव (FILE PHOTO)

UP Election 2022 : अखिलेश यादव अब श्रीकृष्ण के साथ-साथ रामलला से भी अपनी नजदीकी बढ़ाने नजर आ रहे हैं. खबर है कि वे 9 जनवरी को अयोध्या (Ayodhya) जा सकते हैं. वहां अस्थायी राम मंदिर में रामलला के दर्शन भी करेंगे. अगर ऐसा हुआ तो, संभवत: पहली बार अखिलेश यादव रामजन्मभूमि स्थल (Ram JanmaBhoomi Site) तक जाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. अगले कुछ महीनों में चुनाव (Election) में उतरने वाले उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के नेताओं को इन दिनों भगवान श्रीकृष्ण (Shri Krishna) नजर आ रहे हैं. ऐसे ही एक नेता हैं, भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राज्य सभा सदस्य हरनाथ सिंह यादव. और दूसरे समाजवादी पार्टी (SP) की अगुवाई कर रहे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav). सबसे पहले हरनाथ सिंह ने दावा किया कि उन्हें 2 जनवरी को सपने में भगवान श्रीकृष्ण (Shri Krishna) दिखे. उन्होंने उनसे कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) को मथुरा (Mathura) से विधानसभा चुनाव (Assembly Election) लड़ना चाहिए. इसीलिए, उन्होंने इस संबंध में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा को पत्र लिखा है. उनसे मांग की है कि वे योगी आदित्यनाथ को भगवान श्रीकृष्ण (Shri Krishna) की जन्मस्थली मथुरा (Mathura) से टिकट दें.
इसके बाद बारी अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की थी. उन्होंने भी अगले ही दिन श्रीकृष्ण (Shri Krishna) के सपने पर अपना दावा ठोक दिया. बोले, ‘मेरे सपने में अक्सर ही श्रीकृष्ण (Shri Krishna) आते हैं. वे कहते हैं- इस विधानसभा चुनाव (Assembly Election) के बाद उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी.
अब किसके सपने में श्रीकृष्ण आए, किसके में नहीं? इसका प्रमाण तो कोई दे नहीं सकता. लेकिन योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे दी. वे तुरंत बोले, ‘लखनऊ में कुछ लोग दावा कर रहे हैं कि उनके सपने में रोज श्रीकृष्ण आते हैं. आते होंगे लेकिन उन लोगों को यह बताने कि उन्हें अपनी असफलताओं के बारे में विचार करना चाहिए. श्रीकृष्ण तो उन्हें श्राप देते होंगे. क्योंकि उन्होंने श्रीकृष्ण के प्रति आस्था नहीं दिखाई, बल्कि कंस का पालन-पोषण किया है.’

लेकिन अखिलेश तो रामलला के दर्शन के लिए भी जाने वाले हैं :
योगी आदित्यनाथ कुछ भी कहें. अखिलेश यादव अब श्रीकृष्ण के साथ-साथ रामलला से भी अपनी नजदीकी बढ़ाने नजर आ रहे हैं. खबर है कि वे 9 जनवरी को अयोध्या (Ayodhya) जा सकते हैं. वहां अस्थायी राम मंदिर में रामलला के दर्शन भी करेंगे. अगर ऐसा हुआ तो, संभवत: पहली बार अखिलेश यादव रामजन्मभूमि स्थल (Ram JanmaBhoomi Site) तक जाएंगे.
इस संबंध में एक वरिष्ठ भाजपा नेता कहते हैं, ‘अपने अयोध्या दौरे पर अखिलेश अगर रामजन्मभूमि नहीं जाते, तो इससे विवाद खड़ा होने वाला है. और अगर जाते हैं तो उनका और उनकी पार्टी का दोहरा चरित्र उजागर होगा. क्योंकि उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने ही एक बार अपने शासनकाल में राम जन्मभूमि के कारसेवकों पर गोलियां चलवाई थीं.’
यानि तय मानिए कि ‘हरे राम हरे कृष्ण की यह राजनीति’ अभी कुछ महीने और चलने वाली है. जब तक उत्तर प्रदेश चुनावों के नतीजे नहीं आ जाते. वे नतीजे ही साबित करेंगे ‘राजनीति वाले राम-कृष्ण’ ने असल में, किसका कितना साथ दिया.

Tags: Akhilesh yadav, Ayodhya, BJP, Krishna, Mathura news, Ram, UP Election 2022, Yogi adityanath

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर