लाइव टीवी

CAA Protest: ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #KAMBALCHOR_UPPOLICE, प्रदर्शकारियों के कंबल ले जा रही पुलिस के वीडियो और फोटो वायरल

News18Hindi
Updated: January 19, 2020, 2:40 PM IST
CAA Protest: ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #KAMBALCHOR_UPPOLICE, प्रदर्शकारियों के कंबल ले जा रही पुलिस के वीडियो और फोटो वायरल
कंबल ले जाती यूपी पुलिस (तस्वीर सोशल मीडिया)

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) स्थित लखनऊ (Lucknow) के घंटाघर (Ghantaghar) में धरना दे रही महिलाओं ने आरोप लगाया कि काफी सर्दी होने के बावजूद पुलिस ने देर रात उनके कंबल छीन लिए. हालांकि पुलिस ने एक बयान जारी कर इस पर सफाई भी दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2020, 2:40 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश  (Uttar Pradesh) स्थित लखनऊ (Lucknow) के घंटाघर (Ghantaghar) पर संशोधित नागरकिता कानून (CAA) के खिलाफ महिलाओं का आंदोलन जारी है. वहीं शनिवार रात को उत्तर प्रदेश पुलिस के अधिकारियों ने घंटाघर पर कार्रवाई की और धरना दे रही महिलाओं को हटाने की कोशिश की.

इस दौरान वहां मौजूद लोगों ने दावा किया कि यूपी पुलिस धरना दे रही महिलाओं और अन्य लोगों का सामान 'चुरा' ले गई. लोगों ने दावा किया कि पुलिस उनके सोने और ओढ़ने के सामान पर पानी फेंक दिया. सोशल मीडिया पर भी लोगों ने तस्वीर शेयर कर यूपी पुलिस पर सवाल उठाए.

माइक्रोब्लॉगिंग साइट पर कुछ समय के लिए #KAMBALCHOR_UPPOLICE ट्रेंड करने लगा. ट्विटर पर लोग #KAMBALCHOR_UPPOLICE का इस्तेमाल कर अपनी बात रख रहे हैं.

शहनूर खान ने लिखा- '#KAMBALCHOR UP_POLICE पुलिस ने #NRC, #CAA के खिलाफ महिलाओं के शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के दौरान घंटाघर पर रजाई, बर्तनों  को गायब कर दिया. क्या यह पुलिस संविधान के खिलाफ कुछ करने से पहले सोचने में असमर्थ है या केवल सरकारी आदेश का पालन करती है. शर्म करो शर्म करो..'

CAA, Citizenship Amendment Act, clock tower, Hussainabad, Lucknow, National Register of Citizens, nrc

पुलिस ने दी सफाई
कुछ लोगों ने इससे जुड़े वीडियो और तस्वीरें भी पोस्ट की. हालांकि पुलिस ने एक बयान जारी कर इस पर सफाई दी है. पुलिस का कहना है कि कुछ सामाजिक संगठन इन महिलाओं को कंबल दे रहे थे तभी बड़ी संख्या में अन्य लोग जो इस धरने में शामिल नहीं थे, वे भी कंबल लेने के लिए वहां पहुंच गए. भीड़ और अफरातफरी को रोकने के लिए उन्होंने वहां से कंबल हटवाए हैं.CAA, Citizenship Amendment Act, clock tower, Hussainabad, Lucknow, National Register of Citizens, nrc

शाहीनबाग की तर्ज पर आगे आईं महिलाएं
बता दें संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) के विरोध में  खुले आसमान के नीचे पिछले शुक्रवार से बड़ी संख्या में महिलाएं दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर पुराने लखनऊ स्थित घंटाघर के सामने प्रदर्शन कर रही हैं. उनके साथ बच्चे भी हैं.

प्रदर्शन कर रही महिलाओं का कहना है कि सरकार जब तक सीएए और एनआरसी को वापस नहीं लेती है तब तक वह अपना धरना समाप्त नहीं करेंगी. महिलाओं के धरने को सामाजिक संगठनों और आम नागरिकों का भी समर्थन मिल रहा है.



शनिवार रात सिख समुदाय के कुछ लोगों ने धरना स्थल पर पहुंचकर महिलाओं को खाने पीने का सामान दिया. उन्होंने कहा कि सीएए के दायरे से जिस तरह से मुसलमानों को बाहर रखा गया वह देश की गंगा जमुनी तहजीब के खिलाफ है, लिहाजा वह इन महिलाओं का समर्थन करते हैं. (एजेंसी इनपुट के साथ)

यह भी पढ़ें:  शादी के कार्ड पर CAA और NRC के समर्थन में छपवाया संदेश, आप भी देखें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 19, 2020, 2:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर